Health Education

Myocardial Infarction

  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Complications
  • Treatment
  • Medications

Heart attack, technically known as myocardial infarction (MI) or acute myocardial infarction (AMI), occurs due to diminution of blood supply to a part of the heart, causing that particular heart cells to die. Heart attack most commonly occurs due to occlusion (blockage) of a coronary artery following the rupture of a vulnerable atherosclerotic plaque. It results into restriction in blood supply and oxygen shortage ensues. If this situation is left as such without treatment for a sufficient period of time, it can cause damage or death (infarction) of heart muscle tissue (myocardium).

Risk Factors

Unwanted buildup of fatty deposits (atherosclerosis) that narrows arteries throughout your body, including arteries to your heart, is contributed by certain factors. It is possible to improve or eliminate many of these risk factors as this decreases your chances of having a first or subsequent heart attack.

Myocardial_Infarction

Risk factors for heart attack include:

  • Age. Heart attack is more common in men who are 45 or older and women who are 55 or older.
  • Smoking. Active smoking and/or long-term exposure to secondhand smoke damages the interior walls of arteries allowing deposits of cholesterol and other substances to collect and slow blood flow. These arteries include arteries of your heart, along with other arteries. Risk of deadly blood clots forming and causing a heart attack is also increased by smoking.
  • Diabetes. Diabetes, a disease where body is unable to adequately produce insulin or respond to insulin need properly, occurs more often in middle age and among overweight people. Patients with diabetes are at a great risk of a heart attack.
  • Blood pressure. Increased blood pressure over years damages arteries that feed your heart by accelerating atherosclerosis. As you age, the risk of high blood pressure increases, but the main culprits for most people are eating a diet too high in salt and being overweight.
  • Hypercholesterolemia. Deposits occurring in the arterial walls mainly consist of cholesterol, and can narrow arteries throughout your body, including those that supply your heart. High blood levels of bad cholesterol increases your risk of a heart attack. Low-density lipoprotein (LDL) cholesterol (the "bad" cholesterol) is most likely to narrow arteries. This LDL increases due to a diet high in saturated fats and cholesterol. It is undesirable to have a high level of triglycerides, a type of blood fat related to your diet. But, HDL, a good cholesterol, which helps the body clean up excess cholesterol, is desirable and lowers your risk of heart attack.
  • Family history of heart attack. In case any of your sibling, parents or grandparents have had a heart attacks, you may be at increased risk. You and your family might be genetically predisposed to increased unwanted blood cholesterol levels. High blood pressure also can run in families.
  • No or less physical activity. High blood cholesterol levels and obesity are caused by an inactive lifestyle. Regular aerobic activity leads to better cardiovascular fitness, which decreases overall risk of heart attack. Exercise is also beneficial in lowering high blood pressure.
  • Obesity. Being overweight leads to high proportion of body fat (a body mass index of 30 or higher). Risk of heart attack is increased by being overweight as it's associated with high blood cholesterol levels, high blood pressure and diabetes.
  • Stress. Inappropriate response to stress can increase your risk of a heart attack. Being constantly under stress leads to overeating or smoking or drug abuse from nervous tension. Too much stress, as well as anger, can also raise your blood pressure.
  • Illicit drug use. Drug abuse with cocaine or amphetamines can trigger a spasm of your coronary arteries that can cause a heart attack.

Causes

When one or more of the arteries supplying your heart with oxygen-rich blood (coronary arteries) become blocked, it results in heart attack. With passage of time, a coronary artery can become narrowed from the buildup of cholesterol called plaque. This process of plaque of buildup in arteries throughout the body is called atherosclerosis. One of these plaques can rupture during heart attack and a blood clot forms on the site of the rupture. A complete blockage of flow through artery occurs if the clot is large enough. Coronary artery disease occurs when your coronary arteries have narrowed due to atherosclerosis. Most heart attacks occur due to coronary artery disease. Spasm of a coronary artery that shuts down blood flow to part of the heart muscle is another uncommon cause of a heart attack.

Life-threatening spasm can occur due to drugs such as cocaine. A tear in the heart artery (coronary artery dissection) can also cause heart attack. Small blood clots or tumors that have traveled from other parts of the body (coronary embolism) are other uncommon causes of heart attack.

The heart attack is culmination of a several hours long process. More heart tissue is deprived of blood and deteriorates or dies with each passing minute. Damage to the heart can be limited or prevented if blood flow can be restored in time.

Symptoms

Most common symptoms of heart attack are:

  • A feeling of pressure, fullness or a squeezing pain in the center of your chest that lasts for more than a few minutes
  • Chest pain extending to your shoulder, arm, back, or even to your teeth and jaw
  • Frequent episodes of chest pain
  • Prolonged pain in the upper abdomen
  • Shortness of breath
  • Sweating
  • Impending sense of doom
  • Fainting
  • Nausea and vomiting

Women patients have different or atypical signs and symptoms of heart attack, which include:

  • Pain in abdomen or heartburn
  • Cold Clammy skin
  • Dizziness or lightheadedness
  • Unusual or unexplained fatigue

Symptoms of heart attack may vary. All patients of heart attack do not experience the same symptoms or experience them to the same degree. Another interesting feature is that many heart attacks aren't as dramatic as the ones you've seen on TV. In some patients, there are no symptoms at all. Still, the more signs and symptoms you have, the greater the likelihood that you may be having a heart attack. The timing of heart attack is not fixed and it can occur at any time of the day— at work or play, while you're resting, or while you're in motion. In some patients heart attacks strike suddenly, but many people who experience a heart attack have warning signs and symptoms hours, days or weeks in advance. Most common and earliest warning of a heart attack may be recurrent chest pain (angina) that's triggered by exertion and relieved by rest. A temporary decrease in blood flow to the heart causes angina.

Diagnosis

If a patient is having a heart attack or is suspecting having one, his/her diagnosis will likely happen in an emergency setting. You will be undergoing certain tests that will help check if your signs and symptoms, such as chest pain, signal a heart attack or another condition. These tests include:

  • Electrocardiogram (ECG). It is an electrical recording of the signals as they travel through your heart. Evidence of a previous heart attack can be revealed by an ECG. If the signs and symptoms of your atherosclerosis is more evident during exercise, your doctor may ask you to walk on a treadmill or ride a stationary bike during an ECG.
  • Blood tests. Blood is tested for elevation of certain heart enzymes that slowly leak out into your blood if your heart has been damaged by a heart attack.

Additional tests

After taking immediate steps to treat your condition, doctor may order for these additional tests:

  • Stress test. Stress test is also an exercise stress test. It is used to gather information about how well your heart works during physical activity. By doing exercise on bike or treadmill your heart pump harder and faster than it does during most daily activities. Testing of the heart during and after exercise can reveal problems within your heart that might not be noticeable otherwise. The procedure usually involves walking on a treadmill or riding a stationary bike while your heart rhythm and blood pressure and breathing are monitored. In some types of stress tests, pictures will be taken of your heart, such as during a stress echocardiogram (ultrasound) or nuclear stress test. In patients who are unable to exercise due to some or other reason, a medication that mimics the effect of exercise on heart is used to make it pump harder.
  • Chest X-ray. Images of your heart and lungs are displayed by this test. Also, other conditions can be looked into that might explain your symptoms and to see if you have an enlarged heart.
  • Echocardiogram. It is a type of ultrasound examination of your heart to produce images of the heart. These images are seen by the doctor to identify heart attack-related problems, including whether there are areas of your heart not getting enough blood or heart muscle that's been damaged by poor blood flow. Sometimes, an echocardiogram is performed during a stress test.
  • Nuclear stress test. This test is performed to assess blood flow to your heart muscle at rest and during stress. It is similar to a routine stress test but uses a radioactive substance.
  • Coronary angiography. Narrowing or blockade in coronary arteries can be revealed by this test. The test involves injecting a liquid dye into the arteries of your heart through a long, thin tube (catheter) that's fed through an artery, usually in your leg, to the arteries in your heart. The arteries become visible on X-ray, as the dye fills your arteries. Any area of blockage can then be revealed.
  • Cardiac computerized tomography (CT) scans. During performance of this test, you lie on a table inside a doughnut-shaped machine. Inside the machine there is an X-ray tube which rotates around your body and collects images of your heart and chest. These images can show if any of your heart's arteries are narrowed or if your heart is enlarged.
  • Cardiac MRI: In this test, the patient is made to lie on a table inside a long tube-like machine that produces a magnetic field. The magnetic field aligns atomic particles in some of your cells. Signals are produced when radio waves are broadcast toward these aligned particles. These signals vary according to the type of tissue they are. The signals create images of your heart.

