Health Education


  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Treatment
  • Medications

Hear Failure is a serious condition in which your heart fails to pump blood sufficient enough to meet your body's oxygen needs. It is also called as congestive cardiac failure, right side heart failure, left side heart failure or cor pulmonale. Heart Failure occurs when the heart cannot relax properly to fill in enough blood (Right-sided heart failure) or cannot contract properly to pump out enough oxygen-rich blood (left-sided heart failure) or due to a combination of both problems (congestive heart failure).

Right-sided heart failure is a result of high blood pressure in pulmonary arteries (arteries taking blood from heart to lung) is called cor pulmonale. As heart becomes weaker, toxins build up in the body, which worsens the symptoms.


Currently, there is no cure for heart failure. However, it can be managed by medications and life style changes to allow you to lead a normal and active life.

Heart failure is treated by cardiologists. However your regular doctor can help in diagnosis, and in managing your medication and treatment.

What Happens in Heart Failure

Heart has four chambers, two upper (right and left atrium) and two lower (right and left ventricle).

In normal condition the right atrium receives oxygen poor blood from the body, pushes it to right ventricle. From the right ventricle the blood is pushed to lungs through pulmonary arteries for purification. Oxygen rich blood from the lungs fills the left atrium. This blood is pushed to the left ventricle which contracts to push the oxygen rich blood to the rest of the body.

In left side heart failure, the heart fails to contract or relax properly. When the heart does not contract properly, less oxygen rich blood is pushed out to the body. The excess blood accumulates in the left ventricle and atrium. This creates a backward pressure and pushes the blood back into the lung. Thus fluid accumulates in the lung.

In right side heart failure, the right atrium and ventricle fail to relax properly. Hence they are unable to take the oxygen poor blood from rest of the body. This causes a backward pressure such that fluid accumulates in the body, especially in feet, ankle, legs and abdomen.

Usually both right and left sided heart failures are present at the same time. However one may be more prominent than the other.


Heart failure occurs due to conditions that either damage or tire the heart or cardiac muscles.

The three common causes of heart failure are

  • coronary heart disease (CHD) (blockage in heart blood vessels, angina or heart attack)
  • hypertension or high blood pressure (140/90 mmHg or above or 130/80 or above if you have chronic kidney disease or diabetes)
  • diabetes or high blood sugar
  • High blood pressure

Other Causes :

  • Cardiomyopathy or heart muscle disease.
  • Heart valve disease or valvular heart disease.
  • Arrhythmias or irregular heartbeats.
  • Congenital heart defects (birth defect).

Conditions which damage heart muscle:

  • Cancer treatment (chemotherapy and radiotherapy)
  • Thyroid disorders
  • Alcohol or illegal drug abuse
  • Cigarette smoking
  • Taking too much vitamin E
  • Obstructive sleep apnea (sleep disorder)
  • Viral infections


The signs and symptoms common in all types of heart failure are:

  • Shortness of breath, initially with physical work and then at rest
  • Fatigue (tiredness), initially with physical work and then at rest
  • Confusion (in advanced stages)

Right Side Heart Failure

  • Swelling in the ankles, feet, legs, abdomen, and neck veins
  • Weight gain due to fluid accumulation
  • Increased urine formation
  • Enlarged liver

Left Side Heart Failure

  • Increase in respiratory rate
  • Increase in breathing effort with panting and gasping
  • Cough, worse on lying down (usually a sign of fluid build up in lungs or pulmonary edema)
  • Pleural effusion (fluid accumulates in the lining of lungs)
  • Orthopnea or inability to breathe lying down
  • Rales and crackles in lung field
  • Cyanosis or blue tinge of lips, and tips of fingers and toes


Early diagnosis and treatment improves the life span and quality of life.

The diagnosis is made on the basis of medical and family history, physical examination and certain tests.

Medical and Family History

Your doctor would like to know if you or any family member has a history of heart disease, diabetes or high blood pressure. You will be asked to explain your symptoms in detail, when they started, how they progressed etc. Do your best to answer the questions to the best of your ability.

Physical Examination

During the physical examination, your doctor will:

  • Listen to your heart and lungs sounds
  • Look for swelling in your ankles, feet, legs, abdomen, and neck veins.

Diagnostic Tests

There is no single test specific for heart failure. After taking your medical and family history and physical exam, your doctor may ask for one or more of the following tests:

  • Electrocardiogram (EKG/ECG): This simple test helps record your heart beat. It tells the doctor about irregular heart beats, fast beats, previous heart attacks, and problem in the conduction of impulses in the heart.
  • Chest X Ray: This can show a large heart or fluid in lungs. It can also tell the doctor if you have a lung disease.
  • B-type natriuretic peptide (BNP) Blood Test: BNP is a hormone whose level rises during heart failure. The test can also be done to monitor progress of treatment.
  • Echocardiography (ECHO): This is like an ultrasound of heart where your doctor can see your moving heart. This test tells your doctor about the size of heart and its chambers, the thickness of the walls of the artery, contraction of heart, mixing of blood, previous heart attack, force of blood flow etc.
  • Doppler Ultrasound: This test gives the speed and direction of blood flow.
  • Holter Monitor: A machine with leads or electrodes will be attached to your chest to record your heart beat. The recorder can be kept in a pocket or slung over your neck. You have to wear it for 24-48 hours while you go about your normal routine.
  • Stress Test: If you are capable of running on a tread mill, your doctor may take you up for this to examine how your heart behaves under stress. The test is often followed up with ECHO and nuclear heart scans.
  • Nuclear Heart Scan: This shows the amount of oxygen rich blood reaching your heart muscles and identifies areas which do not receive the blood.
  • Coronary Angiography: Your doctor may ask for this test if he suspects a block in the heart arteries. A dye is injected through a tube placed in the blood vessel of your groin or arm and taken up to your heart. The doctor can see the flow of the dye on a screen in front of him.
  • Other tests: These may include blood sugar, thyroid, liver and kidney function tests

The treatment of heart failure is aimed at keeping the symptoms in check and preventing worsening of the condition. The treatment includes medication, lifestyle changes, and other treatments.


