Health Education

CORONARY ARTERY DISEASE

  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Complications
  • Treatment

Coronary arteries are the major blood vessels that supply your heart with blood, oxygen and nutrients. Coronary artery disease (CAD) occurs when these arteries become damaged or diseased. The cause mainly is cholesterol-containing deposits (plaque) on your arteries. Narrowing of the arteries occur when plaques build up, causing your heart to receive less blood. The decreased blood flow, eventually, may cause chest pain (angina), shortness of breath, or other coronary artery disease signs and symptoms. Heart attack occurs when there is a complete blockage.

CAD can go virtually unnoticed until you have a heart attack because coronary artery disease often develops over decades. It can lead to angina or acute myocardial infarction if left untreated. However, one can actually do a lot to prevent and treat coronary artery disease, starting from committing to a healthy lifestyle. Treatment for coronary artery disease can include medications, or surgical and minimally invasive procedures.

artery

Risk Factors

There are many risk factors for CAD which includes:

  • Increasing age. Increasing age and getting older increases your risk of damaged and narrowed arteries.
  • Male Sex. As compared to women, men are generally at greater risk of coronary artery disease. For women, however, the risk increases after menopause.
  • Family history. Higher risk of coronary artery disease is there if a family history of heart disease is present, especially if a close relative developed heart disease at an early age. You have the highest risk if your father or a brother was diagnosed with heart disease before age 55, or your mother or a sister developed it before age 65.
  • Cigarette smoking. Smoking causes a constriction in your blood vessels, and can damage their inner lining, making them more susceptible to atherosclerosis. Heart attack incidence in persons who smoke at least 20 cigarettes a day is six times that of persons who've never smoked.
  • High blood pressure. High blood pressure which is untreated can result in hardening and thickening of your arteries, narrowing the channel through which blood can flow.
  • High blood cholesterol levels. The risk of formation of plaques and atherosclerosis increases with high levels of cholesterol in your blood. High cholesterol can be caused by a high level of low-density lipoprotein (LDL), known as the "bad" cholesterol. Atherosclerosis is also promoted by a low level of high-density lipoprotein (HDL), known as the "good" cholesterol.
  • Diabetes. An increased risk of CAD is seen in patients with diabetes. Both conditions share similar risk factors, such as obesity and high blood pressure.
  • Obesity. Being overweight typically worsens other risk factors.
  • Physical inactivity. Low level of exercise or it's complete absence is associated with coronary artery disease and some of its risk factors, as well.
  • High stress. Unmanaged mental stress in your life can damage your arteries as well as worsen other risk factors for coronary artery disease.
  • In some cases, CAD develops without any classic risk factors. Researchers are studying other possible factors, including:

  • Sleep apnea. A condition in which you repeatedly stop and start breathing while you're sleeping.
  • C-reactive protein. Increased amount of this normal blood protein is seen whenever there is swelling in the body.
  • Homocysteine. High levels of homocysteine, an amino acid your body uses to make protein and to build and maintain tissue, may increase your risk of coronary artery disease.
  • Fibrinogen. It is a blood clotting protein. Increased level of this protein causes increased clumping of platelets, the type of blood cell largely responsible for clotting. That can cause a clot to form in an artery, leading to a heart attack or stroke.
  • Lipoprotein (a). Lipoprotein (a) is formed when a low-density lipoprotein (LDL) particle attaches to a specific protein. High level of this may disrupt your body's ability to dissolve blood clots and increases risk of cardiovascular disease, including coronary artery disease and heart attack.

Causes

Damage or injury to the inner layer of a coronary artery initiates CAD, sometimes as early as childhood. The damage may be caused by various factors, including:

  • Smoking
  • High blood pressure
  • High cholesterol
  • Diabetes
  • Radiation therapy to the chest, as used for certain types of cancer
  • Damage to the inner wall of an artery leads to fatty deposits (plaques) made of cholesterol and other cellular waste products to accumulate at the site of injury in a process called atherosclerosis. Rupture of the surface of these plaques causes blood cells called platelets to clump at the site to try to repair the artery. Heart attack can occur due to this dumping.

Symptoms

Narrowed coronary arteries are unable to supply enough oxygen-rich blood to your heart — especially when it's beating hard, such as during exercise. Initially, the decreased blood flow may not cause any coronary artery disease symptoms. But, you may develop coronary artery disease symptoms as the plaques continue to build up in your coronary arteries. The symptoms are::

  • Chest pain (angina). It is typically a feeling of pressure or tightness in your chest, as if someone were standing on your chest. This symptom, called as angina, is usually triggered by physical or emotional stress. It abolishes within minutes after stopping the stressful activity. This pain may be fleeting or sharp and noticed in the abdomen, back or arm in some people, especially women.
  • Shortness of breath. You may develop shortness of breath or extreme fatigue with exertion if your heart can't pump enough blood to meet your body's needs.
  • Heart attack. Heart attack ensues if a coronary artery becomes completely blocked. Heart attack classically presents with crushing pressure in your chest and pain in your shoulder or arm, sometimes with shortness of breath and sweating. Less typical signs and symptoms are present in women. Sometimes a heart attack occurs without any apparent signs or symptoms.

Diagnosis

Upon presentation to doctor, a medical history will be taken, a physical exam will be conducted routine blood tests will be ordered. Doctor may suggest one or more diagnostic tests as well, including:

  • Electrocardiogram (ECG). It is an electrical recording of the signals as they travel through your heart. Evidence of a previous heart attack can be revealed by an ECG. If the signs and symptoms of your atherosclerosis is more evident during exercise, your doctor may ask you to walk on a treadmill or ride a stationary bike during an ECG.
  • Blood tests. Blood is tested for elevation of certain heart enzymes that slowly leak out into your blood if your heart has been damaged by a heart attack.
  • Abnormal heart rhythms (arrhythmias). Electrical "short circuits" can develop if your heart muscle is damaged from a heart attack. These can cause abnormal heart rhythms, some of which can be serious, even fatal.
  • Stress test. Stress test is also an exercise stress test. It is used to gather information about how well your heart works during physical activity. By doing exercise on bike or treadmill your heart pump harder and faster than it does during most daily activities. Testing of the heart during and after exercise can reveal problems within your heart that might not be noticeable otherwise. The procedure usually involves walking on a treadmill or riding a stationary bike while your heart rhythm and blood pressure and breathing are monitored. In some types of stress tests, pictures will be taken of your heart, such as during a stress echocardiogram (ultrasound) or nuclear stress test. In patients who are unable to exercise due to some or other reason, a medication that mimics the effect of exercise on heart is used to make it pump harder.
  • Chest X-ray. Images of your heart and lungs is displayed by this test. Also, other conditions can be looked into that might explain your symptoms and to see if you have an enlarged heart.
  • Echocardiogram. It is a type of ultrasound examination of your heart to produce images of the heart. These images are seen by the doctor to identify heart attack-related problems, including whether there are areas of your heart not getting enough blood or heart muscle that's been damaged by poor blood flow. Sometimes, an echocardiogram is performed during a stress test.
  • Nuclear stress test. This test is performed to assess blood flow to your heart muscle at rest and during stress. It is similar to a routine stress test but uses a radioactive substance.
  • Coronary angiography. Narrowing or blockade in coronary arteries can be revealed by this test. The test involves injecting a liquid dye into the arteries of your heart through a long, thin tube (catheter) that's fed through an artery, usually in your leg, to the arteries in your heart. The arteries become visible on X-ray, as the dye fills your arteries. Any area of blockage can then be revealed.
  • Cardiac computerized tomography (CT) scan. During performance of this test, you lie on a table inside a doughnut-shaped machine. Inside the machine there is an X-ray tube which rotates around your body and collects images of your heart and chest. These images can show if any of your heart's arteries are narrowed or if your heart is enlarged.
  • ardiac MRI: In this test, the patient is made to lie on a table inside a long tube-like machine that produces a magnetic field. The magnetic field aligns atomic particles in some of your cells. Signals are produced when radio waves are broadcast toward these aligned particles. These signals vary according to the type of tissue they are. The signals create images of your heart.

