Health Education

Peripheral Artery Disease

  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Complications
  • Treatment
  • Medications

When leg arteries become narrowed or blocked by plaque it causes peripheral Arterial Disease (PAD), a condition that raises the risk of heart attack, stroke, leg amputation and death. As patients are unaware of this condition generally, PAD remains under-diagnosed and under-treated. In PAD, characteristically, there is a reduction in blood flow to the lower extremities due to plaque build-up in the leg arteries (also known as atherosclerosis). A combination of fats, cholesterol and other substances constitutes plaque. Size of plaque can grow to significantly reduce blood flow through an artery.

Blood flow to the legs and feet is reduced when leg arteries are hardened and clogged. Peripheral arteries remain blocked, completely or partially, and cause pain, changes in skin color and temperature, sores or ulcers and difficulty walking. PAD, if left untreated, can lead to Critical Limb Ischemia (CLI), a condition where not enough blood is being delivered to the leg to keep the tissue alive. Gangrene ensues due to total loss of circulation to the legs and feet leading to amputation. Hardened arteries, in addition, found in people with PAD are a sign that they are likely to have hardened and narrowed arteries to the heart and the brain. That is why people with PAD are at high risk for having a heart attack or a stroke. They may become disabled and not be able to go to work, with poor quality of life.


Risk Factors

PAD is a chronic disease with risk factors that include:

  • Cigarette smoking
  • Diabetes
  • Being overweight (a body mass index over 30)
  • Raised blood pressure (140/90 millimeters of mercury or higher)
  • High cholesterol (total blood cholesterol over 240 milligrams per deciliter)
  • Advancing age, especially after reaching 50 years of age
  • Positive family history of peripheral artery disease, heart disease or stroke
  • Increased homocysteine, a protein component that helps build and maintain tissue

Smokers or people with diabetes have the greatest risk of developing peripheral artery disease due to reduced blood flow.


Atherosclerosis is the main cause of peripheral artery disease. Fatty deposits (plaques) build up in your artery walls and reduce blood flow in atherosclerosis. This disease can and usually does affect arteries throughout your body although the heart is usually the focus of discussion of atherosclerosis. Atherosclerosis in the arteries supplying blood to your limbs causes peripheral artery disease. The cause of peripheral artery disease, less commonly, may be blood vessel inflammation, injury to your limbs, unusual anatomy of your ligaments or muscles, or radiation exposure.


Generally, most people with peripheral artery disease have mild or no symptoms. Some people have leg pain when walking (intermittent claudication). The symptoms of intermittent claudication include muscle pain or cramping in your legs or arms that's triggered by activity, such as walking, but disappears after a few minutes of rest. Pain is localised to the area supplied by the clogged or narrowed artery. Pain in the calf is the most common location.

There is a wide variation in the severity of intermittent claudication, ranging from mild discomfort to debilitating pain. Walk or doing other types of physical activity could be a hard task due to severe intermittent claudication.

Other symptoms of peripheral artery disease include:

  • Cramps and pain in your hip, thigh or calf muscles after activity, such as walking or climbing stairs (intermittent claudication)
  • Numbness or weakness in leg
  • Feeling cold in your lower leg or foot, especially when compared with the other side
  • Ulcers on your toes, feet or legs that won't heal
  • Color change of your legs
  • Loss of hair or slower hair growth on your feet and legs
  • Decreased growth of your toenails
  • Shiny skin on your legs
  • Absent pulse or a weak pulse in your legs or feet
  • Erectile dysfunction in men

Progression of peripheral artery disease can lead to pain that may even occur when you're at rest or when you're lying down (ischemic rest pain). Its intensity could be strong enough to disrupt sleep. Temporary relief could be obtained by hanging your legs over the edge of your bed or walking around your room.


To diagnose peripheral artery disease, your doctor may rely on the following tests:

  • Physical exam. On physical examination, your doctor may find signs of PAD such as a weak or absent pulse below a narrowed area of your artery, whooshing sounds (bruits) over your arteries that can be heard with a stethoscope, evidence of poor wound healing in the area where your blood flow is restricted, and decreased blood pressure in your affected limb.
  • Ankle-brachial index (ABI). One of the most common tests to diagnose PAD is ABI. The doctor will compare the blood pressure in your ankle with the blood pressure in your arm. Your doctor uses a regular blood pressure cuff to get a blood pressure reading and a special ultrasound device to evaluate blood pressure and flow. Doctor will ask you to walk on a treadmill and have readings taken before and immediately after exercising to capture the severity of the narrowed arteries during walking.
  • Ultrasound. Doppler ultrasound is a special ultrasound imaging technique that can help your doctor evaluate blood flow through your blood vessels and identify blocked or narrowed arteries.
  • Angiography. In this test a dye (contrast material) is injected into your blood vessels to view blood flow through your arteries as it happens. The flow of the contrast material is traced using imaging techniques, such as X-ray imaging or procedures called magnetic resonance angiography (MRA) or computerized tomography angiography (CTA). Another invasive procedure is catheter angiography. It involves guiding a catheter through an artery in your groin to the affected area and injecting the dye that way. This type of angiography, although invasive, allows for simultaneous diagnosis and treatment — finding the narrowed area of a blood vessel and then widening it with an angioplasty procedure or administering medication to improve blood flow.
  • Blood tests. Blood tests need to be conducted to measure your cholesterol and triglycerides and to check for diabetes.


Plaque buildup in blood vessels leading to peripheral artery disease (atherosclerosis) leads to a risk of developing:

  • Critical limb ischemia. Beginning of this condition is as open sores that don't heal, or an injury/ infection of your feet or legs. When such injuries or infections progress critical ischemia occurs and can cause tissue death (gangrene), sometimes requiring amputation of the affected limb.
  • Stroke and heart attack. Process of plaque formation and atherosclerosis that causes the signs and symptoms of peripheral artery disease isn't limited to your legs. Fat deposits also build up in arteries supplying your heart and brain.


There are two major goals of treatment for peripheral artery disease. Managing symptoms, such as leg pain, so that you can resume physical activities is the primary goal. To stop the progression of atherosclerosis throughout your body to reduce your risk of heart attack and stroke is the secondary goal.

These goals can be accomplished with lifestyle changes. Quitting the smoking habit is the single most important thing you can do to reduce your risk of complications. You need additional medical treatment if lifestyle changes are not enough. Your doctor may prescribe medicine to prevent blood clots, lower blood pressure and cholesterol, and control pain and other symptoms.


  • Cholesterol-lowering medications. The doctor may prescribe you a cholesterol-lowering drug called a statin to reduce your risk factor of heart attack and stroke. The goal for people who have peripheral artery disease is to reduce low-density lipoprotein (LDL) cholesterol, the "bad" cholesterol, to less than 100 milligrams per deciliter (mg/dL), or 2.6 millimoles per liter (mmol/L). This goal is reduced further if you have additional major risk factors for heart attack and stroke, especially diabetes or continued smoking.
  • High blood pressure medications. If your blood pressure is high, your doctor may prescribe medications to lower it. This therapy aims to reduce your systolic blood pressure (the top number of the two numbers) to 140 millimeters of mercury (mm Hg) or lower and your diastolic blood pressure (the bottom number) to 90 mm Hg or lower. Your blood pressure target is under 130/80 mm Hg if you have diabetes.
  • Medication to control blood sugar. It becomes even more important to control your blood sugar (glucose) levels if you also have diabetes. Discuss what your blood sugar goals are with your doctor and find out what steps you need to take to achieve these goals.
  • Medications to prevent blood clots. It's important to reduce your risk of blood clots as peripheral artery disease is related to reduced blood flow to your limbs. Complete blockage can occur due to a blood clot in an already narrowed blood vessel and cause tissue death. Daily aspirin may be prescribed by your doctor to help prevent blood clots.
  • Symptom-relief medications. Many medications like cilostazol are available these days that increase blood flow to the limbs, both by preventing blood clots and by widening the blood vessels. This drug is indicated to treat symptoms of claudication, such as leg pain, for people who have peripheral artery disease.