Complications

Complications of heart attack are often related to the damage done to your heart during a heart attack. Most common problems arising due to damage to heart are:

  • Abnormal heart rhythms (arrhythmias). Electrical "short circuits" can develop if your heart muscle is damaged from a heart attack. These can cause abnormal heart rhythms, some of which can be serious, even fatal.
  • Heart failure. It is a condition where the damaged tissue in your heart can't do an adequate job of pumping blood out of your heart. Reduced pumping activity reduces blood flow to tissues and organs and may produce shortness of breath, fatigue, and swelling in your ankles and feet.
  • Heart rupture. A hole in a part of wall of heart can occur due to rupture of areas of heart muscle weakened by a heart attack. This rupture is often fatal.
  • Valve problems. Valves of the heart get damaged during a heart attack and may develop severe, life-threatening leakage problems.

Treatment

Treatment of a heart attack varies depending on the situation. The patient might be treated with medications, undergo an invasive procedure or both — depending on the severity of the condition and the amount of damage to heart.

Medications

More heart tissue loses oxygen and deteriorates or dies with each passing minute after a heart attack. Restoration of blood flow quickly is the main way to prevent heart damage. Medications given to treat a heart attack include:

  • Aspirin. It reduces blood clotting, thus helping maintain blood flow through a narrowed artery.
  • Thrombolytics. Also called clot busters, these drugs help dissolve a blood clot that's blocking blood flow to your heart.
  • Thrombolytics. Also called clot busters, these drugs help dissolve a blood clot that's blocking blood flow to your heart.
  • Blood-thinning medications. Medications like heparin might be given to make your blood less "sticky" and less likely to form more dangerous clots.
  • Pain relievers. Heart attack is associated with intense chest pain and you may receive a pain reliever, such as morphine, to reduce your discomfort.
  • Nitroglycerin. This medication temporarily opens arterial blood vessels, improving blood flow.
  • Beta blockers. These medications help relax your heart muscle, slow your heartbeat and decrease blood pressure making your heart's job easier.
  • Cholesterol-lowering medications. Unwanted blood cholesterol levels are lowered by these medications.

Surgical and other procedures

Additionally, to medications, one of the following procedures might be done to treat your heart attack:

  • Angioplasty and stenting. These are used when unstable angina or lifestyle changes and medications don't effectively treat your chronic, stable angina.
  • Coronary artery bypass surgery. This is done when stenting doesn't help. It is a major surgery on heart arteries and involves creating a graft bypass using a vessel from another part of your body or a tube made of synthetic fabric. With this procedure, blood flow is maintained around the blocked or narrowed artery.

After these medications/procedure, the blood flow to your heart is restored and your condition is stable following your heart attack. You may be kept in the hospital for observation.

Lifestyle Measures for Prevention

Lifestyle changes can help you prevent or delay the occurrence of heart attack.

  • Stop smoking.
  • Exercise most days of the week.
  • Eat healthy foods.
  • Lose extra pounds and maintain a healthy weight.
  • Manage stress.
  • If you have high cholesterol, high blood pressure, diabetes or another chronic disease, work with your doctor to manage the condition and promote overall health.

हृदयाच्या स्नायूमध्ये रक्ताची गुठळी होऊन बसणे

  • विहंगावलोकन
  • जोखमीचे घटक
  • कारणे
  • लक्षणे
  • क्लिष्टता
  • निदान
  • उपचार
  • प्रतिबंधासाठी जीवनशैली परिमापने

हृदयाच्या एका भागास होणार्या रक्तपुरवठ्यात घट होऊन तेथील विशिष्ट जीवकोश नष्ट झाल्याने हृदय विकाराचा झटका, तांत्रिक दृष्ट्या हृदयाच्या मांसपेशींच्या भागातील जीवकोशांच्या विघटनेने निर्माण झालेला रोग (MI) किंवा अल्पकालिन हृदयाच्या मांसपेशींच्या भागातील जीवकोशांच्या विघटनेने निर्माण झालेला रोग (AMI), होतो. हृदय विकाराचा झटका सर्वाधिकपणे हृदयाशी संबधित धमनीत अडथळा (अवरोध) निर्माण होऊन नाजूक धमनी कठीण होउन फुटण्यामुळे येतो. त्यामुळे रक्तपुरवठ्यास प्रतिबंध होऊन त्यानंतर ऑक्सिजनची कमतरता होते. या स्थितीत बर्याच कालावधीपर्यंत उपचार न घेतल्यास, त्यामुळे हृदयाच्या स्नायूंच्या उतकांचे (हृदयांच्या मांसपेशी) नुकसान किंवा मृत्यू (हृदयाच्या एखाद्या भागातील प्राणवायूच्या कमतरतेने तेथील जीवकोशगटाचा नाश होणे) होऊ शकतो.

Myocardial_Infarction

जोखमीचे घटक

विशिष्ट घटकांमुळे अवांछित चरबीयुक्त पदार्थ जमा होतात (धमन्या कठीण होणे) ज्यामुळे आपल्या हृदयाच्या धमन्यांच्या समावेशासह आपल्या शरीरातील संपूर्ण धमन्या अरूंद होतात. या जोखीम घटकांपैकी अनेक सुधारित करणे किंवा ते काढणे शक्य आहे ज्यामुळे आपल्या प्रथम किंवा त्यानंतरच्या हृदयविकारांच्या झटक्यांची शक्यता कमी होते.

हृदयविकाराच्या झटक्याचे जोखीम घटक हे समाविष्ट करतात:

  • वय. हृदयविकाराचा झटका 45 किंवा त्यावरील वयाच्या पुरूषांमध्ये किंवा 55 किंवा त्यावरील वयाच्या स्त्रियांमध्ये अधिक सामान्य असतो.
  • धूम्रपान. धूम्रपान करणे आणि/किंवा दीर्घ-काल धूम्रपान करणार्यांसह असण्याने धमन्यांच्या आतील भिंतींचे नुकसान करून कोलेस्टेरॉल आणि इतर पदार्थ जमा करून रक्त प्रवाह एकत्रित आणि धिमा करतात. या धमन्या इतर धमन्यांसह आपल्या हृदयाच्या धमन्यांना समाविष्ट करतात. धोकादायक रक्ताच्या गुठळ्यांचे तयार होणे आणि त्यामुळे हृदय विकाराचा झटका येण्याची जोखीम देखील धूम्रपानाने वाढते.
  • मधुमेह. मधुमेह, हा रोग ज्यामध्ये शरीर पुरेसे इन्सुलिन तयार करण्यात किंवा इन्सुलिनच्या आवश्यकतांना योग्यरित्या प्रतिसाद देण्यास अक्षम असते, बर्याचदा मध्यम वयात आणि अधिक वजन असणार्यांना होतो. मधुमेह असलेले रूग्णांमध्ये हृदयविकाराच्या झटक्याची जोखीम सर्वाधिक असते.
  • रक्तदाब. वर्षांपासून असणारा वाढलेला रक्तदाब आपल्या हृदयास पुरवित असलेल्या धमन्यांना जलदपणे कठीण बनवून नुकसान पोहचवितो. आपले जसे वय वाढते तसे, उच्च रक्तदाबाची जोखीम वाढते परंतु अनेक लोकांची मुख्य चूक म्हणजे त्यांचे वजन जास्त असूनही ते खूप मीठ असलेला आहार घेतात ही होय.
  • रक्तात अत्यधिक प्रमाणात कोलोस्टेरॉलची उपस्थिती. धमन्यांच्या भिंतीमध्ये जमा झालेल्यांमध्ये मुख्यत: कोलेस्टेरॉल असते आणि ते आपल्या हृदयास पुरवठा करणार्या धमन्यांच्या समावेशासह आपल्या संपूर्ण शरीरात धमन्या अरूंद करू शकतात. खराब कोलेस्टेरॉलच्या उच्च रक्त पातळींमुळे आपल्या हृदयविकाराच्या झटक्याची जोखीम वाढते. निम्न-घनता लिपोप्रोटिन (LDL) कोलेस्टेरॉल ("खराब" कोलेस्टरॉल) मुळे धमन्या अरूंद होण्याची शक्यता जास्त असते. संपृक्त चरबी आणि कोलेस्टरॉल खूप असलेल्या आहारामुळे LDL वाढते. आपल्या आहाराशी संबंधित रक्तातील चरबीचा प्रकार, ट्रायग्लिसराइडची पातळी जास्त असणे हे अनुचित आहे. परंतु, अतिरिक्त कोलेस्टरॉल काढून टाकण्यात शरीरास मदत करणारे, HDL, चांगले कोलेस्टरॉल, असणे योग्य आहे आणि ते हृदयविकाराच्या झटक्याची आपली जोखीम कमी करते.
  • हृदयविकाराच्या झटक्याचा कौटुंबिक इतिहास. आपली कोणतीही भावंडे, पालक किंवा आजी-आजोबा यांना हृदयविकाराचा झटका आला असल्यास, आपल्याला वाढती जोखीम आहे. आपला आणि आपल्या कुटुंबाचा अनुवंशिकरित्या वाढलेल्या अवांछित रक्ताच्या कोलेस्टेरॉल पातळीसाठी अनुकूल असाल. उच्चरक्तदाब कुटुंबांमध्ये देखील असू शकतो.
  • कोणतीही नसलेली किंवा कमी असलेली शारीरिक गतिविधी. निष्क्रिय जीवनशैलीमुळे रक्तातील कोलेस्टेरॉलची उच्च पातळी आणि स्थूलपणा असू शकतो. नियमित एरोबिक गतिविधीमुळे हृदयाशी संबधित स्नायू सुदृढ होतात, ज्यामुळे एकंदर हृदयाविकाराच्या झटक्याची जोखीम कमी होते. उच्च रक्तदाब कमी करण्यात व्यायाम देखील उपयुक्त होऊ शकतो.
  • स्थूलपणा. अधिक वजन असण्यामुळे शरीरातील चरबीचे प्रमाण वाढते (बॉडी मास इंडेक्स 30 किंवा अधिक). उच्च कोलेस्टेरॉल पातळी, उच्च रक्तदाब आणि मधुमेह अधिक वजन असण्याशी संबद्ध असल्याने अधिक वजन असण्यामुळे हृदयविकाराच्या झटक्याची जोखीम वाढते.
  • तणाव. तणावास अयोग्य प्रतिसाद आपल्या हृदयविकाराच्या झटक्याची जोखीम वाढवू शकतो. सतत तणावाखाली असण्याने मानसिक तणावामधून अधिक खाण्यात येते किंवा धूम्रपान किंवा औषधांचा गैरवापर केला जातो. खूप जास्त तणाव तसेच, क्रोध आपला रक्तदाब देखील वाढवू शकतो.
  • बेकायदेशीर औषधांचा वापर. औषधांचा गैरवापर कोकीन किंवा एम्फेटामाइन्स आपल्या हृदय रोहीणींचे आकुंचन करण्यात परिवर्तित करू शकते ज्यामुळे हृदय विकाराचा झटका येऊ शकतो.

कारणे

आपल्या हृदयास भरपूर-ऑक्सिजन असलेले रक्त पुरविणार्या एक किंवा अधिक धमन्या अवरोधित होतात तेव्हा, हृदयविकाराचा झटका येतो. कालांतराने, किटण संबोधल्या जाणार्या कोलेस्टेरॉलच्या निर्मितीमुळे हृदय रोहीणी अरूंद होऊ शकते. संपूर्ण शरीरामध्ये धमन्यांतील किटणच्या निर्मितीच्या या प्रक्रियेस धमन्यांचे कठीण होणे म्हणतात. या किटणपैकी एक हृदयविकाराच्या झटक्यादरम्यान फुटू शकते आणि फुटण्याच्या स्थानावर एक रक्ताची गुठळी तयार होते. गुठळी पुरेशी मोठी असल्यास धमनीतून प्रवाहाचे संपूर्ण अवरोधन होते. धमन्यांचे कठीण होण्यामुळे आपल्या हृदय रोहीण्या अरूंद होतात तेव्हा हृदय रोहीणी रोग होतो. हृदय रोहीणी रोगामुळे सर्वाधिक हृदय विकाराचे झटके येतात.

हृदयाच्या स्नायूंच्या भागाकडील रक्त प्रवाह बंद करणारे हृदय रोहीणींचे आकुंचन हे हृदय विकाराच्या झटक्याचे दुसरे असामान्य कारण आहे. कोकिनसारख्या अंमली पदार्थामुळे जीवनास-धोकादायक असलेले आकुंचन होते. हृदय रोहीणीच्या कापण्यामुळे (हृदय रोहीणी विच्छेदनामुळे) देखील हृदयविकाराचा झटका येऊ शकतो. शरीराच्या इतर भागांमधून जाणारी रक्ताची लहान गुठळी किंवा गाठ हे हृदयविकाराच्या झटक्याचे दुसरे असामान्य कारण आहे.

हृदयविकाराचा झटका ही बर्याच तासांच्या प्रदीर्घ प्रक्रियेची परिणती असते. अधिक हृदय ऊतके रक्तापासून वंचित राहातात आणि त्यांचा र्हास होतो किंवा प्रत्येक मिनिटास नष्ट होतात. वेळेवर रक्तप्रवाह पूर्ववत सुरू झाल्यास हृदयाची हानी मर्यादित किंवा प्रतिबंधित होऊ शकते.

लक्षणे

हृदयविकाराच्या झटक्याची सर्वसामान्य लक्षणे ही आहेत:

  • छातीच्या मध्यभागी दाब, पूर्णता किंवा पिळणाची वेदना जी काही मिनिटांपेक्षा अधिक वेळ राहते
  • आपल्या छातीपासून खांदे, बाहू, पाठ किंवा अगदी आपल्या दात किंवा जबड्यापर्यंत वाढणारी वेदना
  • छातीतील वेदनांचे वाढते भाग
  • उदराच्या वरच्या भागात दीर्घकाळ वेदना
  • श्वासोच्छ्वासात अडथळा
  • घाम येणे
  • आगामी नाशाची जाणीव
  • बेशुद्ध पडणे
  • मळमळ आणि उलट्या

महिला रूग्णांमध्ये हृदयविकाराची भिन्न किंवा पारंपारिक लक्षणे असतात, ज्यात हे समाविष्ट होते:

  • उदरात वेदना किंवा हृदयात जळजळ
  • थंड दमट त्वचा
  • घेरी किंवा प्रकाशाची भोवंड
  • असाधारण किंवा अवर्णनीय थकवा

हृदयविकाराच्या झटक्याची लक्षणे भिन्न असू शकतात. हृदयविकाराच्या झटक्याचे सर्व रूग्ण समान लक्षणांचा अनुभव घेत नाही किंवा त्यांना समान प्रमाणात अनुभवत नाही. अन्य स्वारस्यपूर्ण वैशिष्ट्य हे आहे की आपण टीव्हीवर पाहिलेले असते तसे हृदयविकाराचे अनेक झटके नाट्यमय नसतात. काही रूग्णांमध्ये, कोणतीही लक्षणे नसतात. तरीही, आपणास अशी चिन्हे आणि लक्षणे असल्यास आपल्याला खरोखर हृदयविकार असू शकतो.