Complications of coronary artery disease are:

  • Chest pain (angina). Your heart may not receive enough blood when your coronary arteries are narrow and demand is greatest — particularly during physical activity. This can cause chest pain (angina) or shortness of breath.
  • Heart attack. Complete blockage of your heart artery may trigger a heart attack if a cholesterol plaque ruptures and a blood clot forms. The lack of blood flow to your heart may damage to your heart muscle. The pace of getting treatment decides amount of damage.
  • Abnormal heart rhythms (arrhythmias). Electrical "short circuits" can develop if your heart muscle is damaged from a heart attack. These can cause abnormal heart rhythms, some of which can be serious, even fatal.
  • Heart failure. It is a condition where the damaged tissue in your heart can't do an adequate job of pumping blood out of your heart. Reduced pumping activity reduces blood flow to tissues and organs and may produce shortness of breath, fatigue, and swelling in your ankles and feet.
  • Some of the complications of hypertensive retinopathy include:

  • Loss of vision
  • Central and branch, retinal vein and/or artery occlusion (CRVO or CRAO)
  • Ischemic optic neuropathy or damage to the optic nerve
  • Vitreous hemorrhage or bleeding in the vitreous humour

Treatment

Treatment of coronary artery disease varies depending on the situation. The patient might be treated with medications, undergo an invasive procedure or both — depending on the severity of the condition and the amount of damage to heart.

Medications

More heart tissue loses oxygen and deteriorates or dies with each passing minute after a heart attack. Restoration of blood flow quickly is the main way to prevent heart damage. Medications given to treat a heart attack include:

Prevention

Effects of PCOS can be offset by paying attention to the foods you eat and your activity levels:

  • Aspirin. It reduces blood clotting, thus helping maintain blood flow through a narrowed artery.
  • Thrombolytics. Also called clot busters, these drugs help dissolve a blood clot that's blocking blood flow to your heart.
  • Superaspirins. These are aspirin-like drugs with improved ability to prevent clot forming, and include clopidogrel.
  • Blood-thinning medications. Medications like heparin might be given to make your blood less "sticky" and less likely to form more dangerous clots.
  • Pain relievers. A Heart attack is associated with intense chest pain and you may receive a pain reliever, such as morphine, to reduce your discomfort.
  • Nitroglycerin. This medication temporarily opens arterial blood vessels, improving blood flow.
  • Beta blockers. These medications help relax your heart muscle, slow your heartbeat and decrease blood pressure making your heart's job easier.
  • Cholesterol-lowering medications. Unwanted blood cholesterol levels are lowered by these medications.

Surgical and other procedures

Additionally, to medications, one of the following procedures might be done to treat your heart attack:

  • Angioplasty and stenting. These are used when unstable angina or lifestyle changes and medications don't effectively treat your chronic, stable angina.
  • Coronary artery bypass surgery. This is done when stenting doesn't help. It is a major surgery on heart arteries and involves creating a graft bypass using a vessel from another part of your body or a tube made of synthetic fabric. With this procedure, blood flow is maintained around the blocked or narrowed artery.

Lifestyle Measures for Prevention

Lifestyle changes can help you prevent or delay the occurrence of heart attack due to coronary artery disease:

  • Stop smoking.
  • Exercise most days of the week.
  • Eat healthy foods.
  • Lose extra pounds and maintain a healthy weight.
  • Manage stress.
  • If you have high cholesterol, high blood pressure, diabetes or another chronic disease, work with your doctor to manage the condition and promote overall health.
  • If you have high cholesterol, high blood pressure, diabetes or another chronic disease, work with your doctor to manage the condition and promote overall health.

हृदय रक्तवाहिन्यांचा विकार

  • विहंगावलोकन
  • जोखमीचे घटक
  • कारणे
  • लक्षणे
  • क्लिष्टता
  • निदान
  • उपचार
  • प्रतिबंधासाठी जीवनशैली परिमापने

हृदय रोहिणी मुख्य रक्त नलिका आहेत ज्या आपल्या हृदयाला रक्त, ऑक्सिजन आणि पोषणतत्वांचा पुरवठा करतात. रक्त रोहिणी रोग (CAD) या धमन्या क्षतिग्रस्त किंवा रोगग्रस्त झाल्यास उद्भवतो. आपल्या धमन्यांमध्ये कोलेस्टेरॉल-संचय (किटण) हे मुख्य कारण आहे. किटण निर्माण झाला की आपल्या हृदयास कमी रक्त प्राप्त होऊन धमन्यांचे संकोचन होते. कमी झालेल्या रक्त प्रवाहामुळे, परिस्थितीनुसार छातीत वेदना (रक्तवाहिनी आकुंचन रोग), श्वासोश्चवासात अडथळा किंवा हृदय रोहिणी रोगाची इतर चिन्हे आणि लक्षणे उद्भवू शकतात. जेव्हा संपूर्ण अडथळा असतो तेव्हा हृदयविकाराचा झटका उद्भवतो.

artery

आपल्याला हृदयविकाराचा झटका येत नाही तोपर्यंत CAD दृश्यात्मक रूपात लक्षात येऊ शकत नाही कारण हृदय रक्त रोहिणी अनेक दशकांमध्ये विकसित होतात. यामुळे रक्त आकुंचन रोग होऊ शकतो किंवा हृदयाच्या मांसपेशींच्या भागातील जीवकोशांच्या विघटनेने निर्माण झालेल्या रोगावर उपचार होऊ शकत नाहीत. तथापि, एखादी व्यक्ती हृदय रोहिणी रोग प्रतिबंधित करण्यासाठी आणि उपचार करण्यासाठी स्वास्थ्यपूर्ण जीवनशैली स्वीकारून बरेच काही करू शकतो. हृदय रोहिणी रोगावर उपचारांमध्ये औषधोपचार किंवा शस्त्रक्रियात्मक आणि कमीत कमी रूपात आक्रमक प्रक्रिया समाविष्ट होऊ शकतात.