Angioplasty and surgery

In extreme cases, angioplasty or surgery may be necessary to treat peripheral artery disease that's causing intermittent claudication:

  • Angioplasty. A small hollow tube (catheter) is threaded through a blood vessel to the affected artery in this procedure. A small balloon on the tip of the catheter is inflated at that point to reopen the artery and flatten the blockage into the artery wall, while at the same time stretching the artery open to increase blood flow. It may be required to insert a mesh framework called a stent in the artery to help keep it open. This is the same procedure doctors use to open heart arteries.
  • Bypass surgery. In this procedure your doctor may create a graft bypass using a vessel from another part of your body or a blood vessel made of synthetic fabric. This technique allows blood to flow around — or bypass — the blocked or narrowed artery.
  • Thrombolytic therapy. Your doctor may inject a clot-dissolving drug into your artery, if you have a blood clot blocking an artery, at the point of the clot to break it up.

Supervised exercise program

Your doctor may prescribe a supervised exercise training program, in addition to medications or surgery, to increase the distance you can walk pain-free. Regular exercise improves symptoms of PAD by a number of methods, including helping your body use oxygen more efficiently.

Lifestyle Measures

The symptoms of peripheral artery disease can be managed effectively with lifestyle measures and the progression of the disease can be slowed, especially by quitting smoking. To stabilize or improve PAD:

  • Stop smoking. Constriction and damage of your arteries is contributed by smoking and is a significant risk factor for the development and worsening of PAD. Quitting is the most important thing you can do to reduce your risk of complications. Ask your doctor about smoking cessation options if you're having trouble quitting on your own. There are medications available to help you quit.
  • Exercise. It is important to exercise regularly to ensure success in treatment of PAD. Success is often measured by how far you can walk without pain. Proper exercise helps condition your muscles to use oxygen more efficiently. With the help of your doctor, you can develop an appropriate exercise plan. He or she may refer you to a claudication exercise rehabilitation program.
  • Eat a healthy diet. A diet low in saturated fat can help control your blood pressure and cholesterol levels, which contribute to atherosclerosis.
  • Avoid certain cold medications. Remedies for cough and cold that are available over-the-counter contain pseudoephedrine that can constrict your blood vessels and may increase your PAD symptoms.

Careful foot care

Care of the feet is very important in addition to the above suggestions. Follow this advice to care for your feet:

  • Daily washing of feet is important. After washing dry them thoroughly and moisturize often to prevent cracks that can lead to infection. Don't moisturize between the toes, however, as this can encourage fungal growth.
  • Your shoes should be well-fitting.
  • Treat aggressively any fungal infections of the feet, such as athlete's foot.
  • Take care when trimming your nails.
  • Don't walk barefoot.
  • Treat bunions, corns or calluses.
  • Consult a doctor at the first sign of a sore or injury to your skin.


Maintain a healthy lifestyle to prevent claudication. That means:

  • Quit smoking.
  • Keep your blood sugar in good control if you have diabetes.
  • Regular exercise is a must. Aim for 30 minutes at least three times a week after you've gotten your doctor's OK.
  • Reduce your cholesterol and blood pressure levels, if applicable.
  • Eat foods that are low in saturated fat.
  • Be in your healthy weight range.

परिमीतीय धमनी रोग

  • विहंगावलोकन
  • जोखमीचे घटक
  • कारणे
  • लक्षणे
  • क्लिष्टता
  • निदान
  • उपचार

किटणद्वारे पायामधील धमन्या अरूंद किंवा अवरोधित होण्यामुळे हृदयरोग, आघात, पायाचे विच्छेदन आणि मृत्यूची जोखीम वाढविणारी स्थिती, परिमीतीय धमनी रोग (PAD) होतो. या स्थितीची रूग्णांना जाणीव नसल्याने, PAD चे निदान आणि त्यावर उपचार होत नाहीत. PAD मधील, वैशिष्ट्य असलेला, पायाच्या धमन्यांमध्ये किटण निर्माण झाल्याने (धमन्यांचे कठीण होणे या रूपात देखील ओळखला जाणारा), रक्त प्रवाह अत्यंत कमी होतो. चरबींचे मिश्रण, कोलेस्टेरॉल आणि इतर पदार्थ मिळून किटण तयार होतो. धमन्यांमधील रक्तप्रवाह बर्यापैकी कमी करता येईल इतका किटणचा आकार वाढू शकतो.


पायाच्या धमनी कठीण आणि बंद होतात तेव्हा पाय आणि पाऊलांमधील रक्तप्रवाह कमी होतो. परिमीतीय धमनी पूर्णत: किंवा अंशत: अवरोधित केलेल्या राहतात, आणि त्यामुळे वेदना, त्वचेच्या रंगात आणि तापमानात बदल, फोड किंवा जखम आणि चालण्यास त्रास होऊ शकतो. PAD चा उपचार न घेतल्यास, रक्तवाहिन्या अरूंद झाल्याने हाता पायांना रक्तपुरवठा कमी झालेली गंभीर स्थिती (CLI), निर्माण होते ज्यामध्ये ऊतके जिवंत ठेवण्यासाठी पायास पुरेसे रक्त पाठविले जात नाही. जीवकोश गटांच्या मरणामुळे पाय आणि पाऊलांधील अभिसरण पूर्णपणे थांबते ज्यामुळे अंगविच्छेदन करावे लागतात. PAD असलेल्या लोकांमध्ये, या व्यतिरिक्त कठीण झालेल्या धमन्या आढळणे हे त्यांच्या हृदय आणि मेंदूच्या धमन्या कठीण आणि अरूंद होण्याची शक्यता असण्याचे चिन्ह असते. म्हणून PAD असलेल्याले लोकांना हृदयविकाराच्या झटक्याची किंवा आघाताची सर्वात जास्त जोखीम असते. ते अक्षम होतात आणि वाईट दर्जाच्या जीवनामुळे, कार्य करण्यास सक्षम असू शकत नाहीत.

जोखमीचे घटक

PAD हा जुना आजार असून त्याचे जोखीम घटक हे समाविष्ट करतात:

  • धूम्रपान
  • मधुमेह
  • अधिक वजन असणे, (30 वरील बॉडी मास इंडेक्स)
  • वाढलेला रक्तदाब (पार्याचे 140/90 मिलीमीटर किंवा त्यापेक्षा जास्त)
  • उच्च कोलेस्टेरॉल (प्रति डेसिलीटर रक्तामधील एकूण कोलेस्टरॉल 240 मिलीग्रॅम्स पेक्षा जास्त)
  • वाढते वय, विशेषत: वयाची 50 वर्षे पूर्ण झाल्यानंतर
  • परिमीतीय धमनी रोग, हृदयविकार किंवा आघाताचा कौटुंबिक इतिहास
  • वाढलेले होमोसायस्टिन, एक प्रोटीन घटक जे ऊतक निर्माण आणि नियंत्रित करण्यास मदत करते

मधुमेह असलेले धूम्रपानकर्ते किंवा लोकांमध्ये कमी झालेल्या रक्तप्रवाहामुळे परिमीतीय धमनी रोग होण्याची सर्वात जास्त जोखीम असते.


पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग का प्रमुख कारण एथीरोस्कलेरोसिस होता है. वसा का जमाव (प्लॉक) आपके धमनियों की भित्तियों में बढ़ जाता है और एथीरोस्कलेरोसिस में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है. हालाँकि हृ्दय, सामान्यतया एथीरोस्कलेरोसिस संबंधी चर्चा का प्रमुख बिंदु है, लेकिन यह रोग आपके शरीर की पूरी धमनियों को प्रभावित कर सकता है/ प्रभावित करता है. आपके लिंब तक रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों में एथीरोस्कलेरोसिस के कारण पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग होता है.

परिमीतीय धमनी रोग, कमी सामान्यपणे, रक्तनलिकांची सूज, आपल्या हाता-पायांची ईजा, आपल्या अस्थिरज्जूंची किंवा स्नायूंची असामान्य शरीररचना किंवा विकीरण घेण्यामुळे होऊ शकतो.


सामान्यपणे, परिमीतीय धमनी रोग असलेल्या बर्याच लोकांमध्ये सौम्य लक्षणे दिसतात किंवा कोणतीही लक्षणे दिसून येत नाहीत. काही लोकांना चालताना पायामध्ये वेदना होतात (वांब). वांबच्या लक्षणांमध्ये आपल्या हाता-पायांचे स्नायू दुखणे किंवा पेटके येणे यांचा समावेश होतो जे चालण्यासारख्या गतिविधीने, प्रवर्तित होतात परंतु काही मिनिटांच्या विश्रांतीनंतर नाहीसे होतात. बंद किंवा अरूंद झालेल्या धमनीद्वारे पुरविल्या जाणार्या क्षेत्रापुरत्या वेदना सीमित होतात. पोटरीमधील वेदना हे सर्वात सामान्य स्थान आहे.

वांबच्या गांभीर्यात सौम्य अस्वस्थता ते अशक्त करणार्या वेदनांच्या श्रेणींची खूप तफावत असते. गंभीर वांबमुळे चालणे किंवा इतर प्रकारच्या शरीरिक गतिविधी हे कठीण कार्य असू शकते.

परिमीतीय धमनी रोगाच्या इतर लक्षणांमध्ये यांचा समावेश होतो:

  • चालणे किंवा पायर्या चढणे यासारख्या गतिविधींनतर नितंब, मांडी किंवा पोटरीच्या स्नायूंमध्ये पेटके आणि वेदना होणे (वांब)
  • पायामध्ये बधिरता किंवा अशक्तपणा
  • आपल्या पायाखालील भागात किंवा पाऊलांमध्ये, विशेषत: दुसर्या बाजूशी तुलना केल्यावर थंड वाटणे
  • आपल्या पायाची बोटे, पाऊले किंवा पायांवर भरून न येणारी जखम होणे
  • आपल्या पायांचा रंग बदलणे
  • आपली पाऊले आणि पायांवरील केस नाहीसे होणे किंवा त्यांची धीमी वाढ होणे
  • आपल्या पायाच्या बोटांच्या नखांची कमी झालेली वाढ
  • आपल्या पायावरील चमकणारी त्वचा
  • आपले पाय किंवा पाऊलांमध्ये नसणारे किंवा कमी झालेले नाडीचे ठोके
  • पुरूषांमधील उत्थान दोष

परिमीतीय धमनी रोगाच्या वाढण्यामुळे आपण विश्रांती घेत असताना किंवा पडून राहिलेले (रक्तवाहिनी अरूंद झाल्याने रक्तपुरवठा कमी झालेली स्थिती) असताना देखील वेदना होऊ शकतात. झोप विदारीत करण्यासाठी त्याची तीव्रता पुरेशी मजबूत असते. आपल्या बिछान्याच्या कडेवर आपले पाय लटकवून ठेवण्याने किंवा आपल्या कक्षामध्ये चालण्याने तात्पुरता आराम मिळविला जातो.


रक्तवाहिनींमध्ये किटण तयार होण्यामुळे झालेल्या परिमीतीय धमनी रोगाने (धमन्यांचे कठीण होणे) हे होण्याची जोखीम असते:

  • रक्तवाहिन्या अरूंद झाल्याने हाता-पायांना रक्तपुरवठा कमी झालेली गंभीर स्थिती. या स्थितीची सुरवात न भरून येणारी खुली जखम, किंवा आपल्या पाऊलांची किंवा पायांची ईजा/संक्रमण असते. जेव्हा अशा ईजा किंवा संक्रमणे वाढतात तेव्हा रक्तवाहिन्या अरूंद झाल्याने हाता-पायांना रक्तपुरवठा कमी झालेली गंभीर स्थिती निर्माण होते आणि त्यामुळे ऊतकांचा नाश होतो (जीवकोशगटांचे मरण), काहीवेळा प्रभावित हाता-पायांचे विच्छेदन करण्याची आवश्यकता असते.
  • आघात आणि हृदयविकाराचा झटका. किटण तयार होण्याच्या प्रक्रियेमुळे आणि धमनींचे कठीण होण्याने दिसणारी परिमीतीय धमनी रोगाची चिन्हे आणि लक्षणे आपल्या पायांपर्यंत मर्यादित नसतात. आपले हृदय आणि मेंदूस पुरवठा करणार्या धमन्यांमध्ये चरबीयुक्त पदार्थ देखील जमा होतात.


परिमीतीय धमनी रोगाचे निदान करण्यासाठी, आपले चिकित्सक खालील चाचण्यांवर अवलंबून असतात:

  • शारीरिक तपासणी. शारीरिक तपासणी केल्यावर, आपल्या चिकित्सकांना PAD ची चिन्हे आढळू शकतात जसे की आपल्या धमनीच्या अरूंद क्षेत्रात नाडीचे ठोके नसणे किंवा कमी असणे, हवा बाहेर सोडताना स्टेथोस्कोपने ऐकता येणारा आपल्या धमनीतील होणारा आवाज, आपल्या रक्त प्रवाहास प्रतिबंध असलेल्या क्षेत्रातील भरून येण्यास कठीण असणार्या जखमेचा पुरावा आणि आपल्या प्रभावित हाता-पायांमधील कमी झालेला रक्तदाब.
  • टाच-हाताशी संबंधित अनुपात (ABI). PAD चे निदान करण्यासाठी अगदी सामान्य चाचण्यांपैकी एक ABI ही आहे. आपले चिकित्सक आपल्या टाचेतील रक्तदाबाची आपल्या हातातील रक्तदाबाशी तुलना करतील. आपले चिकित्सक रक्तदाबाचे आणि प्रवाहाचे मूल्यमापन करण्यासाठी रक्तदाब मोजण्याकरिता नेहमीच्या मनगटीचा आणि एका विशिष्ट अल्ट्रासाउंड उपकरणाचा वापर करतात. चिकित्सक आपल्याला चालताना अरूंद धमनींचे गांभीर्य समजून घेण्यासाठी ट्रेडमिलवर चालण्यास आणि व्यायाम करण्यापूर्वी आणि नंतर लगेच वाचने घेण्यास सांगतील.
  • अल्ट्रासाउंड. डॉप्लर अल्ट्रासाउंड हे विशिष्ट अल्ट्रासाउंड प्रतिमा तंत्रज्ञान आहे जे आपल्या चिकित्सकांना आपल्या रक्तवाहिनींमधील रक्तप्रवाहाचे मूल्यमापन करण्यास आणि अवरोधित किंवा अरूंद धमन्यांना ओळखण्यात मदत करतील.
  • एन्जिओग्राफी. या चाचणीमध्ये आपल्या धमनींमधून जाणार्या रक्तप्रवाहास पाहाण्यासाठी एक रंगद्रव्य, (विरोधी द्रव्य) आपल्या रक्तवाहिन्यांमध्ये सोडले जाते. विरोधी द्रव्याचा प्रवाह क्ष-किरण प्रतिमा किंवा मॅग्नेटिक रेझोनन्स अँजिओग्राफी (MRA) किंवा संगणकीय टोमोग्राफी अँजिओग्राफी यासारख्या प्रतिमा तंत्रज्ञानाचा वापर करून शोधला जातो. दुसरी आक्रमक पद्धत कॅथेटर अँजिओग्राफी ही आहे. यामध्ये एक बारीक नळी आपल्या जांघेच्या धमनीमधून प्रभावित क्षेत्रामध्ये सोडली जाऊन त्यामार्गाने रंगद्रव्य सोडले जाते. या प्रकारची अँजिओग्राफी जरी आक्रमक असली तरीही, निदान आणि — रक्तवाहिनीचे अरूंद क्षेत्र शोधून ते अँजिओप्लास्टी पद्धतीने रूंद करण्याचा किंवा रक्तप्रवाह सुधारण्यासाठी औषधे देण्याचा उपचार एकाचवेळी करण्याची अनुमती देते.
  • रक्त तपासण्या. आपले कोलेस्टेरॉल आणि ट्रायग्लिसराइड मोजण्यासाठी आणि मधुमेह तपासण्यासाठी रक्त तपासण्या केल्या जाण्याची आवश्यकता असते.


परिमीतीय धमनी रोगाच्या उपचाराचे मुख्य दोन उद्दिष्ट असतात. पाय दुखणे यासारख्या लक्षणांचे निराकरण करणे, जेणे करून आपल्या शारीरिक गतिविधी सुरू करणे हे प्राथमिक उद्दिष्ट. आपल्या हृदय विकाराच्या झटक्याची आणि आघाताची जोखीम करण्यासाठी आपल्या संपूर्ण शरीरातील धमनींचे कठीण होण्याची वाढ थांबविणे हे दुसरे उद्दिष्ट.

जीवनशैलीमधील बदलासंह ही उद्दिष्टे पार पाडली जाऊ शकतात. जटिलतांची आपली जोखीम कमी करण्यासाठी आपण करू शकणारी एकल महत्वाची गोष्ट धूम्रपानाची सवय सोडणे. जीवनशैलीमधील बदल पुरेसे नसल्यास आपल्याला अतिरिक्त वैद्यकिय उपचारांची आवश्यकता आहे. आपले चिकित्सक रक्ताच्या गुठळ्या प्रतिबंधित करण्यासाठी, रक्तदाब आणि कोलेस्टेरॉल कमी करण्यासाठी आणि वेदना आणि इतर लक्षणे नियंत्रित करण्यासाठी औषधे लिहून देऊ शकतात.


  • कोलेस्टेरॉल-कमी करणारे औषधोपचार. चिकित्सक हृदयविकाराच्या झटक्याची आणि आघाताची आपली जोखीम कमी करण्यासाठी आपल्याला स्टॅटिन नावाचे कोलेस्टेरॉल कमी करणारे औषध लिहून देऊ शकतात. परिमीतीय धमनी रोग असलेल्या लोकांचे उद्दिष्ट कमी घनत्व असलेले लिपोप्रोटिन (LDL) कोलेस्टेरॉल, "खराब" कोलेस्टेरॉल 100 मिलीग्रॅम्स प्रतिडेसिलीटर (mg/dL), किंवा 2.6 मिलिमोल्स प्रतिलीटर (mmol/L) पेक्षा कमी करणे हे असते. आपल्यामध्ये हृदयविकाराच्या जोखीमेचे अतिरिक्त प्रमुख घटक विशेषत: मधुमेह किंवा सुरू ठेवलेले धूम्रपान असल्यास, हे उद्दिष्ट आणखी कमी केले जाते.
  • उच्च रक्त दाबावरील औषधे. आपला रक्तदाब उच्च असल्यास, आपले चिकित्सक तो कमी करण्याची औषधे लिहून देऊ शकतात. ही उपचार पद्धती आपल्या हृदयाच्या आकुंचन स्थितीमधील रक्तदाब (दोन संख्यांच्या शीर्षाची संख्या) पार्याच्या 140 मिलिमीटर (mm Hg) किंवा त्यापेक्षा कमी आणि आपल्या हृदयाच्या शिथिलतेच्या स्थितीतील रक्तदाब (तळाची संख्या) पार्याच्या 90 मिमी किंवा कमी करण्याचे उद्दिष्ट ठेवते. आपल्याला मधुमेह असल्यास आपल्या रक्तदाबाचे लक्ष्य पार्याचे 130/80 मिमी पेक्षा कमी असते.
  • रक्तातील साखर नियंत्रित करण्यासाठी औषधे. आपल्याला मधुमेह असल्यास आपल्या रक्तातील साखरेची (शर्करा) पातळी नियंत्रित करणे महत्वाचे असते. रक्तातील साखरेची आपली उद्दिष्टे काय असावीत त्याबद्दल आपल्या चिकित्सकांसह चर्चा करा आणि ही उद्दिष्टे साध्य करण्यासाठी आपल्याला कोणती पाऊले उचलणे आवश्यक आहे ते शोधा.
  • रक्ताच्या गुठळ्या प्रतिबंधित करण्यासाठी औषधे. परिमीतीय धमनी रोगामुळे आपल्या हाता-पायांमधील रक्त प्रवाह कमी होत असल्याने रक्ताच्या गुठळ्यांची आपली जोखीम कमी करणे महत्वाचे असते. आधीपासून अरूंद झालेल्या रक्तनलिकेमध्ये रक्ताच्या गुठळीमुळे संपूर्ण अवरोध होऊ शकतो आणि त्यामुळे ऊतकांचे मरण होऊ शकते. रक्ताच्या गुठळ्यांना प्रतिबंधित करण्यासाठी आपले चिकित्सक दररोज एस्प्रिन घेण्यास लिहून देऊ शकतात.
  • लक्षणांपासून-आरामावरील औषधे. सायलोस्टॅझाल सारखी अनेक औषधे आज उपलब्ध आहेत जी रक्ताच्या गुठळ्यांना प्रतिबंधित करून आणि रक्तनलिका रूंद करून दोन्ही प्रकारे हाता-पायातील रक्तप्रवाह वाढवितात. हे औषधे परिमीतीय धमनी रोग असलेल्या लोकांसाठी पाय दुखणे, यासारख्या पेटक्यांच्या लक्षणांवरील उपचारासाठी निर्दिष्ट केली जाते.