Your doctor will prescribe medications depending on your symptoms and results of your tests. Please take the medications as prescribed. Do not miss doses and do not self-medicate. If you feel the medication is not suiting you, please inform your doctor immediately. The various medications prescribed for heart failure are:

  • Water pills or diuretics: remove water from feet, ankles, legs, abdomen and lungs.
  • NDigoxin: improves heart's contraction.
  • Beta blockers. These drugs block the effects of the hormone epinephrine, and slow down the heart beats, thereby reducing blood pressure. Beta
  • Angiotensin-converting-enzyme (ACE) inhibitors: lower blood pressure, reduces strain on your heart, reduce risk of heart attack.
  • Angiotensin receptor blockers (ARB): dilate the blood vessels and lower blood pressure to lower your heart's workload.
  • Aldosterone antagonists: remove excess salt and water in the body through urine.
  • Isosorbide dinitrate: dilates blood vessels to lower your heart's workload.

Lifestyle Changes

Simple lifestyle changes along with medications will help you dramatically improve your symptoms and lead a better quality of life. A Heart Healthy Diet: You can ask the dietician in your heath care team to make customized diet plans for you. Otherwise you can follow these simple tips.

  • Cut down or avoid refined flour and grains and solid or trans fat (butter, cream etc).
  • Eat green vegetables, fresh fruits, whole grains, nuts, peas and beans
  • Include some low fat or fat free dairy products
  • Opt for lean cuts of meat/poultry, fish, sea food, eggs without yolk.
  • Eat starchy vegetables and fruits in moderation.
  • Keep salt intake to minimum. Avoid sprinkling salt on salads
  • Eat at least one of the following every day to maintain your potassium levels: potato, sweet potato, banana, orange, nuts, beans etc every day.

Fluid Intake

Since you have excess fluid in your body and you may be on water pills, it is important to drink only as much fluid as allowed. Drinking too much or too less may worsen your symptoms. Avoid alcohol completely.

Other Lifestyle Changes

  • Keep your blood sugar, thyroid hormones and blood pressure under control if you have these problems.
  • If you are overweight or obese, lose weight. Please do not diet or exercise without discussing with your doctor. Your health care team will help you lose weight safely.
  • Be as active as you are allowed. Ask your doctor about the level of physical activity allowed. Stop any activity that makes your tired or breathless and inform your doctor regarding this
  • You may be asked to weigh yourself daily while you are being treated. Also, whenever you see any swelling in feet, ankle, legs, or abdomen, please start weighing yourself every day, same time, wearing same type of clothes. Keep a record of your weight.
  • Quit smoking or illegal drugs if you take them
  • Get enough rest as advised.
  • Apart from medications and life style changes you may need oxygen therapy from time to time, either at home or in hospital

Other Treatments

  • If condition worsens you may need an implantable cardioverter defibrillator (ICD) to help your heart contract or a mechanical heart pump (left ventricular assist device).
  • Heart Transplant if all treatments fail.

References/External links

हृदय बंद पडणे

  • विहंगावलोकन
  • कारणे
  • चिन्हे आणि लक्षणे
  • निदान
  • उपचार

हृदय बंद पडणे ही गंभीर स्‍थिती असून त्‍यामध्‍ये आपले हृदय आपल्‍या शरीराच्‍या ऑक्सिजनच्‍या आवश्‍यकता पूर्ण करण्‍यासाठी पुरेसे रक्त पंप करण्‍यात अयशस्‍वी होते. त्‍यास रक्ताच्‍या जमावामुळे हृदयाचे कार्य बंद पडणे असे देखील म्‍हणतात, हृदयाची उजवी बाजू बंद पडणे, हृदयाची डावी बाजू बंद पडणे किंवा कॉर पल्‍मोनल. पुरेसे रक्त भरण्‍यासाठी हृदयाचे योग्‍यरित्‍या प्रसरण होत नसल्‍यास (हृदयाची उजवी बाजू बंद पडणे) किंवा भरपूर प्राणवायु असलेले पुरेसे रक्त पंप करण्‍यासाठी योग्‍यरित्‍या आकुंचन होत नसल्यास (हृदयाची डावी बाजू बंद पडणे) किंवा या दोन्‍ही समस्‍यांमुळे हृदय बंद पडते. (रक्ताच्‍या जमावामुळे हृदयाचे कार्य बंद पडणे).

फुप्फुसांच्या धमन्यांमधील (हृदयापासून फुप्फुसांपर्यंत रक्त नेणार्या धमन्या) उच्च रक्तदाबाचा परिणाम म्हणून उजव्या बाजूचे हृदय बंद पडते त्यास कॉर पल्मोनल म्हणतात.

उजव्‍या-भागाचे हृदय बंद पडण्‍यामुळे आपली पाऊले, टाचा, पाय, पोट आणि मानेतील रक्तवाहिन्‍या द्रवाच्‍या जमावामुळे फुगतात. हृदय बंद पडण्‍याच्‍या कोणत्‍याही प्रकारात आपल्‍याला वाढता थकवा/शीण आणि श्वासोच्‍छवासात अडथळा वाटू शकतो.

हृदय जसे अशक्त होते तसे, शरीरात जैवविष वाढत जाते, ज्‍यामुळे लक्षणे आणखी वाईट होतात.

सध्‍या, हृदय बंद पडण्‍यावर कोणताही उपाय नाही. तथापि, आपल्‍याला एक सामान्‍य आणि सक्रिय जीवन जगण्‍याची अनुमती देण्‍यासाठी औषधांनी आणि जीवनशैलीतील बदलांमुळे हे व्यवस्‍थापित केले जाऊ शकते.

हृदय बंद पडण्‍यावर हृदयरोग तज्ञांद्वारे उपचार केले जातात. तथापि आपले नेहमीचे चिकित्‍सक निदान करण्‍यात आणि आपली औषधे आणि उपचार व्‍यवस्‍थापित करण्‍यात मदत करू शकतात.

हृदय बंद पडण्‍यात काय होते

हृदयाचे चार कप्पे असतात, दोन वरील (उजवे आणि डावे हृदयाशय) आणि दोन खालील (उजवे आणि डावे निलय).

साधारण स्‍थितीत उजव्‍या हृदयाशयात ऑक्सिजन कमी असलेले शरीरातील रक्त येऊन, त्‍यास उजव्‍या निलयकडे ढकलते. उजव्‍या व्‍हेंन्‍ट्रिकलमधून रक्त फुप्‍फुसाच्‍या धमन्‍यांमधून फुप्‍फुसांकडे शुद्धीकरणासाठी येते. फुप्‍फुसांकडील भरपूर ऑक्सिजन असलेले रक्त डाव्‍या हृदयाशयास भरते. हे रक्त डाव्‍या निलयकडे येते जे भरपूर ऑक्सिजन असलेले रक्त उर्वरित शरीरात पाठविण्‍यासाठी आकुंचन पावते.