जोखमीचे घटक

CAD चे अनेक जोखीम घटक आहेत ज्यात हे समाविष्ट होतात:

  • हार्ट फ़ेल होने के तीन सामान्य कारण यह हैं
  • वाढते वय. वाढते वय आणि म्हातारपण आल्याने आपली क्षतिग्रस्त आणि संकुचित रोहिणींची जोखीम वाढते.
  • पुरूष लिंग. महिलांच्या तुलनेत, पुरूषांमध्ये हृदय रोहिणी रोगाची अधिक जोखीम असते. तथापि, महिलासांठी, ही जोखीम रजोनिवृत्तीनंतर वाढते.
  • कौटुंबिक इतिहास. कुटुंबाचा हृदयरोगांचा इतिहास असल्यास, विशेषता तेव्हा जेव्हा जवळच्या नातेवाईकास हृदय रोग कमी वयात होतो तेव्हा हृदय रोहिणी रोगाची अधिक जोखीम असते. आपल्या वडीलांना किंवा भावास 55 वर्षे वयापूर्वी हृदय रोग असल्याचे निदान झाले असल्यास किंवा आपल्या आईला किंवा बहिणाला 65 वर्षे वयापूर्वी तो झाल्यास आपणास अधिक जोखीम असते.
  • सिगारेटचे धुम्रपान. धुम्रपान केल्याने आपल्या रक्त नलिकांमध्ये आकुंचन होते आणि धमन्या कठीण होण्याचा संशय वाढून त्यांच्या आतील अस्तराची हानी होऊ शकते. दिवसातून 20 वेळा धुम्रपान करणार्या व्यक्तीस धुम्रपान कधीही न करणार्या व्यक्तीपेक्षा सहापटीने जास्त हृदय विकाराच्या झटक्याचा धोका असतो.
  • उच्च रक्त दाब. ज्या उच्च रक्तदाबावर उपचार होत नाही त्यांचा परिणाम आपल्या धमन्या कठीण होणे आणि जाड होणे, रक्त प्रवाहीत होऊ शकते ती माध्यमे संकुचित होण्यावर होतो.
  • उच्च रक्त कोलेस्टेरॉल स्तर. आपल्या रक्तातील कोलेस्टेरॉलच्या उच्च स्तरासह किटणच्या निर्मितीची आणि धमनी कठीण होण्याची जोखीम वाढत जाते. निम्न-घनता लिपोप्रोटीनच्या (LDL) उच्च स्तरामुळे उच्च कोलेस्टेरॉल होऊ शकते, ज्यास "खराब" कोलेस्टेरॉल असे संबोधले जाते. उच्च-घनता लिपोप्रोटीनच्या (HDL) निम्न स्तरामुळे धमन्या कठीण होतात, ज्यास "चांगले" कोलेस्टेरॉल असे संबोधले जाते.
  • मधुमेह. CAD ची वाढती जोखीम मुधमेहाच्या रूग्णांमध्ये आढळून येते. दोन्ही स्थितींमध्ये समान जोखीम घटक सामायिक करा, जसे मेदवृद्धी आणि उच्च रक्त दाब.
  • स्थूलपणा. अतिरिक्त वजनाने तर जोखीम घटक आणखी वाढतात.
  • शारीरिक असक्रियता. व्यायामाचा कमी स्तर किंवा त्यांची पू्र्ण अनुपस्थिती आपल्या हृदय रोहिणी रोगाशी तसेच त्यापैकी काही जोखीम घटकांशी संबंधित असते.
  • उच्च तणाव. आपल्या आयुष्यातील अव्यवस्थापित मानसिक तणाव आपल्या धमन्यांना क्षती पोहचवू शकतो तसेच हृदय रोहिणी विकाराचे इतर जोखीम घटक अधिक वाढवू शकतो.

काही प्रमाणात, CAD कोणत्याही पारंपारिक जोखीम घटकाशिवाय विकसित होतो. संशोधक यासह इतर संभाव्य घटकांचा अभ्यास करत आहेत:

आपल्या हृदय स्नायूंना कमी झालेला रक्तप्रवाहाने रक्तवाहिनी आकुंचन रोग होतो. रक्त हे ऑक्सिजन वाहक आहे, जे जगण्यासाठी आपल्या हृदय स्नायूंना आवश्यक असते. हृदय स्नायूंना पुरेसा ऑक्सिजन मिळत नाही त्यावेळी एक स्थिती उद्भवते ज्यास इस्केमिया असे म्हणतात. हृदय रोहिणी आजार (CAD) आपल्या हृदय स्नायूंना कमी झालेल्या रक्त प्रवाहाचे अगदी सामान्य कारण आहे. हृदयाच्या धमन्या (हृदय रोहिणी) किटण नामक मेद पदार्थांनी संकुचित होऊ शकतात. यास धमन्या कठीण होणे असे म्हणतात.

  • झोपेत अश्वसन. आपण झोपलेले असताना आपण पुन्हा पुन्हा श्वास रोखतात आणि प्रारंभ करतात ती स्थिती.
  • C-अभिक्रियाशील प्रथिने. शरीरास सूज असते तेव्हा सामान्य रक्त प्रथिनांचे वाढलेले प्रमाण पाहिले जाते.
  • होमोसिस्टीन. आपले शरीर प्रथिने तयार करण्यासाठी आणि उती निर्माण करण्यासाठी आणि त्यांची देखरेख करण्यासाठी वापरते ते होमोसिस्टीन, एक अॅमिनो आम्ल आपल्या हृदय रोहिणी रोगाची जोखीम वाढविते.
  • तंतूजनक. हे रक्त साकळवणारे प्रथिन आहे. प्रथिनाच्या वाढलेल्या स्तरामुळे रक्त गोठविण्यास मोठ्या प्रमाणावर जबाबदार असलेल्या रक्त पेशींचा एक प्रकार अर्थात जीवकोशांचे समूह वाढतात. ज्यामुळे रक्तात हृदयविकाराचा झटका किंवा आघातास कारणीभुत गुठळ्या निर्माण होतात.
  • जलिपोप्रोटीन (a). एक निम्न-घनता लिपोप्रोटीन (LDL) कण एका विशिष्ट प्रथिनास संबद्ध होतो तेव्हा लिपोप्रोटीन (a) तयार होते. याचा उच्च स्तर रक्तातील गुठळ्या विरघळविण्याचा याचा स्तर आपल्या शरीराची क्षमता विदारीत करू शकतो आणि हदय रोहिणी रोग आणि हृदयाविकाराच्या झटक्यासह हृदयवाहकाच्या रोगाची जोखीम वाढविते.

कधी कधी सर्वात आधी म्हणजे लहानपणी, हृदय रोहिणीच्या अंतर्गत क्षति किंवा जखमेमुळे CAD होतो.

हानी यांच्यासह अनेक घटकांमुळे होऊ शकते:

  • धूम्रपान
  • उच्च रक्त दाब
  • उच्च कोलेस्टेरॉले
  • मधुमेह
  • शकर्करोगाच्या विविध प्रकारांवर वापरली जाते त्याप्रमाणे छातीसाठी किरणोत्सर्ग उपचारपद्धती

धमनीच्या आतील बाजूस क्षती कोलेस्टेरॉलने बनलेले मेदयुक्त पदार्थ (किटण) बनतात आणि धमन्या कठीण होणाच्या प्रक्रियेत जखम झालेल्या भागात इतर पेशीय कचरा जमतो. या किटणच्या पृष्ठभाग भंजनाचा परिणाम धमनीची सुधारणा करण्याचा प्रयत्न करण्यास त्या भागात जमा होणार्या जीवपेशी नामक रक्त पेशींवर होतो. या राशीपतनामुळे हृदयविकाराचा झटका येऊ शकतो.