अँजिओप्लास्टी आणि शस्त्रक्रिया

अत्यंत गंभीर स्थितीत, परिमीतीय धमनी रोग ज्यामुळे वांब होतो त्याच्या उपचारासाठी अँजिओप्लास्टी किंवा शस्त्रक्रिया आवश्यक असू शकते:

  • अँजिओप्लास्टी. या पद्धतीत एक लहान पोकळ नळी (धातूची लहान लांब नळी) एका रक्तनलिकेतून प्रभावित धमनीमध्‍ये सोडली जाते. धमनी पुन्हा उघडण्यासाठी आणि धमनीच्या भिंतीमधील अवरोधाचा फुगीरपणा कमी करून, त्याच वेळी धमनी ताणून रक्त प्रवाह वाढविण्यासाठी एक लहान फुगा धातु अथवा रबराने तयार केलेल्या नळकांडीच्या टोकाशी फुगविला जातो. स्टेंट नावाचा छिद्र असलेल्या नळीचा एक साचा धमनी उघडी ठेण्यात मदत करण्यासाठी धमनीमध्ये सोडण्याची आवश्यकता असते. हृदयाच्या धमन्या उघडण्यासाठी चिकित्सक याच पद्धतीचा वापर करतात.
  • बायपास शस्त्रक्रिया. या प्रक्रियेमध्ये आपले चिकित्सक आपल्या शरीराच्या दुसर्या भागामधील एका रक्तनलिकेचा किंवा सिंथेटिक फॅब्रिकपासून तयार केलेल्या रक्तनलिकेचा वापर करून एक कलम बायपास तयार करू शकतात. या तंत्रज्ञानामुळे रक्त — अवरोधित किंवा अरूंद धमनीच्या भोवती — किंवा बाजूने वाहू शकते.
  • रक्तवाहिनीत तयार झालेल्या गाठी विरघळविण्याची उपचारपद्धती. आपले चिकित्सक आपल्यामध्ये धमनी अवरोधित करणारी रक्ताची गुठळी असल्यास, ती फोडण्याकरिता गुठळीच्या बिंदूवर आपल्या धमनीमध्ये रक्ताची गुठळी-विरघळविण्याचे औषध सोडतात.

पर्यवेक्षित व्यायाम कार्यक्रम

आपण वेदनामुक्त चालण्याचे अंतर वाढविण्यासाठी आपले चिकित्सक औषधे किंवा शल्यचिकित्सेव्यतिरिक्त पर्यवेक्षित व्यायाम प्रशिक्षण कार्यक्रम लिहून देऊ शकतात. नियमित व्यायाम PAD च्या लक्षणांमध्ये आपल्या शरीरास ऑक्सिजनचा वापर अधिक प्रभावीरित्या करण्यास मदत करण्याच्या समावेशासह अनेक पद्धतींद्वारे सुधारणा करू शकतो.

जीवनशैलीमधील उपाययोजना

परिमीतीय धमनी रोगाच्या लक्षणांचे व्यस्थापन जीवनशैलीमधील उपाययोजनेसह विशेषत: धूम्रपान सोडून रोगाची वाढ धिमे करून प्रभावीपणे केले जाऊ शकते. PAD स्थिर किंवा त्यामध्ये सुधारणा करण्यासाठी:

  • धुम्रपान बंद करा. धूम्रपानामुळे आपल्या धमन्यांचे आकुंचन आणि नुकसान होऊ शकते आणि PAD च्या विकोपास जाण्यासाठी आणि त्याची वाढ होण्यासाठी तो एक महत्वाचा जोखीम घटक आहे. जटिलतेची आपली जोखीम कमी करण्यासाठी धूम्रपान सोडणे ही सर्वात महत्वाची गोष्ट आपण करू शकता. आपल्याला स्वत:च्या प्रयत्नांनी धूम्रपान बंद करण्यास समस्या येत असल्यास धूम्रपान बंद करण्याच्या पर्यांयाबद्दल आपल्या चिकित्सकांना विचारा. आपल्याला धूम्रपान सोडण्यास मदत करण्यासाठी औषधे उपलब्ध आहेत.
  • व्यायाम. PAD च्या उपचारांमध्ये यश मिळविण्याची खात्री करण्यासाठी नियमित व्यायाम करणे महत्वाचे आहे. आपण वेदना न होता किती लांब चालू शकता त्याद्वारे सहसा यशाचे मापन केले जाते. योग्य व्यायाम आपल्या स्नायूंना ऑक्सीजनचा अधिक प्रभावीपणे वापर करण्यात मदत करतो. आपल्या चिकित्सकांच्या मदतीने, आपण एक योग्य व्यायाम योजना विकसित करू शकता. पेटक्यांचे निवारण करण्यासाठी ते किंवा ती आपल्याला व्यायाम पुनर्वसन कार्यक्रम लिहून देऊ शकतात.
  • सकस आहार घ्या. संपृक्त चरबी कमी असलेला आहार आपला रक्तदाब आणि कोलेस्टेरॉल पातळी नियंत्रित करण्यात मदत करतो जे धमन्यांचे कठीण होण्याच्या रोगास प्रतिबंध करते.
  • सर्दीवरील विशिष्ट औषधे घेण्याचे टाळा. खोकला आणि सर्दीवरील दुकानांमध्ये उपलब्ध असलेली आपल्या धमन्या आकुंचित करू शकणारे आणि PAD च्या लक्षणांमध्ये वाढ करू शकणारे प्स्युडोएफेड्राइन असणारी औषधे.

पायाची काळजीपूर्वक निगा

वरील सूचनांव्यतिरिक्त पायाची निगा राखणे हे खूप महत्वाचे असते. आपल्या पायाची निगा राखण्यासाठी या सल्ल्याचे अनुसरण करा:

  • रोज पाय धुणे महत्वाचे आहे. धुतल्यानंतर ते पूर्णपणे कोरडे करा आणि ज्यामुळे संक्रमण होऊ शकते त्या भेगांचा प्रतिबंध करण्यासाठी मॉइश्चराइझ करा. ओलाव्यात अळींब्यांची वाढ होत असल्याने पायाच्या बोटांना मॉइश्चराइझ करु नका.
  • पायांमध्ये व्यवस्थित येणारे आपले जोडे असावेत.
  • व्यायामपटूच्या पायासारखा, पायाच्या कोणत्याही अळींब्यांच्या संक्रमणाचा आक्रमकपणे उपचार करा.
  • आपली नखे कापताना काळजी घ्या.
  • अनवाणी चालू नका.
  • पायाचा अंगठा बाजूला सरकणे, तळपायातील होणारी छोटी गाठ किंवा त्वचेच्या कठीण भागाचा उपचार करा.


पेटक्यांचा प्रतिबंध करण्यासाठी एक सुदृढ जीवनशैली टिकवून ठेवा. याचा अर्थ:

  • धूम्रपान बंद करें.
  • आपल्याला मधुमेह असल्यास आपल्या रक्ताच्या पातळीस नियंत्रित ठेवा.
  • नियमित व्यायाम आवश्यक आहे. आपण आपल्या चिकित्सकांची मान्यता मिळविल्यास आठवड्यातून किमान तीन वेळा 30 मिनिटांचे उद्दिष्ट ठेवा.
  • आपल्या कोलेस्टेरॉल आणि रक्तदाबाची पातळी कमी करा, लागू असल्यास.
  • संपृक्त चरबी कमी असलेले खाद्यपदार्थ घ्या.
  • आपले वजन सुदृढ वजनाच्या श्रेणीत ठेवा.

परिमीतीय धमनी रोग

  • संक्षिप्त विवरण
  • जोख़िम के कारक
  • कारण
  • लक्षण
  • जटिलताएँ
  • निदान
  • उपचार

प्लॉक से पैरों की धमनियाँ सँकरी या अवरोधित हो जाने से पैरीफ़ेरल आर्टरी रोग (PAD) हो जाता है, यह एक ऐसी दशा है जिससे हृदयाघात, स्ट्रोक, पैर विच्छेदन और मृत्यु का जोख़़िम बढ़ जाता है. चूँकि सामान्यतया मरीज इस दशा से अनजान रहते हैं, इसलिए PAD का न तो निदान हो पाता है और न तो उपचार हो पाता है.