डाव्‍या भागाचे हृदय बंद पडण्‍यामध्‍ये, हृदय योग्‍यरित्‍या आकुंचन आणि प्रसरण पावण्‍यात अयशस्‍वी होते. हृदयाचे योग्‍यरित्‍या आकुंचन होत नसल्‍यास, कमी ऑक्सिजन असलेले रक्त शरीरात पाठविले जाते. अतिरिक्त रक्त डाव्‍या निलयमध्‍ये आणि हृदयाशयात जमा होते. यामुळे मागचा दाब निर्माण होतो आणि रक्तास परत फुप्‍फुसांकडे ढकलतो. म्‍हणून द्रव फुप्‍फुसांमध्‍ये जमा होते.

उजव्‍या भागाचे हृदय बंद पडण्‍यामुळे, उजवे हृदयाशय आणि निलय योग्‍यरितीने प्रसरण पावण्‍यास अयशस्‍वी होते. म्‍हणून ते उर्वरित शरीरामधून ऑक्सिजन कमी असलेले रक्त घेण्‍यास अक्षम होतात. यामुळे मागचा दाब निर्माण होऊन द्रव शरीरात, विशेष करून पाऊले, टाचा, पाय आणि पोट यामध्‍ये जमा होते.

सहसा दोन्ही उजवे आणि डावे हृदय बंद पडणे एकाचवेळी होते. तथापि दोन्हींपैकी एक दुसर्या प्रकारापेक्षा अधिक प्रमुख असते.


हृदयाच्या स्नायूंना किंवा हृदयास नुकसान करणार्या किंवा थकविणार्या स्थितींमुळे हृदय बंद पडते.

  • हृदय बंद पडण्याची तीन सामान्य कारणे ही आहेत
  • हृदयाशी संबंधित रोग (CHD) (हृदयाच्या रक्तवाहिन्यांमधील अडथळे, रक्तवाहिन्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणारा रोग किंवा हृदय विकाराचा झटका)
  • रक्तदाब वाढणे किंवा उच्च रक्तदाब (140/90 mmHg किंवा त्यावरील किंवा 130/80 किंवा त्यावरील आपल्याला जर जुना मूत्रपिंड रोग किंवा मधुमेह असल्यास)
  • मधुमेह किंवा उच्च प्रमाणातील रक्तातील साखर

इतर कारणे:

  • कार्डिमायोपॅथी किंवा हृदयाच्या स्नायूंच्या रोग.
  • हृदयाच्या नलिकेच्या कवाटाचा रोग किंवा कवाट हृदय रोग.
  • हृदयाची लयहीनता किंवा हृदयाची अनियमित स्पंदने.
  • जन्मजात हृदय दोष (जन्म दोष).

हृदयाच्या स्नायूंना नुकसान पोहचविणारी स्थिती:

  • कर्करोगावरील उपचार (रसायनांनी रोगावर उपचार आणि क्ष किरणाने चित्रण करणे.)
  • थॉइरॉइड अनियमितता
  • अल्कोहोल किंवा बेकायदेशीर औषधांचा दुरूपयोग
  • धूम्रपान
  • एचआयव्ही/एड्स
  • खूप प्रमाणात जीवसत्व E घेणे
  • झोपेतील बाधक अश्वसन (झोपेची अनियमितता)
  • व्हायरल संक्रमण

हृदय बंद पडण्याच्या सर्व प्रकारच्या प्रकारांमध्ये सामान्य असलेली चिन्हे आणि लक्षणे:

  • श्वासोच्छवासातील अडथळा, आरंभी शारीरिक कार्य करताना आणि नंतर विश्रांती घेताना
  • आपल्या बाहू, मान, जबडा, खांदे किंवा पाठ व छातीत आनुषांगिक वेदना
  • थकवा (शीण), आरंभी शारीरिक कार्य करताना आणि नंतर विश्रांती घेताना
  • मानसिक गोंधळ (प्रगत अवस्थांमध्ये)

उजव्या बाजूचे हृदय बंद पडणे

  • टाचा, पाऊले, पाय, पोट आणि मानेच्या रक्तवाहिन्यांमधील सूज
  • द्रव जमा झाल्याने वजन वाढणे
  • मूत्र तयार होणे वाढणे
  • मोठे झालेले यकृत

उजव्या बाजूचे हृदय बंद पडणे

  • श्वसनाची गति वाढणे
  • श्वासोच्छवास करण्यास लागणार्या प्रयत्नात अधिक दम लागणे
  • खोकला, आडवे झाल्यावर आणखी त्रास होणे (सहसा फुप्फुसांमध्ये द्रव जमा होण्याची चिन्हे किंवा फुप्फुसाशी संबंधित जीवकोश गटात द्रव पदार्थांचा जमाव)
  • परिफुप्फुसातील निस्सरण (फुप्फुसातील रेशांमध्ये द्रव जमा होतो)
  • ऑथ्रोप्निया किंवा आडवे पडल्यावर श्वसन करण्यास अक्षम
  • फुप्फुसाच्या क्षेत्रातील तडतडण्यासारखा आणि बुडबुड ध्वनी
  • निळेपणा किंवा ओठांची आणि बोटांच्या टोकांची आणि पायाच्या बोटांची निळी छटा

आरंभी केलेले निदान आणि उपचार जीवन कालखंड आणि जीवनाचा दर्जा सुधारते. निदान हे वैद्यकिय आणि कौटुंबिक इतिहास, शारीरिक परीक्षण आणि विशिष्ट चाचण्यांच्या आधारावर केले जाते.