लक्षणे

संकुचित हृदय रोहिणी आपल्या हृदयास पुरेशा ऑक्सिजन-युक्त रक्ताचा पुरवठा करण्यास अक्षम करते — विशेषता ते जेव्हा व्यायाम करत असताना कठीण रूपात स्पंदन करत असते त्यावेळी. प्रारंभी, कमी झालेल्या रक्त प्रवाहाने हृदय रोहिणी रोगाची कोणतीही लक्षणे उद्भवत नाहीत. परंतु, आपल्या हृदय रोहिणींमध्ये किटण निर्माण होणे सुरू राहिल्यास आपल्याला हृदय रोहिणी रोग होऊ शकतो. ही लक्षणे आहेत:

  • छातीत वेदना ( रक्तवाहिनी आकुंचन रोग). यात सहसा आपल्या छातीवर कुणीतरी उभे राहिल्याप्रमाणे छातीत दाब किंवा घट्टपणा वाटतो. या लक्षणास, रक्तवाहिनी आकुंचन रोग म्हणतात, जो शारीरिक किंवा भावनिक तणावामुळे प्रवर्तित होतो. तणावात्मक गतिविधी थांबविल्यानंतर हा काही मिनिटांमध्ये दूर होतो. काही लोकांमध्ये, विशेषता स्त्रियांमध्ये ही वेदना पोटात, पाठीत किंवा बाहूमध्ये क्षणिक किंवा तीव्र रूपात असू शकते.
  • श्वासोच्छ्वासात अडथळा. आपल्या शरीराच्या गरजा पूर्ण करण्यासाठी आपले हृदय पूरेसे रक्त पंप करू शकत नसल्यास आपल्या श्वासात अडथळा येऊ शकतो किंवा कष्टांसह प्रचंड थकवा येऊ शकतो.
  • हृदयविकाराचा झटका. हृदय रोहिणी पूर्णपणे अवरोधित झाल्यास हृदयविकाराचा झटका येतो. पारंपारिकपणे आपल्या छातीत भरडून काढणार्या दाबासह आणि आपल्या खांद्यात किंवा बाहूत वेदना होऊन, काहीवेळा श्वासात अडथळा येऊन आणि घामासह हृदयविकाराचा झटका येतो. कमी पारंपारिक चिन्हे आणि लक्षणे महिलांमध्ये उपलब्ध असतात. काहीवेळा कोणत्याही दिसणार्या चिन्हे किंवा लक्षणांशिवाय हृदयविकाराचा झटका येतो.

हृदय रोहिणी रोगाच्या क्लिष्टता या आहेत:

  • छातीत वेदना ( रक्तवाहिनी आकुंचन रोग). आपल्या हृदय रोहिणी संकुचित झाल्या असतील आणि विशेषता शारीरिक गतिविधींदरम्यान — मागणी जास्त असेल तेव्हा आपल्या हृदयास कदाचित पुरेसा रक्त प्रवाह प्राप्त होणार नाही. यामुळे छातीत वेदना होऊ शकते (रक्तवाहिनी आकुंचन रोग) किंवा श्वासोश्वासात अडथळा येऊ शकतो.
  • हृदयविकाराचा झटका. कोलेस्टेरोल प्लाक भंग पावल्यास आणि रक्ताच्या गुठळ्या तयार झाल्यास हृदय रोहिणीतील पूर्ण अडथळ्यामुळे त्याचे हृदय विकाराच्या झटक्यात प्रवर्तन होऊ शकते. आपल्या हृदयास रक्त प्रवाहाच्या कमतरतेमुळे आपले हृदय स्नायू क्षतिग्रस्त होऊ शकतात. उपचार प्राप्त करण्याची गती क्षतिचे प्रमाण निर्धारित करते.
  • असामान्य हृदय लयी (हृदयाची गती मंद किंवा लयहीन होणे). हृदयविकाराच्या झटक्याने आपल्या हृदय स्नायूची हानी झालेली असल्यास विद्युत "लघु परिपथ" विकसित केला जाऊ शकतो. यामुळे हृदयाच्या लयी असामान्य होतात ज्यातील काही गंभीर किंवा अगदी जीवघेण्या असू शकतात.
  • हृदय बंद पडणे. ही अशी स्थिती आहे ज्यात आपल्या हृदयातील क्षतीग्रस्त उती आपल्या हृदयातून रक्त पंप करण्याचे कार्य पुरेशा प्रमाणात करू शकत नाही. कमी झालेली पंपिंग गतिविधी उतींचा आणि अवयवांचा रक्तप्रवाह कमी करते आणि श्वासाची कमतरता, थकवा निर्माण होतो व आपल्या घोट्यांना व पायांना घाम येतो.

रक्ताच्या गुठळ्या होणे ही मोठ्या धमनीच्या विस्फारणाची दुसरी क्लिष्टता आहे. रक्ताच्या लहान गुठळ्या पोटाच्या मोठ्या धमनीच्या विस्फारणाच्या क्षेत्रात होऊ शकतात. धमनी विस्फारणेच्या भिंतीमधून तुटणारी सैल गुठळी रक्त वाहिनीस शरीरात कुठेही अवरोधित करू शकते ज्यामुळे पाय, टाचा, मूत्रपिंड किंवा पोटातील अवयवामध्ये वेदना होऊ शकतात किंवा त्यामधील रक्तप्रवाह अवरोधित होऊ शकतो.

निदान

चिकित्सकासमोर मांडताना, वैद्यकीय इतिहास घेतला जातो, शारीरिक तपासणी केली जाते नियमित रक्त चाचण्यांचा आदेश दिला जातो. तसेच चिकित्सक यासह एक किंवा अधिक निदानात्मक चाचण्या सुचवू शकतो:

  • इलेक्ट्रोकार्डिओग्राम (ECG). ही आपल्या हृदयातून जाणार्या तरंगांची विद्युत नोंदणी असते. मागील हृदय विकाराच्या झटक्याचा पुरावा इसीजी द्वारे उघडकीस आणला जाऊ शकतो. व्यायामादरम्यान आपल्या धमन्यांचे कठीण होण्याची लक्षणे आणि चिन्हांचा अधिक पुरावा असल्यास, आपले चिकित्सक इसीजी दरम्यान आपल्याला ट्रेडमिल वर चालण्यास किंवा एक स्थिर बाइक चालविण्यास सांगू शकतात.
  • रक्त तपासण्या. आपल्या हृदयाचे हृदयविकारामुळे नुकसान झालेले असल्यास काही हृदय एन्झाइम जे आपल्या रक्तात हळूवारपणे येतात त्यांना काढण्यासाठी रक्त तपासणी केली जाते.
  • तणाव चाचणी: तणाव चाचणी ही देखील एक व्यायाम तणाव चाचणी आहे. शारीरिक गतिविधींच्या दरम्यान आपले हृदय किती चांगले कार्य करते त्याबद्दल माहिती एकत्र करण्यासाठी हिचा वापर केला जातो. बाइक किंवा ट्रेडमिलवर व्यायाम करून आपले हृदय दैनिक गतिविधी करण्यादरम्यान करते त्यापेक्षा अधिक तीव्रतेने आणि जलदपणे पंप करते. व्यायामादरम्यान आणि त्यानंतर हृदयाची चाचणी केल्याने आपल्या हृदयाच्या समस्या उघडकीस येऊ शकतात ज्या अन्यथा कदाचित लक्षात येण्याजोग्या नसतात. या प्रक्रियेमध्ये सहसा ट्रेडमिल वर चालणे किंवा स्टेशनरी बाइक चालविणे यांचा समावेश असतो ज्यावेळी आपल्या हृदयाची लय आणि रक्तदाब व श्वासोच्छवासाचे निरीक्षण केले जाते. तणाव चाचण्यांच्या काही प्रकारांमध्ये, आपल्या हृदयाची चित्रे घेतली जातात, जसे की तणाव इकोकार्डियोग्राम दरम्यान (अल्ट्रासाउंड) किंवा न्यूक्लियर तणाव चाचणी. जे रूग्ण काही अन्य कारणांमुळे व्यायाम करण्यात अक्षम आहेत त्यांच्यासाठी या व्यायामाचा हृदयावर पडणार्या प्रभावासमान प्रभाव असलेली औषधे हृदयास अधिक तीव्रतेने पंप करण्यासाठी वापरली जातात.
  • छातीचा क्ष किरण: या चाचणीद्वारे आपल्या हृदय आणि फुफुत्साच्या प्रतिमा दर्शविल्या जातात. तसेच, आपल्या लक्षणांचे वर्णन करू शकतात त्या इतर स्थिती आणि आपले मोठे हृदय आहे की नाही हे देखील पाहिले जाऊ शकते.
  • इकोकार्डिओग्राम. हृदयाची प्रतिमा निर्माण करण्यासाठी हे आपल्या हृदयाच्या अल्ट्रासाऊंड चाचणीचा प्रकार आहे. आपल्या हृदयाच्या भागांना पुरेसे रक्त मिळते आहे की नाही किंवा कमी रक्त प्रवाहामुळे क्षतिग्रस्त हृदयाचे स्नायू यांसह हृदयविकाराच्या झटक्यासंबंधी समस्या ओळखण्यासाठी डॉक्टरांद्वारे या प्रतिमा पाहिल्या जातात. काहीवेळा, एक इकोकार्डिओग्राम तणाव चाचणी दरम्यान कार्यप्रदर्शन करते.
  • आण्विक तणाव चाचणी. आराम आणि तणावादरम्यान आपल्या हृदय स्नायुंचा रक्त प्रवाह जाणण्यासाठी ही चाचणी घेतली जाते. ती नियमित तणाव चाचणी समान आहे परंतु एक रेडिओसक्रिय पदार्थ वापरते.
  • हृदयाची अँजिओग्राफी. चाचणीद्वारे हृदयरोहिणीमधील संकोच किंवा अडथळे प्रकट होतात. या चाचणीत आपल्या हृदयाच्या धमन्यांमध्ये एक द्रव रंगद्रव्य एका लांब, बारीक नळी (कॅथेटर) द्वारे सोडले जाते जे सहसा आपल्या पायामधील धमनीमधून, आपल्या हृदयाच्या धमनीमध्ये भरले जाते. आपल्या धमन्यांमध्ये जसे रंगद्रव्य भरले जाते तसे धमन्या क्ष-किरणांवर दृश्यमान होतात. अडथळ्याच्या कोणताही भाग त्यानंतर प्रकट होतो.
  • हृदयसंबंधी संगणकीय टोमोग्राफी (CT) स्कॅन. या चाचणीच्या कार्यप्रदर्शनादरम्यान, आपण डोनट आकार असलेल्या यंत्राच्या आत टेबलवर झोपतात. यंत्रात एक क्ष किरण नळी असते जी आपल्या शरीराभोवती फिरते आणि आपल्या हृदय व छातीच्या प्रतिमा संकलित करते. आपल्या हृदयाच्या धमन्यांपैकी एखादी संकुचित असल्यास किंवा आपले हृदय मोठे झाले असल्यास या प्रतिमा दर्शवू शकतात.
  • हृदयासंबंधी MRI: या चाचणीत, एक चुंबकीय क्षेत्र तयार करण्यासाठी रूग्णास लांब नळीसारख्या एका टेबलावर झोपायला सांगितले जाते. चुंबकीय क्षेत्र आपल्या काही पेशींमध्ये आण्विक कण संरेखित करते. या संरेखित कणांवर रेडिओ तरंग प्रसारित केले जातात तेव्हा सिग्नल निर्माण होतात. हे सिग्नल कोणत्या प्रकारच्या ऊती आहेत त्यानुसार भिन्न असतात. सिग्नल आपल्या हृदयाच्या प्रतिमा तयार करतात.

उपचार

जहृदय रोहिणी रोगाचे उपचार स्थितीनुसार भिन्न असतात. आक्रमक प्रक्रियेतून जाऊन किंवा दोन्ही — स्थितीच्या गंभीरतेवर अवलंबून आणि हृदयाच्या क्षतिच्या प्रमाणानुसार रूग्णावर उपचार केले जाऊ शकतात.:

औषधोपचार

किसी हृदयाघात के बाद, अधिकाधिक हृदय ऊतक ऑक्सीज़न खोते हैं और प्रत्येक मिनट बीतने के साथ उनकी स्थिति बिगड़ जाती है या वे समाप्त होते जाते हैं. रक्त की आपूर्ति को त्वरित रूप से पुनर्प्राप्त करना, हृदय को क्षतिग्रस्त होने से बचाने का प्रमुख तरीका है.

  • एँस्पिरीन. अशाप्रकारे रक्तप्रवाह कायम ठेवण्यास मदत करून संकोचित धमनीद्वारे हे रक्ताच्या गुठळ्या कमी करते..
  • थ्रोंबोलायटिक्स. यास गुठळी रूपद युग्म असेही संबोधले जाते, ही औषधे आपल्या हृदयात रक्त अवरोधित करतात त्या रक्ताच्या गुठळ्या विरघळवण्यास मदत करतात.
  • सुपरास्पिरीन. ही गुठळ्या निर्मिती प्रतिबंधित करण्यासाठी सुधारित क्षमतेसह आणि क्लोपिडोग्रेल असलेली एस्पिरीन सारखी औषधे आहेत..
  • रक्त-विरलीकरण औषधोपचार. हेपरीन सारखे औषधोपचार आपले रक्त कमी "चिकट" बनविण्यासाठी आणि अधिक धोकेदायक गुठळ्या कमी तयार होण्यासाठी दिले जाऊ शकतात.
  • वेदना शामके. हृदयविकाराचा झटका छातीतील तीव्र वेदनांशी संबद्ध असतो आणि आपण एक वेदना शामक प्राप्त करू शकता, जसे की अस्वस्थता कमी करण्यासाठी मॉरफिन.
  • नायट्रोग्लिसरीन. हे औषधोपचार रक्त प्रवाह सुधारित करून धमन्यांच्या रक्त नलिका तात्पुरत्या खुल्या करतात.
  • बेटा ब्लॉकर्स. हे औषधोपचार आपले हृ्दय स्नायू शिथिल करण्यास, आपले हृदयस्पंदन मंद करण्यास आणि आपले हृदयाचे कार्य सोपे करून रक्त दाब कमी करण्यास मदत करतात.
  • कोलेस्टेरॉल-कमी करणारे औषधोपचार. या औषधोपचारांनी अवांछित रक्त कोलेस्टरोल स्तर कमी केला जातो.