PAD में, विशेषतया, पैरों की धमनियों में बढ़ने वाले प्लॉक के कारण रक्त के प्रवाह में पैर के अंतिम सिरे तक कमी हो जाती है (जिसे एथीरोस्कलेरोसिस के रूप में भी जाना जाता है).

वसा के जमाव, कोलेस्ट्रॉल और अन्य तत्वों से प्लॉक बनता है. किसी धमनी के माध्यम से रक्त का प्रवाह महत्वपूर्ण रूप से कम करने वाले प्लॉक का आकार तेज़ी से बढ़ सकता है.

पैरों की धमनियों के कठोर और अवरुद्ध हो जाने पर पाँवों और पैरों तक रक्त का प्रवाह कम हो जाता है. पेरीफ़ेरल धमनियाँ पूरी तरह से या आंशिक रूप से, अवरोधित हो जाती हैं और इससे दर्द होता है, त्वचा का रंग और तापमान बदल जाता है, घाव या अल्सर हो जाते हैं और चलने में कठिनाई होती है. PAD के अनुपचारित रहने पर, क्रिटिकल लिंब इस्केमिया (CLI) हो सकता है, यह एक ऐसी दशा है जिसमें पैरों तक रक्त की आपूर्ति ऊतकों को जीवित बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में नहीं होती है. पैरों और पाँव तक इसका प्रवाह पूरी तरह नहीं होने के कारण गैंगरीन हो जाता है, जो अंग-विच्छेदन का कारण बनता है. इसके अतिरिक्त, PAD से पीड़ित लोगों में कठोर धमनियों का मिलना इस बात का संकेत है कि उनकी हृदय और मस्तिष्क की धमनियाँ कठोर और सँकरी हो सकती हैं. यही कारण है कि PAD से पीड़ित व्यक्तियों में हृदयाघात या स्ट्रोक का जोख़िम अधिक हेाता है. वे अक्षम और कार्यालय जाने के अयोग्य हो सकते हैं और उनके जीवन की गुणवत्ता कम हो सकती है.

PAD एक दीर्घकालीन बीमारी है, जिसमें ये जोख़िम के कारक शामिल हैं:

  • सिगरेट पीना
  • मधुमेह
  • अधिक वज़न (बॉडी मॉस इंडेक्स 30 से अधिक) होना
  • बढ़ा हुआ रक्तचाप (140/90 मिलीमीटर ऑफ़ मर्क्युरी या इससे उच्च)
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल (कुल रक्त कोलेस्ट्रॉल 240 मिलीग्राम प्रति डेसीलीटर)
  • बढ़ती उम्र, विशिष्ट रूप से 50 वर्ष की आयु पूर्ण करने के बाद
  • पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग, हृदयाघात या स्ट्रोक के पारिवारिक इतिहास का होना
  • ऊतक को बनाने और बनाए रखने में मदद करने वाले होमोसिस्टीन जैसे प्रोटीन घटक का बढ़ जाना.

कम रक्त प्रवाह के कारण धूम्रपान करने वाले या मधुमेह- पीड़ित लोगों में पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग होने का जोख़िम अत्यधिक होता है.

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग का प्रमुख कारण एथीरोस्कलेरोसिस होता है. वसा का जमाव (प्लॉक) आपके धमनियों की भित्तियों में बढ़ जाता है और एथीरोस्कलेरोसिस में रक्त का प्रवाह कम हो जाता है. हालाँकि हृ्दय, सामान्यतया एथीरोस्कलेरोसिस संबंधी चर्चा का प्रमुख बिंदु है, लेकिन यह रोग आपके शरीर की पूरी धमनियों को प्रभावित कर सकता है/ प्रभावित करता है. आपके लिंब तक रक्त की आपूर्ति करने वाली धमनियों में एथीरोस्कलेरोसिस के कारण पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग होता है.

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग का सामान्यतः कम मिलने वाला कारण, रक्त वाहिका में सूजन और जलन, आपके लिंब में चोट, आपके अस्थिरज्जु या माँसपेशियों की असामान्य शारीरिक रचना, या विकिरण जोख़िम हो सकते हैं.

सामान्यतया, पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग से पीड़ित लोगों में बहुत कम या कोई भी लक्षण नहीं होते हैं. कुछ लोगों को चलने पर पैरों में दर्द (पैरों में रुक-रुक कर होने वाला दर्द) होता है. रुक-रुक कर दर्द होने के लक्षणों में कोई गतिविधि करने पर जैसे चलने पर पैरों की माँसपेशियों में दर्द होना या आपके पैरों या भुजाओं में मरोड़ होना शामिल हैं, लेकिन कुछ मिनट विश्राम करने के बाद यह दर्द समाप्त हो जाता है. दर्द उस स्थान पर होता है जहाँ अवरोधित या सँकरी धमनी रक्त की आपूर्ति करती है. दर्द का सबसे सामान्य स्थान पिंडली है.

पैरों में रुक-रुक कर होने वाले दर्द की तीव्रता में अंतर होता है, जो हल्की पीड़ा से लेकर मामूली दर्द तक हो सकता है. पैरों में रुक-रुक कर होने वाले गंभीर दर्द के कारण, चलना या अन्य प्रकार की शारीरिक गतिविधि में कठिनाई हो सकती है.

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग के अन्य लक्षणों में ये शामिल हैं:

  • कोई गतिविधि जैसे चलने या सीढ़ियों पर चढ़ने (पैरों में रुक-रुक कर होने वाला दर्द) के बाद आपके कूल्हे, जाँघ या पिंडली की माँसपेशियों में मरोड़ या दर्द होना.
  • पैर में सुन्न्ता या कमजोरी
  • आपके पैर या पाँव के निचले भाग में ठंडेपन का अनुभव, विशेष रूप से जब दूसरे हिस्से से इसकी तुलना की जाए
  • आपके पंजों, पाँवों या पैरों पर होने वाले ऐसे घाव जो भरते नहीं
  • पैरों का रंग बदलन जाना
  • पैरों और पैरों के बालों का झड़ना या बालों की वृद्धि धीमी हो जाना
  • पैर के नाखून बढ़ना कम होना
  • आपके पैरों की त्वचा का चमकीला होना
  • आपके पैरों या पैरों में स्पंदन न होना या स्पंदन का कमजोर होना
  • पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फ़ंक्शन

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग बढ़ने से दर्द हो सकता है जो आपके विश्राम करने या लेटे रहने (इस्कीमिक विश्राम दर्द) के दौरान भी उत्पन्न हो सकता है. यह आपकी नींद भंग करने की गंभीर तीव्रता वाला हो सकता है. अपने पैरों को अपने बिस्तर के किनारे पर लटकाने से या अपने कमरे में चलने-फिरने से अस्थायी राहत मिल सकती है.