  • वैद्यकीय आणि कौटुंबिक इतिहास
    आपले चिकित्सक आपण किंवा कुटुंबातील कोणत्याही सदस्याचा हृदय रोग, मधुमेह, किंवा उच्च रक्तदाबाचा इतिहास असल्यास तो जाणून घेण्यास इच्छित असतात. आपल्याला आपली लक्षणे दिसण्यास केव्हा प्रारंभ झाला, ती कशी वाढत गेली इ. चे तपशीलवार वर्णन करण्यास सांगितले जाईल. आपण पूर्ण सक्षमतेने प्रश्नांची ऊत्तरे देण्याचा चांगला प्रयत्न करा.
  • शारीरिक परीक्षण
    शारीरिक परीक्षणादरम्यान, आपले चिकित्सक :
    • आपल्या हृदयाचा आणि फुप्फुसांचा आवाज ऐकतील
    • टाचा, पाऊले, पाय, पोट आणि मानेच्या रक्तवाहिन्यांमधील सूज पाहतील.
  • निदानोपयोगी चाचण्या
    हृदय बंद होण्याबाबतीत कोणतीही एकल चाचणी नाही. आपले वैद्यकिय आणि कौटुंबिक परीक्षण केल्यानंतर, आपले चिकित्सक खालीलपैकी एक किंवा अधिक चाचण्या करण्यास सांगू शकतील :
    • इलेक्ट्रोकार्डिओग्राम (EKG/ECG): ही साधी तपासणी आपल्या हृदयाची स्पंदनांची नोंदणी करण्यास मदत करते. ही डॉक्टरांना अनियमित हृदयाची स्पंदने, जलद स्पंदने, मागील हृदय विकाराचा झटके आणि हृदयातील आवेगांच्या नियंत्रणामधील समस्या याविषयी सांगते.
    • छातीची क्ष किरण तपासणी: ही मोठे झालेले हृदय किंवा फुप्फुसांमधील द्रव दर्शवू शकते. आपल्याला फुप्फुसाचा विकार असल्यास ते देखील डॉक्टरांना सांगू शकते.
    • B- प्रकार नॅट्रियुरेटिक पेप्टाइड (BNP) रक्त चाचणी: BNP हे एक संप्रेरक असून हृदय बंद होण्याच्या दरम्यान त्याची पातळी वाढते. उपचाराच्या प्रगतीचे निरीक्षण करण्यासाठी चाचणी देखील केली जाऊ शकते.
    • इकोकार्डिओग्राफी (ECHO): हे हृदयाच्या अल्ट्रासाऊंडसारखे आहे जिथे आपले चिकित्सक आपले हलणारे हृदय पाहू शकतात. ही तपासणी हृदयाच्या आकाराबद्दल आणि त्याच्या कप्प्यांबद्दल, धमनीच्या भिंतींच्या जाडीबद्दल, हृदयाच्या आकुंचनाबद्दल, रक्ताच्या मिश्रणाबद्दल, मागील हृदय विकारच्या झटक्याबद्दल, रक्त प्रवाहाच्या वेगाबद्दल इ. आपल्या डॉक्टरांना सांगू शकते.
    • डॉप्लर अल्ट्रासाउंड: ही चाचणी रक्तप्रवाहाची गती आणि दिशा देते.
    • हॉल्टर मॉनिटर: आपल्या हृदयाच्या स्पंदनांची नोंदणी करण्यासाठी आपल्या छातीला शिसे किंवा इलेक्ट्रोड्ससह असलेले यंत्र जोडण्यात येईल. रेकॉर्डर खिशात ठेवला जाऊ शकतो किंवा आपल्या मानेवर लटकविला जाऊ शकतो. आपण आपल्या सामान्य दिनक्रमात जाईपर्यंत 24-48 तास आपल्याला हे घालावे लागेल.
    • तणाव तपासणी: आपण ट्रेड मिलवर धावण्यात सक्षम असल्यास, आपले चिकित्सक आपले हृदय तणावाखाली असताना त्याचे कार्य कसे चालते हे तपासण्यासाठी आपली तपासणी करू शकतात. ECHO आणि न्यूक्लियर हृदय स्कॅन करून या तपासणीचा नेहमी पाठपुरावा केला जातो.
    • न्यूक्लियर हृदय स्कॅन: हे आपल्या हृदयाच्या स्नायूंपर्यंत पोहचणार्या भरपूर ऑक्सिजन असलेल्या रक्ताचे प्रमाण दर्शवितात आणि रक्त न पोहचणारे क्षेत्र शोधून काढतात.
    • हृदयाची एन्जिओग्राफी: हृदयाच्या धमन्यांमध्ये अवरोध असल्याचा संशय आपल्या डॉक्टरांना असल्यास ते या तपासणीसाठी विचारू शकतात. आपल्या जांघेच्या रक्तवाहिनीमध्ये किंवा बाहूमध्ये एका नलिकेद्वारे एक रंगद्रव्य सोडले जाते आणि ते आपल्या हृदयापर्यंत नेले जाते. त्याच्या समोरच एका स्क्रीनवर रंगद्रव्याचा प्रवाह चिकित्सक पाहू शकतात.
    • इतर तपासण्या: यात रक्तातील साखर, थॉयरॉइड, यकृत आणि मुत्रपिंडाच्या कार्याच्या चाचण्यांचा समावेश होऊ शकतो.

• • • • • • •

लक्षणांवर लक्ष ठेवणे आणि स्थिती आणखी खालावण्यास प्रतिबंध करणे हे हृदय बंद पडण्याच्या उपचाराचे उद्दिष्ट आहे. उपचारांमध्ये औषध, जीवनशैलीतील बदल आणि इतर उपचार यांचा समावेश होतो.


आपले चिकित्सक आपली लक्षणे आणि आपल्या चाचण्यांचा निकाल यावर आधारित औषधे लिहून देतील. कृपया लिहून दिल्याप्रमाणे औषधे घ्या. निर्धारित प्रमाणातील औषधे चुकवू नका आणि स्वयं-विचाराने औषधे घेऊ नका. औषधे आपल्याला लागू पडत नसल्यास, कृपया तात्काळ आपल्या चिकित्सकांना कळवा. हृदय बंद पडण्यावर लिहून दिली जाणारी विविध ओषधे ही आहेत :

  • पाण्याच्या गोळ्या किंवा डाययुरेटिक्स: पाऊले, टाचा, पाय, पोट आणि फुप्फुसांमधील पाणी काढणे.
  • डायगोक्सिन: हृदयाचे आकुंचन सुधारते.
  • अँजिओटेन्सिन- रूपांतर करणारे एन्झाइम (ACE) प्रतिबंधक: रक्तदाब कमी करते, आपल्या हृदयावरील ताण कमी करते, हृदयविकाराच्या झटक्याची जोखीम कमी करते.
  • अँजिओटेन्सिन प्राप्तकर्ता अवरोधक (ARBs): रक्तनलिका विस्तृत करते आणि आपल्या हृदयावरील कार्यभार कमी करण्यासाठी रक्तदाब कमी करते.
  • अल्डोस्टिरोन एन्टागोनिस्ट्स: शरीरातील अतिरिक्त मीठ आणि पाणी मूत्रावाटे काढते.
  • बेटा ब्लॉकर्स. आपल्या हृदयावरील कार्यभार कमी करण्यासाठी हृदयाची गती आणि रक्तदाब कमी करते.
  • आइसोबार्बाइड डायनायट्रेट: आपल्या हृदयावरील कार्यभार कमी करण्यासाठी रक्तनलिका विस्तृत करते.