शस्त्रक्रियात्मक आणि इतर प्रक्रिया

औषधोपचारांसह आपल्या हृदयविकाराच्या झटक्यावर प्रक्रिया करण्यासाठी खालीलपैकी एक प्रक्रिया केली जाऊ शकते:

  • अँजिओप्लास्टी आणि स्टेंटिंग. हे अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग किंवा जीवनशैली बदल आणि औषधोपचार प्रभावीरित्या आपल्या जुन्या, स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगावर उपचार करत नाही तेव्हा वापरले जातात.
  • हृदय रोहिणी बायपास शस्त्रक्रिया. जेव्हा स्टेंटिंग सहाय्य करू शकत नाही तेव्हा हे केले जाते. ही हृदय धमन्यांवरील मोठी शस्त्रक्रिया असते आणि आपल्या शरीराच्या इतर भागाचा वापर करून किंवा सिंथेटीक फॅब्रिकद्वारे वापरलेली नळी वापरून एक कलम बायपास समाविष्ट करते. या प्रक्रियेसह, अवरोधित किंवा संकुचित धमन्यांमध्ये रक्त प्रवाह सुरू ठेवला जातो.

या औषधोपचार/प्रक्रियांनंतर, आपल्या हृदयास रक्तप्रवाह पुनर्संचयित केला जातो आणि आपली स्थिती स्थिर असते.

हृदय रोहिणी आजारामुळे उद्भवणारे हृदयविकाराचे झटके जीवनशैलीतील बदलामुळे प्रतिबंधित करण्यास किंवा विलंबित करण्यास मदत करू शकतात:

  • धुम्रपान बंद करा.
  • आठवड्याच्या जास्तीत जास्त दिवसांत व्यायाम करा.
  • आरोग्यदायी अन्न खा.
  • अतिरिक्त पाऊंड वजन कमी करा आणि स्वास्थ्यपूर्ण वजन कायम ठेवा.
  • तणावाचे व्यवस्थापन करा.
  • आपल्याला उच्च कोलेस्टरोल, उच्च रक्त दाब, मधुमेह किंवा इतर जुना आजार असल्यास स्थिती व्यवस्थापित करण्यासाठी आणि एकुणच संपूर्ण स्वास्थ्य जपण्यासाठी आपल्या चिकित्सकासह कार्य करा.

कोरोनरी आर्टरी रोग

  • संक्षिप्त विवरण
  • जोख़िम के कारक
  • कारण
  • लक्षण
  • जटिलताएँ
  • निदान
  • उपचार
  • रोकथाम

कोरोनरी आर्टरी आपके हृदय तक रक्त, ऑक्सीजन और पोषक तत्व पहुँचाने वाली प्रमुख रक्तवाहिनियाँ हैं. कोरोनरी आर्टरी रोग (CAD) इन वाहिनियों के क्षतिग्रस्त या रोगग्रस्त होने पर होता है. इसका प्रमुख कारण आपकी आर्टरी पर कोलेस्ट्रॉल-युक्त डिपॉजिट (प्लाक) का होना है. प्लाक बन जाने पर आर्टरी संकुचित हो जाती हैं, जिससे आपके हृदय को कम रक्त प्राप्त होता है. कम रक्त प्रवाह अंततः सीने में दर्द (एंजाइना), सांस की तकलीफ, या अन्य कोरोनरी आर्टरी रोग के संकेत एवं लक्षण का कारण बन सकता है. पूरी तरह अवरुद्ध हो जाने पर हृदयाघात होता है.

artery

जब तक आपको हृदयाघात नहीं होता, तब तक CAD पर ध्यान नहीं जा पाता, क्योंकि कोरोनरी आर्टरी रोग अकसर दशकों में विकसित होता है. यदि इसका इलाज नहीं किया जाए तो एंजाइना या एक्यूट मायोकार्डियल इन्फ़ारेक्शन हो सकता है. हालाँकि, स्वस्थ जीवनचर्या अपनाकर लोग कोरोनरी आर्टरी रोग की रोकथाम करने और उसका उपचार करने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं. कोरोनरी आर्टरी रोग का उपचार दवाइयों, या शल्य चिकित्सा और न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रियाओं के माध्यम से किया जा सकता है.

CAD के कई जोखिम कारक हैं, जिनमें ये शामिल हैं:

  • हार्ट फ़ेल होने के तीन सामान्य कारण यह हैं
  • बढ़ती हुई आयु. बढ़ती हुई आयु रक्तवाहिनियों के क्षतिग्रस्त होने और सँकरा होने के जोखिम को बढ़ा देती है.
  • पुरुष होना. महिलाओं के मुकाबले पुरुषों को कोरोनरी आर्टरी रोग का जोखिम अधिक रहता है. हालाँकि, रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं में इसका जोखिम बढ़ जाता है.
  • पारिवारिक इतिहास. हृदय रोग का पारिवारिक इतिहास रहने पर आर्टरी रोग का जोखिम बढ़ जाता है, खासकर तब, जब किसी निकट संबंधी को कम आयु में हृदय रोग हो. यदि आपके पिता या भाई को 55 वर्ष से कम आयु में, या आपकी माता या बहन को 65 वर्ष से कम आयु में हृदय रोग हुआ हो, तो आपको इस रोग का जोखिम अधिक है.
  • धूम्रपान. धूम्रपान से रक्तवाहिनियाँ संकुचित हो जाती हैं, जिसके कारण उनकी आंतरिक परत क्षतिग्रस्त हो सकती है. इसके कारण वे एथीरोस्कलेरोसिस से आसानी से प्रभावित हो जाती हैं. जो लोग दिन भर में कम-से-कम 20 सिगरेट पीते हैं, उनमें सिगरेट नहीं पीने वालों की तुलना में हृदयाघात का खतरा छह गुना अधिक रहता है.
  • उच्च रक्तचाप. उच्च रक्तचाप का यदि इलाज नहीं किया जाए, तो इसके कारण आर्टरी सख्त और अधिक मोटी और रक्तवाहिका संकुचित हो जाती है.
  • उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल स्तर. रक्त में उच्च कोलेस्ट्रॉल स्तर होने से प्लॉक और एथीरोस्कलेरोसिस निर्माण का जोखिम बढ़ जाता है. "खराब" कोलेस्ट्रॉल कहलाने वाले कम घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL) के उच्च स्तर के कारण उच्च कोलेस्ट्रॉल हो सकता है. "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल कहलाने वाले उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL) के निम्न स्तर के कारण भी एथीरोस्कलेरोसिस को बढ़ावा मिलता है.
  • मधुमेह. मधुमेह के रोगियों में CAD का अधिक जोखिम पाया गया है. मोटापा और उच्च रक्तचाप जैसी स्थितियों का जोखिम समान होता है.
  • मोटापा. अधिक वज़नदार होना आमतौर पर अन्य जोखिमों को और बिगाड़ देता है.
  • शारीरिक निष्क्रियता: कम व्यायाम या बिल्कुल व्यायाम न करना, कोरोनरी आर्टरी रोग और उसके कुछ जोखिम कारकों के साथ संबद्ध हैं.
  • उच्च तनाव. आपके जीवन का अप्रबंधित मानसिक तनाव आपकी आर्टरी को क्षति पहुँचा सकता है साथ ही कोरोनरी आर्टरी रोग के अन्य जोखिम कारकों के बिगड़ने का कारण बन सकता है.