रक्त वाहिकाओं में प्लॉक बनने से पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग (एथीरोस्कलेरोसिस) होता है जिससे ये जोख़िम विकसित हो सकते हैं:

  • क्रिटिकल लिंब इस्कीमिया. इस स्थिति की शुरुआत ठीक ना होने वाले घाव, या आपके पाँवों या पैरों में चोट/संक्रमण के रूप में होती है. ऐसी चोटों या संक्रमणों में वृद्धि होने पर क्रिटिकल इस्कीमिया हो जाता है और जो ऊतकों के समाप्त होने (गैंगरीन) का कारण हैं, जिसमें कभी-कभी तो प्रभावित लिंब का विच्छेदन की आवश्यक होता है.
  • स्ट्रोक और हृदयाघात. प्लॉक बनने की प्रक्रिया और एथीरोस्कलेरोसिस से होने वाले पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग के संकेत और लक्षण आपके पैरों तक ही सीमित नहीं होते हैं. वसा का जमाव आपके हृदय और मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह करने वाली धमनियों में भी होता है.

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग का निदान करने के लिए, आपके चिकित्सक को निम्न टेस्ट पर निर्भर होना पड़ सकता है:

  • शारीरिक परीक्षण. शारीरिक परीक्षण करने पर, आपकी धमनी के संकरे क्षेत्र के नीचे स्पंदन का कमजोर या गायब होना, आपकी धमनियों पर स्टेथोस्कोप सुने जा सकने योग्य हूशिंग साउंड(ब्रूइट्स), अवरुद्ध रक्त प्रवाह वाले भाग में घाव का पूरी तरह न भरना, और आपके प्रभावित लिंब में रक्तचाप कम होने से से आपका चिकित्सक PAD के संकेतों का पता लगा सकता है.
  • ऐंकल-ब्रेकिअल इंडेक्स (ABI). PAD का निदान करने के लिए सबसे सामान्य टेस्ट, ABI है. इसमें चिकित्सक आपके टखने के रक्तचाप की तुलना आपकी बाँह के रक्तचाप से करेगा. आपका चिकित्सक नियमित रक्तचाप कफ़ का उपयोग रक्तचाप रीडिंग लेने और रक्तचाप व प्रवाह का मूल्यांकन करने के लिए करता है. चिकित्सक आपसे किसी ट्रेडमिल पर चलने के लिए कहेगा और चलने के दौरान सँकरी धमनियों की गंभीरता का पता लगाने के लिए व्यायाम से पहले और तत्काल बाद की रीडिंग लेगा.
  • अल्ट्रासाउंड. डॉप्लर अल्ट्रासाउंड, एक विशिष्ट अल्ट्रासाउंड इमेजिंग तकनीक है जिससे आपके चिकित्सक को आपकी रक्त वाहिकाओं के माध्यम से होने वाले रक्त प्रवाह का मूल्यांकन करने और अवरोधित या सँकरी धमनियों का पहचान करने में मदद मिलती है.
  • एंजियोग्राफ़ी. आपकी धमनियों के माध्यम से होने वाले रक्त का प्रवाह देखने के लिए, इस टेस्ट में डाई (भिन्न रंग के पदार्थ ) को आपकी रक्त वाहिकाओं में इंजेक्ट कर दिया जाता है. इमेजिंग तकनीकी, जैसे एक्स-रे इमेजिंग या का मैगनेटिक रेसोनेंस एंजियोग्राफ़ी (MRA)या कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़ी एंजियोग्राफ़ी (CTA)का उपयोग करके भिन्न रंग के पदार्थ के प्रवाह का पता लगाया जाता है. अन्य गहन कार्यविधि कैथेटर एंजियोग्राफ़ी है. इसमें किसी कैथेटर को किसी धमनी के माध्यम से आपके पेडू-जाँघ के जोड़ से प्रभावित क्षेत्र तक डाइ के जैसे इंजेक्ट करते हुए गुजारा जाता है. हालांकि इस प्रकार की एंजियोग्राफ़ी गहन होती है लेकिन इसमें निदान और उपचार-रक्त वाहिका के सँकरे क्षेत्र का पता लगाना और फिर उन्हें एंजियोप्लास्टी कार्यविधि से चौड़ा करना या रक्त का प्रवाह सुधारने के लिए औषधोपचार करना साथ-साथ शामिल है.
  • रक्त के टेस्ट. आपके कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड को मापने और डायबिटीज़ का पता लगाने के लिए रक्त के टेस्ट करने की आवश्यकता होती है.

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग के उपचार के दो प्रमुख उद्देश्य होते हैं. इसका प्राथमिक उद्देश्य, लक्षणों को जैसे पैरों के दर्द को कम करना है, ताकि आप शारीरिक गतिविधियाँ पुन: प्रारंभ कर सकें. इसका द्वितीयक उद्देश्य, हृदयाघात और स्ट्रोक के जोख़िम को कम करने के लिए एथीरोस्कलेरोसिस की आपके पूरे शरीर में वृद्धि को कम करना है.

इन उद्देश्यों की पूर्ति, जीवनशैली में परिवर्तन करके की जा सकती है. जटिलताओं का जोख़िम कम करने के लिए वह सबसे महत्वपूर्ण चीज जो आप कर सकते है, वह है धूम्रपान की आदत छोड़ना. यदि आपकी जीवनशैली में परिवर्तन से सुधार नहीं होता है, तो आपको अतिरिक्त चिकित्सकीय उपचार की आवश्यकता होती है. रक्त का थक्का जमने से रोकने, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल कम करने, और दर्द व अन्य लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए आपका चिकित्सक औषधोपचार लिख सकता है.


  • कोलेस्ट्रॉल-कम करने वाले औषधोपचार. हृदयाघात और स्ट्रोक के जोख़िम को कम करने के लिए, चिकित्सक आपको कोलेस्ट्रॉल-कम करने वाला औषधोपचार, स्टेटिन लिख सकता है. पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग से पीड़ित व्यक्तियों के लिए कम-घनत्व लिपोप्रोटीन (LDL) कोलेस्ट्रॉल, "बुरे" कोलेस्ट्रॉल को 100 मिलिग्राम प्रति डेसीलीटर (mg/dL), या 2.6 मिलिमोल्स प्रति लीटर (mmol/L) तक कम करने का उद्देश्य होता है. इसका उद्देश्य, हृ्दयघात और स्ट्रोक के लिए विशेषरूप से मधुमेह या लगातार धूम्रपान जैसे अतिरिक्त प्रमुख जोखिम कारकों के मौजूद होने पर उन्हें और कम करना है.
  • उच्च रक्तचाप का औषधोपचार. यदि आपका रक्तचाप उच्च है, तो आपका चिकित्सक इसे कम करने के लिए औषधोपचार लिख सकता है. इसे थेरेपी का उद्देश्य आपके सिस्टोलिक रक्तचाप (दो संख्याओं में से शीर्ष संख्या) को 140 मिलीमीटर ऑफ़ मर्क्युरी (mm Hg) या उससे भी कम करना और आपके डायस्टोलिक रक्तचाप (निचले तल की संख्या) को 90 mm Hg या उससे भी कम करना है . यदि आपको डायबिटीज है तो इसका उद्देश्य आपके रक्तचाप को 130/80 mm Hg से नीचे लाना है.
  • रक्त शर्करा को नियंत्रित करने के लिए औषधोपचार. यदि आपको डायबिटीज़ भी है, तो आपकी रक्त शर्करा (ग्लूकोज़) स्तर को नियंत्रित करना और भी महत्वपूर्ण है.
  • अपनी रक्त शर्करा को किस स्तर तक नीचे लाना है, इसे बारे में अपने चिकित्सक से परामर्श करें और इन स्तरों को प्राप्त करने के लिए आपको कौन से उपाय करने होंगे, इनके बारे में जानें.
  • महत्वपूर्ण है क्योंकि पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग, आपके लिंब में रक्त के कम प्रवाह से संबंधित है. पहले से ही सॅंकरी किसी रक्त वाहिका में रक्त के थक्के के कारण पूर्ण अवरोध हो सकता है और इसके कारण ऊतक समाप्त हो जाते हैं. आपका चिकित्सक, रक्त के थक्कों को रोकने के लिए प्रतिदिन ऐस्प्रिन लेने के लिए लिख सकता है.
  • लक्षणों से राहत दिलाने वाला औषधोपचार. इन दिनो सिलॉस्टाज़ोल जैसे कई औषधोपचार उपलब्ध हैं जो लिंब तक, रक्त के थक्के को रोककर और रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करके दोनों प्रकार से रक्त का प्रवाह बढ़ाते हैं. पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग से पीड़ित व्यक्तियों में रुक-रुक कर होने वाले दर्द के लक्षणों के उपचार का संकेत इस औषधि के संबंध में किया गया है.