हृदयविकाराच्या झटक्याची वेळ निर्धारत नाही आणि तो दिवसाच्या कोणत्याही वेळेत — कार्यस्थानी किंवा खेळताना, आपण विश्रांती घेत असताना किंवा आपण हालचाली करत असताना उद्भवू शकतो. काही रूग्णांमध्ये हृदयविकाराचा झटका अचानक येतो परंतु अनेक लोक ज्यांना हृदयविकाराच्या झटक्याचा अनुभव येतो त्यांना चेतावणी चिन्ह आणि लक्षणे काही तास, दिवस, आठवडे आधीपासूनच दिसतात. हृदयविकाराच्या झटक्याची सर्वसामान्य आणि सर्वात आधीची चेतावणी म्हणजे पुन्हा पुन्हा होणार्या छातीतील वेदना (रक्तवाहिनी आकुंचन रोग) ज्या कष्टांनी प्रवर्तित होतात आणि आरामाने प्रकट होतात. हृदयास रक्त प्रवाह तात्पुरता कमी झाल्याने रक्तवाहिनी आकुंचन रोग होतो.

क्लिष्टता

हृदयविकाराच्या झटक्याची क्लिष्टता बर्याचदा हृदयविकाराच्या झटक्यादरम्यान आपल्या हृदयास झालेल्या क्षतीशी संबंधित असते. आपल्या हृदयाच्या क्षतिमुळे उद्भवणार्या सर्वात सामान्य समस्या या आहेत:

  • असामान्य हृदय लयी (हृदयाची गती मंद किंवा लयहीन होणे).

    हृदयविकाराच्या झटक्याने आपल्या हृदय स्नायूची हानी झाल्यास विद्युत "लघु परिपथ" विकसित केला जाऊ शकतो. यामुळे हृदयाच्या लयी असामान्य होतात ज्यातील काही गंभीर किंवा अगदी जीवघेण्या असू शकतात.
  • हृदय बंद पडणे.

    ही अशी स्थिती आहे ज्यात आपल्या हृदयातील क्षतीग्रस्त उती आपल्या हृदयातून रक्त पंप करण्याचे कार्य पुरेश्या प्रमाणात करू शकत नाही. कमी झालेली पंपिंग गतिविधी उतींचा आणि अवयवांचा रक्तप्रवाह कमी करते आणि श्वासाची कमतरता, थकवा निर्माण होतो व आपल्या घोट्यांना व पायांना घाम येतो.
  • हृदय भंजन.

    हृदयविकाराच्या झटक्याने कमकुवत हृदय स्नायूंच्या क्षेत्रातील भंजनामुळे हृदयाच्या भिंतीत छिद्र होऊ शकते. हे भंजन म्हणजे बर्याचदा थकवा असतो.
  • कप्प्याच्या समस्या.

    हृदयविकाराच्या झटक्यादरम्यान हृदयाचे कप्पे क्षतिग्रस्त होतात आणि गंभीर, जीवघेण्या गळती समस्या विकसित होऊ शकतात.

निदान

जर रूग्णास हृदयविकाराचा झटका आला असेल तर किंवा असे काही असण्याचा संशय असल्यास, त्याचे/तिचे निदान एका तातडीच्या मांडणीत केले जाईल. आपल्या काही चाचण्या घेतल्या जातील ज्या आपली चिन्हे आणि लक्षणे जसे छातीतील वेदना, हृदयविकाराच्या झटक्याचा सिग्नल किंवा इतर स्थिती तपासण्यास मदत करतील. या चाचण्यांमध्ये हे समाविष्ट होते:

  • इलेक्ट्रोकार्डिओग्राम (ECG). ही आपल्या हृदयातून जाणार्या तरंगांची विद्युत नोंदणी असते. मागील हृदय विकाराच्या झटक्याचा पुरावा इसीजी द्वारे उघडकीस आणला जाऊ शकतो. व्यायामादरम्यान आपल्या धमन्यांचे कठीण होण्याची लक्षणे आणि चिन्हांचा अधिक पुरावा असल्यास, आपले चिकित्सक इसीजी दरम्यान आपल्याला ट्रेडमिल वर चालण्यास किंवा एक स्थिर बाइक चालविण्यास सांगू शकतात.
  • रक्त तपासण्या. आपल्या हृदयाचे हृदयविकारामुळे नुकसान झालेले असल्यास काही हृदय एन्झाइम जे आपल्या रक्तात हळूवारपणे येतात त्यांना काढण्यासाठी रक्त तपासणी केली जाते.

अतिरिक्त चाचण्या

तात्काळ पाऊल उचलल्यानंतर आपल्या स्थिती हाताळण्यासाठी, चिकित्सक या अतिरिक्त चाचण्यांचा आदेश देऊ शकतात:

  • तणाव चाचणी: तणाव चाचणी ही देखील एक व्यायाम तणाव चाचणी आहे. शारीरिक गतिविधींच्या दरम्यान आपले हृदय किती चांगले कार्य करते त्याबद्दल माहिती एकत्र करण्यासाठी हिचा वापर केला जातो. बाइक किंवा ट्रेडमिलवर व्यायाम करून आपले हृदय दैनिक गतिविधी करण्यादरम्यान करते त्यापेक्षा अधिक तीव्रतेने आणि जलदपणे पंप करते. व्यायामादरम्यान आणि त्यानंतर हृदयाची चाचणी केल्याने आपल्या हृदयाच्या समस्या उघडकीस येऊ शकतात ज्या अन्यथा कदाचित लक्षात येण्याजोग्या नसतात. या प्रक्रियेमध्ये सहसा ट्रेडमिल वर चालणे किंवा स्टेशनरी बाइक चालविणे यांचा समावेश असतो ज्यावेळी आपल्या हृदयाची लय आणि रक्तदाब व श्वासोच्छवासाचे निरीक्षण केले जाते. तणाव चाचण्यांच्या काही प्रकारांमध्ये, आपल्या हृदयाची चित्रे घेतली जातात, जसे की तणाव इकोकार्डियोग्राम दरम्यान (अल्ट्रासाउंड) किंवा न्यूक्लियर तणाव चाचणी. जे रूग्ण काही अन्य कारणांमुळे व्यायाम करण्यात अक्षम आहेत त्यांच्यासाठी या व्यायामाचा हृदयावर पडणार्या प्रभावासमान प्रभाव असलेली औषधे हृदयास अधिक तीव्रतेने पंप करण्यासाठी वापरली जातात.
  • छातीचा क्ष किरण: या चाचणीद्वारे आपल्या हृदय आणि फुप्फुसाच्या प्रतिमा प्रदर्शित केल्या जातात. तसेच, आपल्या लक्षणांचे वर्णन करू शकतात त्या इतर स्थिती आणि आपले मोठे हृदय आहे की नाही हे देखील पाहिले जाऊ शकते.
  • इकोकार्डिओग्राम. हृदयाची प्रतिमा निर्माण करण्यासाठी हे आपल्या हृदयाच्या अल्ट्रासाऊंड चाचणीचा प्रकार आहे. आपल्या हृदयाच्या भागांना पुरेसे रक्त मिळते आहे की नाही किंवा कमी रक्त प्रवाहामुळे क्षतिग्रस्त हृदयाचे स्नायू यांसह हृदयविकाराच्या झटक्यासंबंधी समस्या ओळखण्यासाठी चिकित्सकांद्वारे या प्रतिमा पाहिल्या जातात. काहीवेळा, एक इकोकार्डिओग्राम तणाव चाचणी दरम्यान कार्यप्रदर्शन करते.
  • आण्विक तणाव चाचणी. आराम आणि तणावादरम्यान आपल्या हृदय स्नायुंचा रक्त प्रवाह जाणण्यासाठी ही चाचणी घेतली जाते. ती नियमित तणाव चाचणी समान आहे परंतु एक रेडिओसक्रिय पदार्थ वापरते.
  • हृदयाची अँजिओग्राफी. चाचणीद्वारे हृदयरोहिणीमधील संकोच किंवा अडथळे प्रकट होतात. या चाचणीत आपल्या हृदयाच्या धमन्यांमध्ये एक द्रव रंगद्रव्य एका लांब, बारीक नळी (कॅथेटर) द्वारे सोडले जाते जे सहसा आपल्या पायामधील धमनीमधून, आपल्या हृदयाच्या धमनीमध्ये भरले जाते. आपल्या धमन्यांमध्ये जसे रंगद्रव्य भरले जाते तसे धमन्या क्ष-किरणांवर दृश्यमान होतात. अडथळ्याच्या कोणताही भाग त्यानंतर प्रकट होतो.
  • हृदयसंबंधी संगणकीय टोमोग्राफी (CT) स्कॅन. या चाचणीच्या कार्यप्रदर्शनादरम्यान, आपण डोनट आकार असलेल्या यंत्राच्या आत टेबलवर झोपतात. यंत्रात एक क्ष किरण नळी असते जी आपल्या शरीराभोवती फिरते आणि आपल्या हृदय व छातीच्या प्रतिमा संकलित करते. आपल्या हृदयाच्या धमन्यांपैकी एखादी संकुचित असल्यास किंवा आपले हृदय मोठे झाले असल्यास या प्रतिमा दर्शवू शकतात.
  • हृदयासंबंधी MRI: या चाचणीत, एक चुंबकीय क्षेत्र तयार करण्यासाठी रूग्णास लांब नळीसारख्या एका टेबलावर झोपायला सांगितले जाते. चुंबकीय क्षेत्र आपल्या काही पेशींमध्ये आण्विक कण संरेखित करते. या संरेखित कणांवर रेडिओ तरंग प्रसारित केले जातात तेव्हा सिग्नल निर्माण होतात. हे सिग्नल कोणत्या प्रकारच्या ऊती आहेत त्यानुसार भिन्न असतात. सिग्नल आपल्या हृदयाच्या प्रतिमा तयार करतात.