कुछ मामलों में, CAD किसी भी पारंपरिक जोखिम कारक के बिना विकसित होता है. शोधकर्ता निम्न सहित अन्य संभावित कारकों का अध्ययन कर रहे हैं:

  • स्लीप एप्निया. ऐसी स्थिति जिसमें आप सोते समय बार-बार साँस लेना बंद और प्रारंभ करते हैं.
  • C-प्रतिक्रियात्मक प्रोटीन. जब शरीर में सूजन हो, तो इस सामान्य रक्त प्रोटीन की बढ़ी हुई मात्रा दिखाई देती है,
  • होमोसिस्टीन. आपके शरीर द्वारा प्रोटीन को बनाने और ऊतकों की रचना करने और उन्हें बनाए रखने के लिए उपयोग किए जाने वाले अमीनो अम्ल होमोसिस्टीन के बढ़े हुए स्तर, कोरोनरी आर्टरी रोग के आपके जोखिम को बढ़ा सकते हैं.
  • फ़ाइब्रिनोजन. यह रक्त का थक्का बनाने वाला प्रोटीन है इस प्रोटीन के बढ़े हुए स्तर के कारण, रक्त का थक्का बनने के लिए मुख्यतः जिम्मेदार रक्त कोशिकाएँ - प्लेटलेट्स का थक्का बनना बढ़ जाता है, इसके कारण धमनी में थक्का बन सकता है, जो हृदयाघात या स्ट्रोक हो सकता है.
  • लिप्रोप्रोटीन (a). लिप्रोप्रोटीन (a) तब बनता है जब निम्न-घनत्व लिपोप्रोटीन (LDL) पार्टिकल, किसी विशिष्ट प्रोटीन से संबद्ध होता है. इसका उच्च स्तर, रक्त के थक्कों को समाप्त करने की आपके शरीर की क्षमता को खत्म कर सकता है और कोरोनरी आर्टरी रोग और हृदयाघात सहित कार्डियोवेस्क्युलर रोगों का खतरा बढ़ा देता है.

कोरोनरी आर्टरी की आंतरिक परत में होने वाली क्षति या चोट से कभी कभी बचपन में ही CAD प्रारंभ हो सकती है, क्षति निम्न सहित विभिन्न कारणों से हो सकती है:

  • धूम्रपान
  • उच्च रक्तचाप
  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • डायबिटीज़
  • कुछ विशिष्ट प्रकार के कैंसर के लिए प्रयुक्त सीने की रेडिएशन थैरेपी

धमनी की आंतरिक भित्ती में होने वाली क्षति के कारण क्षति के स्थान पर कोलेस्ट्रॉल और अन्य कोशिकीय अनुपयोगी उत्पादों से निर्मित वसा का जमाव (प्लॉक) एथीरोस्लेरोसिस नामक प्रक्रिया में होता है. इन प्लॉक की सतह की फ़टन के कारण प्लेटलेट्स नामक रक्त कोशिकाएँ, धमनी में सुधार करने के लिए उस स्थान पर युग्म बना लेती हैं. इस जमाव के कारण हृदयाघात हो सकता है.

सँकरी कोरोनरी आर्टरी, आपके हृदय में पर्याप्त ऑक्सीज़न-युक्त रक्त की आपूर्ति नहीं कर सकती हैं – विशेष रूप से जबकि यह तेज़ी से धड़क रहा हो, जैसे व्यायाम के समय होता है. प्रारंभिक रूप से, कम रक्त प्रवाह के कारण कोई कोरोनरी आर्टरी रोग लक्षण उत्पन्न नहीं होते हैं. लेकिन, प्लॉक के आपकी कोरोनरी आर्टरी में लगातार बनने के कारण आप में कोरोनरी आर्टरी रोग के लक्षण उत्पन्न हो सकते हैं. ये लक्षण इस प्रकार हैं:

  • सीने में दर्द (एंजाइना). यह आपके सीने में विशिष्ट रूप से होने वाला तनाव या कसाव का अनुभव है, जैसे कोई व्यक्ति आपके सीने पर खड़ा हो. एंजाइना नामक यह लक्षण सामान्यतः शारीरिक या संवेगात्मक तनाव द्वारा उत्पन्न होते हैं. यह तनावपूर्ण गतिविधि रोक देने के कुछ मिनट के भीतर समाप्त हो जाता है. यह दर्द क्षणिक या तीव्र हो सकता है और कुछ लोगों को विशेष रूप से महिलाओं को पेट में, पीठ पर या भुजा में अनुभव हो सकता है.
  • श्वसन में कमी होना. यदि आपका हृदय आपके शरीर की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए पर्याप्त रक्त पंप नहीं कर सकता है, तो आपको लिए जाने वाले श्वसन में कमी या अत्यधिक थकान हो सकती है.
  • हृदयाघात. यदि कोरोनरी आर्टरी पूरी तरह अवरुद्ध हो जाती है, तो इसके परिणामस्वरूप हृदयाघात होता है. हृदयाघात में सामान्य रूप से कभी कभी श्वसन में कमी और पसीना आने के साथ-साथ आपके सीने में जानलेवा तनाव के साथ आपके कंधे या भुजा में दर्द उत्पन्न होता है. महिलाओं में कम विशिष्ट संकेत और लक्षण मौजूद होते हैं. कभी कभी हृदयाघात बिना किसी संकेत या लक्षणों के भी होता है.

कोरोनरी आर्टरी रोग की जटिलताएँ इस प्रकार हैं:

  • सीने में दर्द (एंजाइना). जब आपकी कोरोनरी आर्टरी संकरी हो जाती हैं और रक्त की मांग अधिकतम हों — विशेष रूप से शारीरिक गतिविधि के दौरान, तो हो सकता है कि आपके हृदय को पर्याप्त रक्त प्राप्त न हो सके.
  • हृदयाघात. यदि कोलेस्ट्रॉल प्लाक फ़ट जाता है और रक्त का थक्का बन जाता है, तो आपके हृदय की आर्टरी के पूर्णतः अवरुद्ध होने के कारण हृदयाघात हो सकता है. आपके हृदय में प्रवाहित होने वाले रक्त की आपूर्ति कम होने से आपके हृदय की माँसपेशियों की क्षति हो सकती है. होने वाली क्षति, प्राप्त होने वाले उपचार की गति पर निर्भर है.
  • हृदय के स्पंदन का असामान्य आवर्तन (एरिद्मिया). यदि आपके हृदय की मासपेशियाँ, हृदयाघात से क्षतिग्रस्त हो जाती हैं तो हृदयाघात के कारण इलेक्ट्रिकल "शॉर्ट सर्किट" विकसित हो सकते हैं. इसके कारण असामान्य हृदय स्पंदन उत्पन्न हो सकते हैं, जिनमें से कुछ गंभीर और यहाँ तक कि घातक भी हो सकते हैं.
  • हार्ट फ़ेल होना. इस दशा में आपके हृदय में क्षतिग्रस्त ऊतक, रक्त को आपके हृदय से बाहर पंप करने का कार्य समुचित रूप से नहीं कर पाता है. पंपिंग क्रिया कम होने से ऊतकों और अंगों में रक्त प्रवाह कम हो जाता है और इससे साँस लेने में परेशानी, थकान और आपके टखनों और पाँवों में सूजन आ सकती है.