जीवनशैलीत बदल

औषधांसह साध्या जीवनशैलीतील बदल आपल्याला आपली लक्षणे नाट्यमयरित्या सुधारण्यात आणि एक उत्तम दर्जाचे जीवन जगण्यात मदत करतील.

  • सुदृढ हृदय आहार: आपण आपल्या स्वास्थ्य संघातील आहारतज्ञांना आपल्यासाठी सानुकूल आहार योजना बनविण्यास सांगू शकता. अन्यथा आपण या सोप्या टिप्सचे अनुसरण करू शकता.
  • खूप दळलेले पीठ आणि धान्य घेण्याचे आणि चरबीयुक्त (लोणी, साय इ.) घनपदार्थ टाळणे किंवा बंद करणे.
  • हिरव्या भाज्या, ताजी फळे, शाबूत धान्य, कठीण कयचाची फळे, वाटाणा आणि द्विदल धान्ये घ्यावीत.
  • कमी चरबीयुक्त पदार्थ किंवा चरबी नसलेली दुग्ध उत्पादनांचा समावेश करावा
  • कमी चरबी असलेले मांस/कोंबडीचे मांस, मासे, समुद्री खाद्य, बलक नसलेली अंड्यांची निवड करा.
  • मध्यम प्रमाणात पिष्टमय भाज्या आणि फळे खावीत.
  • मीठाचा वापर कमी करावा. सॅलेडसह मीठ घेणे टाळावे
  • आपली पोटॅशियमची पातळी नियंत्रित करण्यासाठी खालीलपैकी किमान एक दररोज खावे: बटाटा, रताळे, केळ, संत्र, कठीण कवचाची फळे, द्विदल धान्ये दररोज.

द्रव घेणे

  • आपल्या शरीरात अतिरिक्त द्रव असल्याने आणि आपण कदाचित पाण्याच्या गोळ्या घेत असल्याने, अनुमती असले तितकेच पेय पिणे हे महत्वाचे असते. खूप जास्त किंवा खूप कमी पिण्याने कदाचित आपली लक्षणे आणखी खालावू शकतील. मद्य घेणे पूर्णपणे टाळा.

इतर जीवनशैलीतील बदल

  • आपल्याला या समस्या असल्यास आपली रक्तातील साखर, थॉयरॉइड संप्रेरके आणि रक्तदाब नियंत्रणामध्ये ठेवा.
  • आपले वजन जास्त असल्यास किंवा स्थूल असल्यास, वजन कमी करा. कृपया आपल्या चिकित्सकांशी चर्चा केल्याशिवाय पथ्याहार घेऊ नका किंवा व्यायाम करू नका. आपला स्वास्थ्य संघ आपल्याला सुरक्षितरित्या वजन कमी करण्यास मदत करेल.
  • आपल्याला अनुमती असेल तितकेच सक्रिय राहा. आपल्या चिकित्सकांना अनुमती असलेल्या शारीरिक गतिविधींच्या पातळीबद्दल विचारा. आपल्याला थकविणारी किंवा धाप लागणारी कोणतीही गतिविधी बंद करा आणि याबद्दल आपल्या चिकित्सकांना कळवा.
  • आपल्यावर उपचार केले जात असताना आपल्याला दररोज वजन करण्यास सांगितले जाऊ शकते. आपल्याला पाऊले, टाचा, पाय किंवा पोट यावर केव्हाही सूज दिसल्यास, कृपया दररोज एकाच वेळी, एकाच प्रकारचे कपडे घालून आपले स्वत:चे वजन करणे प्रारंभ करा. आपल्या वजनाची नोंद ठेवा.
  • धूम्रपान सोडा किंवा आपण बेकायदेशीर औषधे घेत असल्यास ती सोडा
  • सल्ला दिल्याप्रमाणे पुरेशी विश्रांती घ्या.
  • औषधे आणि जीवनशैलीतील बदल याव्यतिरिक्त आपल्याला वेळोवेळी घरी किंवा रूग्णालयात ऑक्सिजन उपचारपद्धतीची आवश्यकता लागू शकते

इतर उपचार

  • स्थिती खालावल्यास आपल्या हृदयाचे आकुंचन करण्यात मदतीसाठी किंवा यांत्रिक हृदय पंपासाठी (डाव्या व्हेन्ट्रिक्युलरला सहाय्य करणारे साधन) आपल्याला प्रत्यारोपण करण्यायोग्य कार्डियोव्हरटर डेफिब्रिलेटर (ICD) ची आवश्यकता लागू शकते.
  • सर्व उपचारपद्धती अयशस्वी झाल्यास हृदय प्रत्यारोपण.

बाह्य लिंक/संदर्भ

हार्ट फ़ेल होना (हृदय गति रुकना)

  • संक्षिप्त विवरण
  • कारण
  • लक्षण
  • निदान
  • उपचार

हार्ट फ़ेल होना एक गंभीर स्थिति होती है, जिसमें आपका हृदय आपके शरीर की आवश्यकता के अनुरूप ऑक्सीजन की पूर्ति के लिए पर्याप्त रक्त पंप करने में विफल रहता है. इसे कंजेस्टिव कार्डिएक फ़ेल्योर, हृदय का दायाँ भाग फ़ेल होना, हृदय का बायाँ भाग फ़ेल होना या कॉर-पल्मोनेल भी कहा जाता है. हार्ट फ़ेल तब होता है, जब हृदय पर्याप्त रक्त समाहित करने के लिए समुचित रूप से शिथिल नहीं हो पाता (हृदय का दायाँ भाग फ़ेल होना) या यह ऑक्सीजन से भरपूर रक्त की पर्याप्त मात्रा बाहर की ओर पंप करने के लिए समुचित रूप से संकुचित नहीं हो पाता (हृदय का बायाँ भाग फ़ेल होना) या इन दोनों समस्याओं के एक साथ होने के कारण (कंजेस्टिव हार्ट फ़ेल्योर).