उपचार

हृदयविकाराच्या झटक्याचे उपचार स्थितीनुसार भिन्न असतात. आक्रमक प्रक्रियेतून जाऊन किंवा दोन्ही — स्थितीच्या गंभीरतेवर अवलंबून आणि हृदयाच्या क्षतिच्या प्रमाणानुसार रूग्णावर उपचार केले जाऊ शकतात.

औषधोपचार

अधिक हृदय उती ऑक्सिजन गमावतात किंवा हृदयविकाराच्या एका झटक्यानंतर प्रत्येक मिनिटास र्हास पावतात किंवा मृत होतात. हृदय क्षती प्रतिबंधित करण्यासाठी रक्त प्रवाहाचे त्वरीत पुनर्संचयन हा मुख्य मार्ग आहे. हृदयविकाराच्या झटक्यावर दिल्या जाणार्या औषधोपचारात हे समाविष्ट होते:

  • एँस्पिरीन. अशाप्रकारे रक्तप्रवाह कायम ठेवण्यास मदत करून संकोचित धमनीद्वारे हे रक्ताच्या गुठळ्या कमी करते.
  • थ्रोंबोलायटिक्स. यास गुठळी रूपद युग्म असेही संबोधले जाते, ही औषधे आपल्या हृदयात रक्त अवरोधित करतात त्या रक्ताच्या गुठळ्या विरघळवण्यास मदत करतात.
  • सुपरास्पिरीन. ही गुठळ्या निर्मिती प्रतिबंधित करण्यासाठी सुधारित क्षमतेसह आणि क्लोपिडोग्रेल असलेली एस्पिरीन सारखी औषधे आहेत.
  • रक्त-विरलीकरण औषधोपचार. हेपरीन सारखे औषधोपचार आपले रक्त कमी "चिकट" बनविण्यासाठी आणि अधिक धोकेदायक गुठळ्या कमी तयार होण्यासाठी दिले जाऊ शकतात.
  • वेदना शामके. हृदयविकाराचा झटका छातीतील तीव्र वेदनांशी संबद्ध असतो आणि आपण एक वेदना शामक प्राप्त करू शकता, जसे की अस्वस्थता कमी करण्यासाठी मॉरफिन.
  • नायट्रोग्लिसरीन. हे औषधोपचार रक्त प्रवाह सुधारित करून धमन्यांच्या रक्त नलिका तात्पुरत्या खुल्या करतात.
  • बेटा ब्लॉकर्स. हे औषधोपचार आपले हृ्दय स्नायू शिथिल करण्यास, आपले हृदयस्पंदन मंद करण्यास आणि आपले हृदयाचे कार्य सोपे करून रक्त दाब कमी करण्यास मदत करतात.
  • कोलेस्टेरॉल-कमी करणारे औषधोपचार. या औषधोपचारांनी अवांछित रक्त कोलेस्टरोल स्तर कमी केला जातो.

शस्त्रक्रियात्मक आणि इतर प्रक्रिया

औषधोपचारांसह आपल्या हृदयविकाराच्या झटक्यावर प्रक्रिया करण्यासाठी खालीलपैकी एक प्रक्रिया केली जाऊ शकते:

  • अँजिओप्लास्टी आणि स्टेंटिंग. हे अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग किंवा जीवनशैली बदल आणि औषधोपचार प्रभावीरित्या आपल्या जुन्या, स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगावर उपचार करत नाही तेव्हा वापरले जातात.
  • हृदय रोहिणी बायपास शस्त्रक्रिया. जेव्हा स्टेंटिंग सहाय्य करू शकत नाही तेव्हा हे केले जाते. ही हृदय धमन्यांवरील मोठी शस्त्रक्रिया असते आणि आपल्या शरीराच्या इतर भागाचा वापर करून किंवा सिंथेटीक फॅब्रिकद्वारे वापरलेली नळी वापरून एक कलम बायपास समाविष्ट करते. या प्रक्रियेसह, अवरोधित किंवा संकुचित धमन्यांमध्ये रक्त प्रवाह सुरू ठेवला जातो.

या औषधोपचार/प्रक्रियांनंतर, आपल्या हृदयास रक्तप्रवाह पुनर्संचयित केला जातो आणि हृदयविकाराच्या झटक्यानंतरही आपली स्थिती स्थिर असते. आपल्याला निरीक्षणासाठी रूग्णालयात ठेवले जाऊ शकते.

प्रतिबंधासाठी जीवनशैली परिमापने

जीवनशैली बदल आपल्याला हृदविकाराच्या झटक्यांच्या घटना प्रतिबंधित करण्यास किंवा प्रलंबित करण्यास मदत करू शकते.

  • धूम्रपान बंद करें.
  • आठवड्याच्या जास्तीत जास्त दिवसांमध्ये व्यायाम करा.
  • आरोग्यदायी अन्न खा.
  • अतिरीक्त पांऊंड वजन कमी करा आणि स्वास्थ्यपूर्ण वजन कायम ठेवा.
  • तणावाचे व्यवस्थापन करा.
  • आपल्याला उच्च कोलेस्टरोल, उच्च रक्त दाब, मधूमेह किंवा इतर जुना आजार असल्यास स्थिती व्यस्थापित करण्यासाठी आणि एकुणच संपूर्ण स्वास्थ्य जपण्यासाठी आपल्या डॉक्टरांसह कार्य करा.

मायोकार्डियल इन्फ़ार्कशन

  • संक्षिप्त विवरण
  • जोख़िम के कारक
  • कारण
  • लक्षण
  • जटिलताएँ
  • निदान
  • उपचार
  • रोकथाम

हृदयाघात को तकनीकी रूप से मायोकार्डियल इन्फ़ार्कशन (MI) या एक्यूट मायोकार्डियल इन्फ़ार्कशन (AMI) के रूप में जाना जाता है, जो हृदय के किसी भाग में रक्त आपूर्ति की कमी के कारण उन विशेष हृदय कोशिकाओं की मृत्यु के फलस्वरूप उत्पन्न होता है. हृदयाघात सामान्यत: किसी कोरोनरी धमनी की रुकावट (अवरोध) के बाद कमज़ोर एथीरोस्क्लेरोटिक प्लाक के क्षतिग्रस्त होने के कारण होता है. इसके परिणामस्वरूप रक्त आपूर्ति में अवरोध आ जाता है और ऑक्सीजन की कमी हो जाती है. यदि इस दशा का उचित समय पर उपचार नहीं किया जाता है, तो यह हृदय के माँसपेशीय ऊतक (मायोकार्डियम) के क्षतिग्रस्त होने या मृत (इन्फ़ार्कशन) होने का कारण बन सकती है.