एंजियोप्लास्टी और सर्जरी

ऐसे गंभीर मामलों में पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग का उपचार करने के लिए एंजियोप्लास्टी या सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है, जिसके कारण चलने के दौरान पैरों में बार-बार दर्द होता है.

  • एंजियोप्लास्टी. इस कार्यविधि में एक छोटी खाली ट्यूब (कैथेटर) को एक रक्त वाहिका के माध्यम से प्रभावित धमनी में लगाई जाती है. धमनी को पुन: खोलने के लिए कैथेटर के सिरे पर लगे एक छोटे से बैलून को बढ़ा दिया जाता है और धमनी भित्ती में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने के लिए खुली धमनी को खींचते हुए अवरोध को चपटा कर दिया जाता है. इसे खुला रखने में सहायता के लिए मेश फ़्रेमवर्क यानी स्टेंट को डालने की आवश्यकता हो सकती है. यह वही कार्यविधि है, जिसका उपयोग चिकित्सक हृदय की धमनियों को खोलने के लिए करता है.
  • बायपास सर्जरी. इस कार्यविधि मे आपका चिकित्सक शरीर के किसी भाग से नस निकालकर या सिंथेटिक फ़ैब्रिक से बनी रक्त वाहिका के उपयोग से ग्राफ़्ट बायपास बना सकता है. इस तकनीक से रक्त अवरुद्ध या सँकरी धमनी — या बायपास — के आसपास प्रवाहित होने लगता है.
  • थ्रॉम्बोलिटिक थेरेपी. यदि आपकी किसी धमनी में रक्त के किसी थक्के के कारण अवरोध बन रहा हो तो आपका चिकित्सक इस अवरोध को हटाने के लिए आपकी धमनी में थक्के के स्थान पर रक्त का थक्का घोलने वाली औषधि इंजेक्ट कर सकता है.

पर्यवेक्षित व्यायाम प्रोग्राम

आपका चिकित्सक, औषधोपचार या सर्जरी के अलावा, किसी सुपरवाइज़्ड व्यायाम प्रशिक्षण प्रोग्राम को नुस्खे में लिख सकता है. नियमित व्यायाम PAD के लक्षणों को कई तरह से कम करता है, जिसमें आपके शरीर में ऑक्सीज़न का उपयोग अधिक दक्षता से करना शामिल है.

जीवनशैली संबंधी उपाय

पेरीफ़ेरल आर्टरी रोग के लक्षणों को जीवनशैली संबंधी उपायों द्वारा प्रभावपूर्ण तरीके से प्रबंधित किया जा सकता है और विशेषतौर पर धूम्रपान को छोड़कर, रोग को कम किया जा सकता है. PAD को स्थिर रखने या उसमें सुधार करने के लिए:

  • धूम्रपान बंद करें. आपकी धमनियों का संकुचन और क्षति धूम्रपान के कारण होती है और यह PAD के विकसित होने और उसके ज्यादा बढ़ने का एक महत्वपूर्ण जोख़िम कारक होता है. धूम्रपान छोड़ना वह सबसे महत्वपूर्ण चीज़ है, जो आप अपनी जटिलताओं का जोख़िम कम करने के लिए कर सकते हैं. यदि आपको स्वयं धूम्रपान छोड़ने में परेशानी हो, तो अपने चिकित्सक के धूम्रपान से छुटकारा पाने के विकल्पों के बारे में पूछें. धूम्रपान से छुटकारा दिलाने में ये औषधोपचार आपकी मदद कर सकते हैं.
  • व्यायाम करें. PAD के उपचार की सफलता सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करना महत्वपूर्ण है. आपकी सफलता को अक्सर इससे मूल्यांकित किया जाता है, कि आप बिना दर्द के कितना दूर तक चल सकते हैं. उचित व्यायाम, आपकी माँसपेशियों को अधिक दक्षता से ऑक्सीज़न का उपयोग करने में मदद करता है. अपने चिकित्सक की मदद से, आप उचित व्यायाम की योजना बना सकते हैं. वह आपको क्लॉडिकेशन व्यायाम स्वास्थ्यलाभ प्रोग्राम में सम्मिलित होने के लिए कह सकता/सकती है.
  • पौष्टिक आहार लें. एथीरोस्कलेरोसिस को बढ़ाने वाले आपके रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित करने में कम संतृप्त वसा वाला आहार मदद कर सकता है.
  • जुकाम के कुछ औषधोपचारों से बचें. दुकान पर उपलब्ध होने वाली खाँसी और जुकाम की दवाइयों में स्यूडोफ़ेड्रिन होता है, जो आपकी रक्त वाहिकाओं को सँकुचित कर सकता है और आपके PAD के लक्षणों में वृद्धि कर सकता है.

पाँव की उचित देखभाल

उपरोक्त सुझावों के अलावा, पाँवों की देखभाल करना बहुत महत्वपूर्ण होता है. अपने पाँवों की देखभाल करने के लिए इस सलाह का अनुसरण करें:

  • पाँवों को प्रतिदिन धोना महत्वपूर्ण है. धोने के बाद उन्हें पूरी तरह से सुखाएँ और फिर संक्रमण को बढ़ावा देने वाले क्रैक को रोकने के लिए उन्हें बार-बार मॉइस्चराइज़ करें. अंगूठों के बीच मॉइस्चराइज़ न करें क्योंकि इसके कारण संक्रमण में वृद्धि हो सकती है.
  • आपके जूते आरामदायक फ़िटिंग होने वाले चाहिए.
  • पाँव के किसी भी फ़ंगल संक्रमण का, जैसे एथलीट पैर का सघन उपचार कराएँ.
  • अपने नाखून काटते समय सावधानी रखें.
  • नंगे पैर न चलें.
  • गोखरू, कोर्न या कैलस का उपचार कराएँ.
  • अपनी त्वचा पर किसी फ़ोड़ा या चोट का पहला संकेत होने पर चिकित्सक से परामर्श लें.


चलने में होने वाली परेशानी से बचाव के लिए स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखें. इससे आशय है:

  • धूम्रपान छोड़ दें.
  • यदि आपको मधुमेह है तो अपनी रक्त शर्करा को नियंत्रित रखें.
  • नियमित व्यायाम आवश्यक है.
  • चिकित्सक की अनुमति मिलने पर सप्ताह में कम से कम तीन बार 30 मिनट तक व्यायाम करें.
  • यदि आपका कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप स्तर अधिक हो तो उसे कम करें.
  • कम वसा वाला आहार लें.
  • अपना भार संतुलित बनाए रखें.

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here