हृदय के दाएँ भाग का फ़ेल होना, पल्मोनरी धमनियों (वे धमनियाँ, जो हृदय से फ़ेफ़ड़ों को रक्त ले जाती हैं) में उच्च रक्तचाप के कारण होता है, जिसे कॉर- पल्मोनेल कहा जाता है.

हृदय के दाएँ भाग के फ़ेल होने पर फ़्लूड के जमाव के कारण आपके पाँवों, टखनों, पैरों, पेट और गर्दन की शिराओं में सूजन आ जाती है. किसी भी प्रकार के हार्ट फ़ेल होने में आप थकावट/थकान और साँस लेने में परेशानी में वृद्धि महसूस कर सकते हैं. हृदय कमजोर हो जाता है, शरीर में विषैले पदार्थ बनने लगते हैं, जो लक्षणों को और बदतर बना देते हैं.

वर्तमान में, हार्ट फ़ेल होने का कोई उपचार नहीं है. हालाँकि, इसे दवाइयों और जीवनशैली में बदलाव से नियंत्रित किया जा सकता है, जिससे आप सामान्य और सक्रिय जीवन बिता सकते हैं. हार्ट फ़ेल होने का उपचार कार्डियोलॉजिस्ट द्वारा किया जाता है. हालाँकि आपका नियमित चिकित्सक इसके निदान, औषधोपचार और उपचार में मददगार हो सकता है.

हार्ट फ़ेल होने पर यह होता है

हृदय में चार चैंबर होते हैं, दो ऊपरी (दायाँ और बायाँ अलिंद) और दो निचले (दायाँ और बायाँ निलय).

सामान्य स्थिति में दायाँ अलिंद शरीर से कम ऑक्सीजन वाला रक्त प्राप्त करता है और उसे दाएँ निलय में पहुँचा देता है. दाएँ निलय से रक्त शुद्धीकरण के लिए पल्मोनरी धमनियों के माध्यम से फ़ेफ़ड़ों में भेजा जाता है. फ़ेफड़ों से निकलने वाला ऑक्सीजन से भरपूर रक्त बाएँ अलिंद को भर देता है. यह रक्त बाएँ निलय में भेज दिया जाता है, जो ऑक्सीजन से भरपूर रक्त को शरीर के बाकी भागों में पहुँचाने के लिए संकुचित होता है.

हृदय के बाएँ भाग के फ़ेल होने की स्थिति में हृदय समुचित ढंग से संकुचित या शिथिल नहीं हो पाता है. जब हृदय समुचित रूप से संकुचित नहीं होता है, तो शरीर में ऑक्सीजन से भरपूर रक्त की कम मात्रा भेजी जाती है. अतिरिक्त रक्त बाएँ निलय और अलिंद में इकट्ठा हो जाता है. इससे उल्टा प्रेशर बनता है और यह रक्त को फ़ेफ़ड़े में वापस पहुँचा देता है. इस प्रकार फ़्लूड फ़़ेफ़डे में इकट्ठा हो जाता है.

हृदय के दाएँ भाग के फ़ेल होने की स्थिति में दायाँ अलिंद और निलय समुचित रूप से शिथिल नहीं हो पाते हैं. अत: वे शरीर के शेष भाग से कम ऑक्सीजन वाला रक्त लेने में अक्षम रहते हैं. इससे उल्टा प्रेशर बनता है, जिससे फ़्लूड शरीर विशेष रूप से पाँव, टखने, टाँग और पेट में इकट्ठा हो जाता है.

आमतौर पर हार्ट का दायाँ और बायाँ भाग दोनों एक साथ फ़ेल होते हैं. हालाँकि इनमें से कोई एक, दूसरे से अधिक प्रभावशाली हो सकता है.


हार्ट फ़ेल उन दशाओं के कारण होता है जो हृदय या कार्डिएक माँसपेशियों को या तो क्षतिग्रस्त कर देती हैं या उसे थका देती हैं.

  • हार्ट फ़ेल होने के तीन सामान्य कारण यह हैं
  • कोरोनरी हार्ट डिज़ीज़ (CHD) (हृदय की रक्त नलिकाओं में अवरोध, एंजाइना या हृदयाघात)
  • हाइपरटेंशन या उच्च रक्त चाप (यदि आपको किडनी संबंधी दीर्घकालिक रोग या डायबिटीज़ हो तो 140/90 mmHg या अधिक या 130/80 या अधिक)
  • डायबिटीज़ या रक्त में शर्करा का स्तर उच्च होना

अन्य कारण:

  • कार्डियोमायोपैथी या हृदय की माँसपेशी संबंधी रोग.
  • हृदय के वाल्व संबंधी रोग या वाल्वुलर हृदय रोग
  • एरिथमिया (अतालता) या हृदय की धड़कन का अनियमित होना.
  • जन्मजात हृदय दोष (जन्म दोष).

हृदय की माँसपेशियों को क्षति पहुँचाने वाली दशाएँ:

  • कैंसर का उपचार (कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी)
  • थायरॉइड संबंधी विकार
  • अल्कोहल या अवैध ड्रग का नशा करना
  • सिगरेट स्मोकिंग
  • विटामिन E का अत्यधिक सेवन
  • ऑब्स्ट्रक्टिव स्लीप एप्निया (निद्रा संबंधी विकार)
  • वाइरस के संक्रमण

सभी प्रकार के हार्ट फ़ेल होने के सामान्य संकेत और लक्षण यह हैं:

  • शुरुआत में शारीरिक श्रम करने पर और फिर विश्राम की अवस्था में साँस लेने में परेशानी होना
  • शुरुआत में शारीरिक श्रम करने पर और फिर विश्राम की अवस्था में थकान (थकावट) होना
  • भ्रम (जटिल अवस्था में)

हृदय का दायाँ भाग फ़ेल होना

  • टखनों, पाँवों, पैरों, पेट और गर्दन की शिराओं में सूजन
  • फ़्लूड जमाव के कारण वज़न में वृद्धि
  • ज्यादा पेशाब बनना
  • लीवर बढ़ जाना