Myocardial_Infarction

आपके हृदय की धमनियों सहित आपके पूरे शरीर की धमनियों को सँकरा करने वाले वसा के अवांछित जमाव (एथीरोस्कलेरोसिस) में कुछ कारकों का योगदान होता है. इनमें से कई कारकों में सुधार करना या उन्हें समाप्त करना संभव है, जिससे आपको पहले या अनुवर्ती हृदयाघात होने की संभावनाएँ कम होती हैं.

हृदयाघात के जोखिम कारकों में ये शामिल हैं:

  • आयु. हृदयाघात 45 वर्ष या अधिक आयु के पुरुषों और 55 वर्ष या अधिक आयु की महिलाओं में अधिक सामान्य है.
  • धूम्रपान. धूम्रपान करने और/या लंबे समय तक धूम्रपान के संपर्क में रहने से धमनियों की आंतरिक भित्तियाँ क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, जिससे कोलेस्ट्रॉल व अन्य पदार्थों का जमाव होने लगता है और रक्त प्रवाह धीमा हो जाता है. इन धमनियों में अन्य धमनियों के साथ आपके हृदय की धमनियाँ भी शामिल हैं. धूम्रपान से रक्त का घातक थक्का बनने और हृदयाघात होने का जोखिम बढ़ जाता है.
  • मधुमेह. मधुमेह, ऐसा रोग जिसमें शरीर इंसुलिन का पर्याप्त उत्पादन नहीं कर पाता है या इंसुलिन के साथ यथोचित प्रतिक्रिया नहीं कर पाता है, यह रोग मध्यम आयु के व्यक्तियों और अधिक वज़न वाले व्यक्तियों में अधिकांशत: पाया जाता है. मधुमेह के रोगियों में हृदयाघात का अधिक जोखिम होता है.
  • रक्तचाप. उच्च रक्तचाप की स्थिति वर्षों तक रहने से आपकी धमनियों को क्षति पहुँचती है, जिससे एथीरोस्कलेरोसिस की संभावना में वृद्धि होती है और आपके हृदय को नुकसान पहुँचता है. जब आपकी आयु में वृद्धि होती है, तो उच्च रक्तचाप का जोखिम बढ़ जाता है, लेकिन अधिकांश व्यक्तियों में इसका कारण भोजन में अत्यधिक नमक का सेवन करना और उनका वज़न अधिक होना है.
  • हाइपरकोलेस्टीरोलेमिया. धमनियों की भित्तियों में होने वाले जमाव में मुख्यत: कोलेस्ट्रॉल होता है, और यह आपके शरीर की धमनियों के सँकरी होने का कारण बन सकता है, जिसमें आपके हृदय को आपूर्ति करने वाली धमनियाँ भी शामिल हैं. रक्त में हानिकारक कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर आपमें हृदयाघात होने का खतरा बढ़ा देता है. कम-घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL) कोलेस्ट्रॉल ("खराब" कोलेस्ट्रॉल) धमनियों के सँकरा होने के लिए सबसे अधिक उत्तरदायी होता है. यह LDL, संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रॉल की अधिकता वाले आहार के कारण बढ़ता है. आहार में एक प्रकार की रक्त वसा जिसे ट्राइग्लिसराइड कहते हैं, उसका अधिक सेवन अनुपयुक्त होता है. लेकिन, HDL, जो कि एक लाभप्रद कोलेस्ट्रॉल होता है, आपके शरीर से अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल की सफ़ाई करने में सहायता करता है, यह उपयुक्त होता है और आपके हृदयाघात के खतरे को कम करने का कार्य करता है.
  • हृदयाघात का पारिवारिक इतिहास. भाई-बहनों, माता-पिता या पूर्वजों में हृदयाघात होने की स्थिति में आपको हृदयाघात होने का जोखिम बढ़ जाता है. आप और आपके परिवार में आनुवांशिक रूप से अवांछित रक्त कोलेस्ट्रॉल स्तर के और प्रवृत्त होने की संभावना हो सकती है. उच्च रक्तचाप भी एक परिवार से दूसरे परिवार में जा सकता है.
  • शारिरिक गतिविधि नहीं करना या कम करना. रक्त में कोलेस्ट्रॉल का उच्च स्तर और मोटापा सुस्त जीवनचर्या के कारण होते हैं. नियमित व्यायाम बेहतर हृदय स्वास्थ्य प्रदान करता है, जिससे हृदयाघात के सभी प्रकार के जोखिम कम हो जाते हैं. व्यायाम, उच्च रक्तचाप को कम करने में भी लाभप्रद होता है.
  • मोटापा. अधिक वज़न होने से शरीर में वसा के अनुपात में वृद्धि हो जाती है (30 या अधिक का बॉडी मॉस इंडेक्स). शरीर का वज़न अधिक होने से हृदयाघात का जोखिम बढ़ जाता है क्योंकि यह रक्त कोलेस्ट्रॉल के उच्च स्तर, उच्च रक्तचाप और मधुमेह से संबंधित होता है.
  • तनाव. अत्यधिक तनाव हृदयाघात का कारण बन सकता है. लगातार तनाव में रहने से तंत्रिकीय तनाव के कारण आहार या धूम्रपान या नशीली दवाओं का प्रयोग बढ़ जाता है. अत्यधिक तनाव, के साथ ही क्रोध भी रक्तचाप में वृद्धि कर सकता है.
  • अनुचित दवाओं का उपयोग. कोकेन या एंफेटामाइन (उत्तेजक दवाएँ) के प्रयोग से आपकी कोरोनरी धमनी में ऐंठन उत्पन्न हो सकती है जो हृदयाघात का कारण बन सकती है.

आपके हृदय को ऑक्सीजन-युक्त रक्त पहुँचाने वाली एक या अधिक धमनियों (कोरोनरी धमनी) के अवरुद्ध हो जाने के परिणामस्वरूप हृदयाघात उत्पन्न होता है. समय बीतने के साथ, कोलेस्ट्रॉल के जमाव (प्लाक) के कारण कोरोनरी धमनी सिकुड़ सकती है. शरीर की धमनियों में प्लाक के जमाव की यह प्रक्रिया एथीरोस्कलेरोसिस कहलाती है. इनमें से कोई एक प्लाक हृदयाघात के दौरान क्षतिग्रस्त हो सकता है और क्षति के स्थान पर रक्त का कोई थक्का निर्मित हो सकता है. यदि थक्का अधिक बड़ा होता है, तो धमनी में प्रवाह पूर्ण रूप से अवरोधित हो जाता है. एथीरोस्कलेरोसिस के कारण आपकी कोरोनरी धमनी सँकरी हो जाने की स्थिति में कोरोनरी आर्टरी रोग उत्पन्न होता है. अधिकांश हृदयाघात, कोरोनरी आर्टरी रोग के कारण उत्पन्न होते हैं.

कोरोनरी आर्टरी में ऐंठन होने से हृदय की माँसपेशी के किसी भाग में रक्त प्रवाह रुक जाता है, यह भी हृदयाघात का एक अन्य असामान्य कारण है. नशीली दवाओं जैसे कोकेन आदि के कारण जानलेवा दौरा पड़ सकता है. हृदय की धमनी में चीरे लग जाने (कोरोनरी आर्टरी डिसेक्शन) से भी हृदयाघात हो सकता है. रक्त के छोटे थक्के या ट्यूमर जो शरीर के अन्य भागों (कोरोनरी एम्बोलिज़्म) से आते हैं, हृदयाघात के अन्य असामान्य कारण हैं.