हृदय का बायाँ भाग फ़ेल होना

  • श्वसन दर में वृद्धि
  • भारी साँस और हाँफते हुए बोलने के साथ साँस लेने में अधिक जोर लगना
  • खाँसी, लेटने पर अत्यधिक (सामान्यत: फ़ेफ़ड़ों में फ़्लूड एकत्रित होने या पल्मोनरी एडीमा का संकेत)
  • प्लूरल इफ़्यूज़न (फ़ेफ़ड़ों की परत में फ़्लूड इकट्ठा हो जाता है)
  • ऑर्थोप्निया या लेटने पर साँस लेने में परेशानी
  • फ़ेफ़ड़ों वाले भाग में घरघराहट की आवाज
  • होठों और अंगुलियों व पाँव के अंगूठे के सिरे में साइनोसिस या उनका हल्का नीला पड़ना

त्वरित निदान और उपचार से जीवन काल बढ़ जाता है और जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है. चिकित्सकीय और पारिवारिक इतिहास, शारीरिक परीक्षण और कुछ निश्चित टेस्ट के आधार पर निदान किया जाता है.

  • चिकित्सकीय और पारिवारिक इतिहास
    आपका चिकित्सक यह जानना चाहेगा कि क्या आपमें या किसी पारिवारिक सदस्य में हृदय रोग, डायबिटीज़ या उच्च रक्तचाप का इतिहास है. आपसे लक्षणों के बारे में विस्तार से बताने के लिए कहा जाएगा, जैसे कि वे कब शुरू हुए, वे किस तरह बढ़े आदि. अपनी पूरी क्षमता के अनुसार इन प्रश्नों का बेहतर उत्तर देने का प्रयास करें.
  • शारीरिक परीक्षण
    शारीरिक परीक्षण के दौरान, आपका चिकित्सक यह करेगा:
    • आपके हृदय और फ़ेफ़ड़ों की आवाज़ सुनेगा
    • टखनों, पाँवों, पैरों, पेट और गर्दन की शिराओं में सूजन देखेगा
  • नैदानिक टेस्ट
    हार्ट फ़ेल होने के निदान के लिए कोई एक विशिष्ट टेस्ट नहीं है. आपका चिकित्सकीय और पारिवारिक इतिहास जानने और शारीरिक परीक्षण के बाद आपका चिकित्सक निम्न में से कोई एक या अधिक टेस्ट कराने के लिए कह सकता है:
    • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (EKG/ECG): यह सामान्य टेस्ट आपके हृदय की धड़कन रिकॉर्ड करने में सहायता करता है. यह चिकित्सक को हृदय की अनियमित धड़कनों, तेज़ धड़कनों, पिछले हृदयाधात, और हृदय में आवेगों के संचरण में समस्या के बारे में बताता है.
    • सीने का X रे: यह हृदय का बड़ा होना या फ़ेफ़ड़ों में फ़्लूड दिखा सकता है. यदि आपको फेफड़े संबंधी कोई रोग है तो उसके बारे में भी यह चिकित्सक को बता सकता है.
    • B-टाइप नैट्रीयूरेटिक पेप्टाइड (BNP) ब्लड टेस्ट: BNP एक हार्मोन है, जिसका स्तर हार्ट फ़ेल होने के दौरान बढ़ जाता है. यह टेस्ट उपचार से होने वाले फायदे को मॉनिटर करने के लिए भी किया जा सकता है.
    • इकोकार्डियोग्राफ़ी (ECHO): यह हृदय के अल्ट्रासाउंड की तरह है, जिसमें आपका चिकित्सक आपके हृदय को गति करता हुआ देख सकता है. यह टेस्ट आपके चिकित्सक को हृदय के आकार और उसके चैंबर, धमनी की भित्ति की मोटाई, हृदय के संकुचन, रक्त के मिश्रण, पिछले हृदयाघात, रक्त प्रवाह की तीव्रता आदि के बारे में बताता है.
    • डॉप्लर अल्ट्रासाउंड: यह टेस्ट रक्त प्रवाह की गति और उसकी दिशा बताता है.
    • हॉल्टर मॉनिटर: लीड और इलेक्ट्रोड वाली इस मशीन को आपके हृदय की धड़कन रिकॉर्ड करने के लिए आपके सीने से अटैच किया जाएगा. रिकॉर्डर को आपकी गर्दन के ऊपर पॉकेट या स्लंग में रखा जा सकता है. आपको इसे अपनी सामान्य दिनचर्या के दौरान 24-48 घंटे तक पहने रहना होगा.
    • स्ट्रेस टेस्ट: यदि आप ट्रेड मिल पर दौड़ने में सक्षम हैं, तो आपका चिकित्सक तनाव की स्थिति में आपके हृदय की गतिविधि के परीक्षण के लिए आपको ऐसा करने के लिए कह सकता है. यह परीक्षण अक्सर ECHO और न्यूक्लियर हार्ट स्कैन के साथ किया जाता है.
    • न्यूक्लियर हार्ट स्कैन: यह आपके हृदय की माँसपेशियों तक पहुँचने वाले ऑक्सीजन से भरपूर रक्त की मात्रा दर्शाता है और उन क्षेत्रों की पहचान करता है जिन्हें रक्त नहीं मिलता.
    • कोरोनरी एंजियोग्राफ़ी: यदि आपके चिकित्सक को हृदय की धमनियों में अवरोध होने का संदेह होता है, तो वह यह टेस्ट कराने के लिए कह सकता है. आपकी ग्रोइन (पेडू-जाँघ का जोड़) या बाँह में लगाई गई एक ट्यूब के माध्यम से एक डाई इंजेक्ट की जाती है और उसे हृदय तक पहुँचाया जाता है. चिकित्सक अपने सामने रखी स्क्रीन पर डाई के प्रवाह को देख सकता है.
    • अन्य टेस्ट: इसमें ब्लड शुगर, थायरॉइड, लीवर और किडनी फ़ंक्शन टेस्ट शामिल हो सकते हैं

हार्ट फ़ेल होने के उपचार का उद्देश्य लक्षणों को नियंत्रित रखना और हालत को बदतर होने से रोकना होता है. उपचार में औषधोपचार, जीवनशैली में परिवर्तन और अन्य उपचार शामिल होते हैं.


आपका चिकित्सक लक्षणों और आपके टेस्ट के परिणामों के अनुसार औषधोपचार का नुस्खा लिखेगा. कृपया लिखे गए नुस्खे के अनुसार ही औषधोपचार लें. खुराक लेना न भूलें और स्व-उपचार न करें. यदि आपको ऐसा महसूस होता है कि औषधोपचार आपको सूट नहीं कर रहा है, तो कृपया अपने चिकित्सक को तुरंत सूचित करें. हार्ट फ़ेल होने पर दिए जाने वाले विभिन्न औषधोपचार यह हैं:

  • वॉटर पिल्स या डाइयूरेटिक्स: ये पाँवों, टखनों, पैरों, पेट और फ़ेफ़ड़ों से पानी निकाल देती हैं.
  • डाइगॉक्सिन: हृदय के संकुचन को सुधारती है.
  • एंजियोटेंसिन-कन्वर्टिंग-एंजाइम (ACE) इन्हिबिटर्स: ये रक्तचाप कम करते हैं, आपके हृदय पर तनाव को कम करते हैं, हृदयाघात के जोखिम को कम करते हैं.
  • एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (ARB): ये आपके हृदय पर कार्य के दबाव को कम करने के लिए रक्त नलिकाओं को फैलाते हैं और रक्तचाप कम करते हैं.
  • एल्डोस्टेरॉन एंटागोनिस्ट्स: ये पेशाब के माध्यम से शरीर में मौजूद अतिरिक्त नमक और पानी निकाल देते हैं.
  • बीटा ब्लॉकर्स: ये आपके हृदय पर कार्य के दबाव को कम करने के लिए हृदय गति और रक्तचाप को कम कर देते हैं.
  • आइसोसॉर्बाइड डाइनाइट्रेट: यह आपके हृदय पर कार्य के दबाव को कम करने के लिए रक्त नलिकाओं को फैला देता है.

जीवनशैली में परिवर्तन

औषधोपचार के साथ जीवनशैली में किए गए सामान्य परिवर्तन लक्षणों में जबर्दस्त सुधार लाने में आपकी सहायता करेंगे और जीवन की गुणवत्ता को बेहतर बना देंगे.

  • हृदय के लिए पौष्टिक आहार: आप अपनी स्वास्थ्य रक्षक टीम के डाइटीशियन से आपके लिए विशिष्ट आहार योजना तैयार करने के लिए कह सकते हैं. अन्यथा आप इन सामान्य युक्तियों का अनुसरण कर सकते हैं.
  • रिफ़ाइन किए गए आटे व अनाज़ और ठोस या असंतृप्त वसा (मक्खन, क्रीम आदि) का सेवन कम करना या उसका त्याग कर देना.
  • हरी सब्जियाँ, ताजे फल, साबुत अनाज़, नट्स, मटर और बीन खाएँ.
  • कुछ कम वसा वाले या वसारहित डेरी उत्पाद भी लें.
  • बिना चर्बी के माँस/पोल्ट्री, मछली, समुद्री भोजन, योक रहित अंडे चुनें.
  • स्टार्चयुक्त सब्जियाँ और फल अल्प मात्रा में खाएँ.
  • नमक कम से कम लें. सलाद में नमक छिड़कने से बचें.
  • पोटैशियम का स्तर बनाए रखने के लिए निम्न में से कोई एक प्रतिदिन खाएँ: आलू, शकरकंद, केला, संतरा, नट्स, बीन आदि प्रतिदिन.

फ़्लूड ग्रहण करना

  • चूँकि आपके शरीर में अतिरिक्त फ़्लूड है और हो सकता है कि आप वॉटर पिल्स ले रहे हों, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप फ़्लूड केवल अनुमत मात्रा में ही लें. बहुत अधिक या बहुत कम पीने से आपके रोग के लक्षण बदतर हो सकते हैं. अल्कोहल के सेवन से पूरी तरह बचें.

जीवनशैली संबंधी अन्य परिवर्तन

  • यदि आपको यह समस्याएँ हों, तो अपनी रक्त शर्करा, थायरॉइड हार्मोन और रक्तचाप को नियंत्रित रखें.
  • यदि आपका वज़न अधिक हो या आप मोटे हों तो वज़न कम करें. कृपया अपने चिकित्सक से विमर्श किए बिना अल्प आहार न लें या व्यायाम न करें. आपकी स्वास्थ्य रक्षक टीम सुरक्षित तरीके से वज़न कम करने में आपकी सहायता करेगी.
  • अनुमति के अनुसार यथासंभव सक्रिय रहें. शारीरिक गतिविधियों के अनुमत स्तर के बारे में अपने चिकित्सक से पूछें. थका देने वाली या बेदम करने वाली कोई भी गतिविधि बंद कर दें और इस बारे में अपने चिकित्सक को सूचित करें.
  • उपचार किए जाने के दौरान आपसे प्रतिदिन अपना वज़न तौलने के लिए कहा जा सकता है. इसके साथ ही, जब भी आपको पाँव, टखने, टाँग या पेट में सूजन दिखाई दे, तो कृपया प्रतिदिन एक ही समय पर, एक ही प्रकार के कपड़े पहनकर अपना वज़न तौलना शुरू कर दें. अपने वज़न का रिकॉर्ड रखें.
  • यदि आप धूम्रपान करते हैं या कोई अवैध नशा करते हैं, तो उसे बंद कर दें.
  • परामर्श के अनुसार पर्याप्त आराम करें.
  • औषधोपचार और जीवनशैली संबंधी परिवर्तनों के अलावा आपको, या तो घर या हॉस्पिटल में समय-समय पर ऑक्सीजन थेरेपी की आवश्यकता हो सकती है.

अन्य उपचार

  • यदि हालत बदतर होती है तो आपके हृदय के संकुचन में सहायता के लिए इंप्लांटेबल कार्डियोवर्टर डीफ़िब्रिलेटर (ICD) या मेकेनिकल हार्ट पंप (बाएँ निलय की सहायता करने वाला डिवाइस) की आवश्यकता हो सकती है.
  • यदि सभी उपचार विफल हो जाते हैं तो हृदय प्रत्यारोपण करना पड़ेगा.

बाह्य लिंक/संदर्भ

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here