हृदयाघात कई घंटों तक चलने वाली लंबी प्रक्रिया की पराकाष्ठा होता है. प्रत्येक गुज़रते मिनट के साथ रक्त से वंचित या नष्ट या मृत होने वाले हृदय ऊतकों की संख्या बढ़ती जाती है. यदि समय रहते रक्त प्रवाह को पुन: स्थापित कर लिया जाए तो हृदय को होने वाली क्षति को रोका या सीमित किया जा सकता है.

हृदयाघात के सर्वाधिक सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं:

  • आपके सीने के बीच में प्रेशर, भारीपन या ऐंठन वाला दर्द जो कुछ मिनट से अधिक देर तक बना रहता है
  • दर्द आपके सीने से आपके कंधे, भुजा, पीठ, या यहाँ तक कि आपके दाँत और जबड़े की ओर बढ़ता जाता है
  • सीने के दर्द का बार-बार उत्पन्न होना पेट के ऊपरी भाग में लंबे समय तक दर्द
  • साँस लेने में परेशानी
  • पसीना आना
  • कुछ बुरा होने की चिंता होना
  • बेहोशी
  • मतली आना और उल्टी होना

महिला रोगियों में हृदयाघात के भिन्न या असामान्य लक्षण पाए जाते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं:

  • पेट में दर्द या सीने में चुभन
  • ठंडी चिपचिपी त्वचा
  • चक्कर आना या सिर घूमना
  • असामान्य या अजीब थकान

हृदयाघात के लक्षण कई प्रकार के हो सकते हैं. हृदयाघात के सभी रोगियों को समान लक्षणों या उनका उसी हद तक अनुभव नहीं होता. अन्य रोचक पहलू यह है कि कई हृदयाघात उतने नाटकीय नहीं होते जैसे आप टीवी पर देखते हैं. कुछ मरीज़ों में कोई भी लक्षण नहीं होते हैं. लेकिन आपमें जितने अधिक संकेत और लक्षण होंगे, आपको हृदयाघात होने की संभावना उतनी ही अधिक हो सकती है.

हृदयाघात का समय तय नहीं होता और यह दिन के किसी भी समय हो सकता है— कार्य करने या खेलते समय, आपके विश्राम करने के समय या अपके गतिमान होने के समय. कुछ मरीज़ों में हृदयाघात अचानक होता है, लेकिन हृदयाघात का अनुभव करने वाले कई लोगों को इसकी चेतावनी वाले संकेत और लक्षण कई घंटे, दिन या सप्ताह भर पहले ही एडवांस में मिल जाते हैं. हृदयाघात की सबसे सामान्य और शीघ्र मिलने वाली चेतावनी, सीने में बार-बार होने वाला दर्द (एंजाइना) हो सकता है, जो परिश्रम करने पर सक्रिय हो जाता है और विश्राम करने से ठीक हो जाता है. हृदय को होने वाले रक्त प्रवाह में अस्थायी कमी के कारण एंजाइना हो सकता है.

हृदयाघात की जटिलताएँ, अक्सर हृदयाघात के दौरान आपके हृदय को होने वाली क्षति से संबंधित होती हैं. हृदय को हुई क्षति के कारण उत्पन्न होने वाली सबसे सामान्य समस्याएँ ये हैं:

  • हृदय की असामान्य रिद्म (एरिथमिया)

    यदि हृदयाघात से आपके हृदय की माँसपेशी क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो इलेक्ट्रिक "शॉर्ट सर्किट" उत्पन्न हो सकते हैं. इनके कारण हृदय की रिद्म असामान्य हो सकती हैं, जिनमें से कुछ गंभीर होने के साथ-साथ जानलेवा भी हो सकते हैं.
  • हार्ट फ़ेल होना

    इस दशा में आपके हृदय में क्षतिग्रस्त ऊतक, रक्त को आपके हृदय से बाहर पंप करने का कार्य समुचित रूप से नहीं कर पाता है. पंपिंग क्रिया कम होने से ऊतकों और अंगों में रक्त प्रवाह कम हो जाता है और इससे साँस लेने में परेशानी, थकान और आपके टखनों और पाँवों में सूजन आ सकती है.
  • हृदय फटना

    हृदयाघात के कारण कमजोर हुई हृदय की माँसपेशी के क्षेत्रों के फट जाने से हृदय की भित्ति के किसी भाग में छिद्र हो सकता है. फटने की यह घटना अक्सर जानलेवा होती है.
  • वॉल्व संबंधी समस्याएँ

    हृदयाघात के दौरान हृदय के वाल्व क्षतिग्रस्त हो जाते हैं और ये लीकेज संबंधी गंभीर, जानलेवा समस्याएँ उत्पन्न कर सकते हैं.

यदि किसी मरीज़ को हृदयाघात हुआ है या उसे ऐसा होने का संदेह है, तो उसका निदान आपातकालीन व्यवस्था के तहत ही हो सकेगा. आपके कुछ ऐसे टेस्ट किए जाएँगे जो यह जानने में मदद करेंगे कि क्या आपके संकेत और लक्षण जैसे सीने का दर्द, हृदयाघात या अन्य दशा का संकेत देते हैं. इन टेस्ट में ये शामिल हैं:

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG). यह आपके हृदय में सिग्नल संचारित होने की स्थिति की इलेक्ट्रिकल रिकॉर्डिंग है. ECG से पिछले हृदयाघात का प्रमाण मिल सकता है. यदि आपके एथीरोस्कलेरोसिस के संकेत और लक्षण व्यायाम के दौरान अधिक प्रकट होते हैं, तो आपका चिकित्सक ECG के दौरान आपसे ट्रेडमिल पर चलने या स्थिर बाइक चलाने के लिए कह सकता है.
  • रक्त के टेस्ट. यदि आपका हृदय, हृदयाघात से क्षतिग्रस्त हो गया है, तो ऐसे में रक्त में धीरे-धीरे लीक होने वाले हृ्दय के विशिष्ट एंजाइम के स्तर में वृद्धि देखने के लिए रक्त का टेस्ट किया जाता है.

अतिरिक्त टेस्ट

आपकी बीमारी के उपचार के लिए त्वरित उपाय करने के बाद चिकित्सक ये अतिरिक्त टेस्ट कराने के लिए कह सकता है:

  • स्ट्रेस टेस्ट. स्ट्रेस टेस्ट एक तरह का व्यायाम स्ट्रेस टेस्ट भी होता है. इसका उपयोग यह जानकारी एकत्रित करने के लिए किया जाता है कि शारीरिक गतिविधि के दौरान आपका हृदय कितने अच्छे ढंग से कार्य करता है. बाइक या ट्रेडमिल पर व्यायाम करने पर आपका हृदय, अधिकांश दैनिक गतिविधियों की तुलना में अधिक और तेज़ पंपिंग करता है. व्यायाम के समय और उसके बाद हृदय का परीक्षण करने से आपके हृ्दय के भीतर की ऐसी समस्याओं का पता लग सकता है, जिन पर हो सकता है कि अन्यथा ध्यान नहीं दिया जाता. सामान्यत: इस कार्यविधि में ट्रेडमिल पर चलना या कोई स्थिर बाइक चलाना शामिल होता है, जिसके दौरान आपके हृ्दय की रिद्म व रक्तचाप और श्वसन को मॉनिटर किया जाता है. कुछ प्रकार के स्ट्रेस टेस्ट जैसे स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम (अल्ट्रासाउंड) या न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट के दौरान आपके हृ्दय का चित्र लिया जाएगा. ऐसे रोगियों में, जो किसी कारणवश व्यायाम नहीं कर पाते हैं, उनके हृदय की पंपिंग को बढ़ाने के लिए हृदय पर व्यायाम का प्रभाव उत्पन्न करने वाले औषधोपचार का उपयोग किया जाता है.
  • सीने का X-रे. इस टेस्ट के द्वारा आपके हृदय और फ़ेफ़ड़ों की छवियाँ प्रदर्शित की जाती हैं. इसके अलावा, अन्य दशाएँ भी देखी जा सकती हैं, जो आपके लक्षणों को स्पष्ट कर सकती हैं और यह भी देखा जा सकता है कि कहीं आपके हृ्दय का आकार बढ़ा हुआ तो नहीं है.
  • इकोकार्डियोग्राम. यह हृदय की छवियाँ लेने के लिए आपके हृ्दय के अल्ट्रासाउंड परीक्षण का एक प्रकार है. आपके हृदय के ऐसे क्षेत्र जिन्हें पर्याप्त रक्त नहीं मिल रहा हो या हृदय की ऐसी माँसपेशी जो कम रक्त प्रवाह के कारण क्षतिग्रस्त हो गई हो, इसके साथ ही हृदयाघात-संबंधी समस्याओं की पहचान करने के लिए ये छवियाँ चिकित्सक द्वारा देखी जाती हैं. कभी-कभी इकोकार्डियोग्राम, स्ट्रेस टेस्ट के दौरान किया जाता है.
  • न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट. यह टेस्ट विश्राम करने और तनाव के समय आपके हृदय की माँसपेशी तक होने वाले रक्त प्रवाह को जानने के लिए किया जाता है. यह नियमित स्ट्रेट टेस्ट के समान होता है, लेकिन इसमें रेडियोधर्मी पदार्थ का उपयोग होता है.
  • कोरोनरी एंजियोग्राफ़ी. इस टेस्ट से कोरोनरी धमनियों के सँकरी या अवरोधित होने का पता लगाया जा सकता है. इस परीक्षण के तहत लिक्विड डाइ को एक लंबी पतली ट्यूब (कैथेटर) के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों में इंजेक्ट किया जाता है, जो सामान्यत: आपके पैर की धमनी के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों तक पहुँचाई जाती है. एक्स-रे पर धमनियाँ दिखाई देने लगती हैं, क्योंकि डाइ आपकी धमनियों में भर जाती है. इसके बाद अवरोध वाले किसी भी क्षेत्र का पता लगाया जा सकता है.
  • कार्डिएक कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़्री (CT) स्कैन. इस टेस्ट के दौरान, आपको डॉनट के आकार की मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मशीन के भीतर X-रे टूयब होती है जो आपके शरीर के चारों ओर घूमती है और आपके हृदय और सीने की छवियाँ लेती है. यदि आपके हृदय की कोई धमनी सँकरी हो गई है या आपके हृ्दय का आकार बढ़ गया है तो ये छवियाँ उसे प्रदर्शित कर सकती हैं.
  • कार्डिएक MRI: इस टेस्ट में मरीज़ को मैग्नेटिक फ़ील्ड उत्पन्न करने वाली लंबी ट्यूब जैसी मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मैग्नेटिक फ़ील्ड आपकी कुछ कोशिकाओं में एटॉमिक कण अलाइन कर देता है. जब अलाइन किए गए इन कणों की ओर रेडियो तरंगें ब्रॉडकास्ट होती हैं तो सिग्नल उत्पन्न होते हैं. ये सिग्नल संबंधित ऊतक के प्रकार के अनुसार भिन्न होते हैं. यह सिग्नल आपके हृदय की छवियाँ बनाते हैं.

हृदयाघात का उपचार परिस्थिति के आधार पर भिन्न होता है. हो सकता है कि मरीज़ का उपचार औषधोपचार से, किसी गहन कार्यविधि से या दोनों से किया जाए — जो स्थिति की गंभीरता और हृदय को हुई क्षति की मात्रा पर आधारित होगा.

औषधोपचार

हृदयाघात के बाद बीतने वाले प्रत्येक मिनट के साथ ही हृदय के ऑक्सीजन खोने और विकृत होने वाले या मरने वाले ऊतकों की संख्या बढ़ती जाती है. त्वरित रूप से रक्त प्रवाह पुन: स्थापित करना ही हृदय को क्षतिग्रस्त होने से बचाने का मुख्य तरीका है. हृदयाघात के उपचार के लिए दिए जाने वाले औषधोपचार में ये शामिल हैं:

  • ऐस्पिरिन. यह रक्त का थक्का जमना कम कर देती है, इस प्रकार यह सँकरी धमनियों में से रक्त के प्रवाह को बनाए रखने में सहायता करती है.
  • थ्रॉम्बोलिटिक्स. इन्हें क्लॉट बस्टर्स भी कहा जाता है, ये औषधियाँ आपके हृदय के रक्त प्रवाह को अवरोधित करने वाले रक्त के थक्के को घोलने में सहायता करती हैं.
  • सुपरएस्पिरिन. ये थक्का बनना रोकने की बेहतर क्षमता रखने वाली एस्पिरिन जैसी औषधियाँ हैं, और इसके तहत क्लॉपिडोग्रेल आती है.
  • रक्त पतला करने वाले औषधोपचार. आपके रक्त को कम "चिपचिपा" करने और उसकी अधिक खतरनाक थक्के बनाने की क्षमता को कम करने के लिए हेपरिन जैसे औषधोपचार दिए जा सकते हैं.
  • दर्द निवारक. हृदयाघात के दौरान सीने में गंभीर दर्द होता है और आपकी पीड़ा कम करने के लिए मॉर्फ़िन जैसा दर्द निवारक दिया जा सकता है.
  • नाइट्रोग्लिसरीन. यह औषधोपचार धमनीय रक्त वाहिकाओं को अस्थायी रूप से खोलकर रक्त प्रवाह को सुधार देता है.
  • बीटा ब्लॉकर्स. ये औषधोपचार आपके हृदय के कार्य को आसान बनाने के लिए आपके हृदय की माँसपेशी के शिथिल होने, आपके हृदय की धड़कन और रक्तचाप को कम करने में सहायता करते हैं.
  • कोलेस्ट्रॉल-कम करने वाले औषधोपचार. इन औषधोपचार से रक्त में कोलेस्टॉल का अनावश्यक स्तर कम हो जाता है.

सर्जिकल और अन्य कार्यविधियाँ

आपके हृदयाघात के उपचार के लिए औषधोपचार के अतिरिक्त निम्न में से कोई एक कार्यविधि अपनाई जा सकती है:

  • एंजियोप्लास्टी (रक्तवाहिका संधान) और स्टेंटिंग. अनस्टेबल एंजाइना होने पर, या आपके दीर्घकालिक स्टेबल एंजाइना का उपचार जीवनशैली संबंधी परिवर्तन और औषधोपचार से प्रभावी तरीके से नहीं हो पाने पर इनका उपयोग किया जाता है.
  • कोरोनरी आर्टरी बायपास सर्जरी. स्टेंटिंग से राहत नहीं मिलने पर यह की जाती है. यह हृदय की धमनियों की एक वृहद सर्जरी होती है और इसमें शरीर के किसी भाग से नस निकालकर या सिंथेटिक फ़ैब्रिक से बनी ट्यूब के उपयोग से ग्राफ़्ट बायपास बनाया जाता है. इस कार्यविधि से, रक्त प्रवाह अवरोधित या सँकरी धमनी के आसपास बनाए रखा जाता है.

आपके हृदयाघात के बाद इन औषधोपचार/कार्यविधि के बाद आपके हृदय में रक्त प्रवाह पुन: स्थापित हो जाता है और आपकी स्थिति स्थिर रहती है. आपको निगरानी के लिए हॉस्पिटल में रखा जा सकता है.

जीवनशैली संबंधी परिवर्तन, कोरोनरी आर्टरी रोग के कारण होने वाले हृदयाघात से आपको बचाने या उसके घटित होने को विलंबित करने में सहायक हो सकते हैं.

  • धूम्रपान बंद करें.
  • सप्ताह के अधिकांश दिनों में व्यायाम करें.
  • पौष्टिक आहार लें.
  • अतिरिक्त वज़न कम करें और संतुलित वज़न बनाए रखें.
  • तनाव नियंत्रित करें.
  • यदि आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज या अन्य दीर्घकालिक बीमारियाँ हैं, तो इस दशा को नियंत्रित करने और संपूर्ण स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अपने चिकित्सक से सलाह लें.

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here