डॉक्टर के सामने उपस्थित होने पर, चिकित्सा इतिहास लिया जाएगा, शारीरिक परीक्षण किया जाएगा और नेमी रक्त जाँच की जाएगी. चिकित्सक निम्न सहित, एक या अधिक नैदानिक जाँच का सुझाव दे सकता है:

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG). यह आपके हृदय में सिग्नल संचारित होने की स्थिति की इलेक्ट्रिकल रिकॉर्डिंग है. ECG से पिछले हृदयाघात का प्रमाण मिल सकता है. यदि आपके एथीरोस्कलेरोसिस के संकेत और लक्षण व्यायाम के दौरान अधिक प्रकट होते हैं, तो आपका चिकित्सक ECG के दौरान आपसे ट्रेडमिल पर चलने या स्थिर बाइक चलाने के लिए कह सकता है.
  • रक्त के टेस्ट. यदि आपका हृदय, हृदयाघात से क्षतिग्रस्त हो गया है, तो ऐसे में रक्त में धीरे-धीरे लीक होने वाले हृ्दय के विशिष्ट एंजाइम के स्तर में वृद्धि देखने के लिए रक्त का टेस्ट किया जाता है.
  • स्ट्रेस टेस्ट. स्ट्रेस टेस्ट एक तरह का व्यायाम स्ट्रेस टेस्ट भी होता है. इसका उपयोग यह जानकारी एकत्रित करने के लिए किया जाता है कि शारीरिक गतिविधि के दौरान आपका हृदय कितने अच्छे ढंग से कार्य करता है. बाइक या ट्रेडमिल पर व्यायाम करने पर आपका हृदय, अधिकांश दैनिक गतिविधियों की तुलना में अधिक और तेज़ पंपिंग करता है. व्यायाम के समय और उसके बाद हृदय का परीक्षण करने से आपके हृ्दय के भीतर की ऐसी समस्याओं का पता चल सकता है, जिन पर हो सकता है कि अन्यथा ध्यान नहीं दिया जाता. सामान्यत: इस कार्यविधि में ट्रेडमिल पर चलना या कोई स्थिर बाइक चलाना शामिल होता है, जिसके दौरान आपके हृ्दय की रिद्म व रक्तचाप और श्वसन को मॉनिटर किया जाता है. कुछ प्रकार के स्ट्रेस टेस्ट जैसे स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम (अल्ट्रासाउंड) या न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट के दौरान आपके हृ्दय का चित्र लिया जाएगा. ऐसे रोगियों में, जो किसी कारणवश व्यायाम नहीं कर पाते हैं, उनके हृदय की पंपिंग को बढ़ाने के लिए हृदय पर व्यायाम का प्रभाव उत्पन्न करने वाले औषधोपचार का उपयोग किया जाता है.
  • सीने का X-रे. इस टेस्ट के द्वारा आपके हृदय और फ़ेफ़ड़ों की छवियाँ प्रदर्शित की जाती हैं. इसके अलावा, अन्य दशाएँ भी देखी जा सकती हैं, जो आपके लक्षणों को स्पष्ट कर सकती हैं और यह भी देखा जा सकता है कि कहीं आपके हृ्दय का आकार बढ़ा हुआ तो नहीं है.
  • इकोकार्डियोग्राम. यह हृदय की छवियाँ लेने के लिए आपके हृ्दय के अल्ट्रासाउंड परीक्षण का एक प्रकार है. आपके हृदय के ऐसे क्षेत्र जिन्हें पर्याप्त रक्त नहीं मिल रहा हो या हृदय की ऐसी माँसपेशी जो कम रक्त प्रवाह के कारण क्षतिग्रस्त हो गई हो, इसके साथ ही हृदयाघात-संबंधी समस्याओं की पहचान करने के लिए ये छवियाँ चिकित्सक द्वारा देखी जाती हैं. कभी-कभी इकोकार्डियोग्राम, स्ट्रेस टेस्ट के दौरान किया जाता है.
  • न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट. यह टेस्ट विश्राम करने और तनाव के समय आपके हृदय की माँसपेशी तक होने वाले रक्त प्रवाह को जानने के लिए किया जाता है. यह नियमित स्ट्रेट टेस्ट के समान होता है, लेकिन इसमें रेडियोधर्मी पदार्थ का उपयोग होता है.
  • कोरोनरी एंजियोग्राफ़ी. इस टेस्ट से कोरोनरी धमनियों के सँकरी या अवरोधित होने का पता लगाया जा सकता है. इस परीक्षण के तहत लिक्विड डाइ को एक लंबी पतली ट्यूब (कैथेटर) के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों में इंजेक्ट किया जाता है, जो सामान्यत: आपके पैर की धमनी के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों तक पहुँचाई जाती है. एक्स-रे पर धमनियाँ दिखाई देने लगती हैं, क्योंकि डाइ आपकी धमनियों में भर जाती है. इसके बाद अवरोध वाले किसी भी क्षेत्र का पता लगाया जा सकता है.
  • कार्डिएक कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़्री (CT) स्कैन. इस टेस्ट के दौरान, आपको डॉनट के आकार की मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मशीन के भीतर X-रे टूयब होती है जो आपके शरीर के चारों ओर घूमती है और आपके हृदय और सीने की छवियाँ लेती है. यदि आपके हृदय की कोई धमनी सँकरी हो गई है या आपके हृ्दय का आकार बढ़ गया है तो ये छवियाँ उसे प्रदर्शित कर सकती हैं.
  • कार्डिएक MRI: इस टेस्ट में मरीज़ को मैग्नेटिक फ़ील्ड उत्पन्न करने वाली लंबी ट्यूब जैसी मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मैग्नेटिक फ़ील्ड आपकी कुछ कोशिकाओं में एटॉमिक कण अलाइन कर देता है. जब अलाइन किए गए इन कणों की ओर रेडियो तरंगें ब्रॉडकास्ट होती हैं तो सिग्नल उत्पन्न होते हैं. ये सिग्नल संबंधित ऊतक के प्रकार के अनुसार भिन्न होते हैं. यह सिग्नल आपके हृदय की छवियाँ बनाते हैं.

कोरोनरी आर्टरी रोग का उपचार, स्थिति के अनुसार भिन्न हो सकता है. रोगी का उपचार दवाओं से, इनवेज़िव क्रियाविधि से या दोनों तरीकों से किया जा सकता है — जो स्थिति की गंभीरता पर और हृदय को होने वाली क्षति के परिमाण पर निर्भर है.

औषधोपचार

किसी हृदयाघात के बाद, अधिकाधिक हृदय ऊतक ऑक्सीज़न खोते हैं और प्रत्येक मिनट बीतने के साथ उनकी स्थिति बिगड़ जाती है या वे समाप्त होते जाते हैं. रक्त की आपूर्ति को त्वरित रूप से पुनर्प्राप्त करना, हृदय को क्षतिग्रस्त होने से बचाने का प्रमुख तरीका है.

  • ऐस्पिरिन. यह रक्त का थक्का जमना कम कर देती है, इस प्रकार यह सँकरी धमनियों में से रक्त के प्रवाह को बनाए रखने में सहायता करती है.
  • थ्रॉम्बोलिटिक्स. इन्हें क्लॉट बस्टर्स भी कहा जाता है, ये औषधियाँ आपके हृदय के रक्त प्रवाह को अवरोधित करने वाले रक्त के थक्के को घोलने में सहायता करती हैं.
  • सुपरएस्पिरिन. ये थक्का बनना रोकने की बेहतर क्षमता रखने वाली एस्पिरिन जैसी औषधियाँ हैं, और इसके तहत क्लॉपिडोग्रेल आती है.
  • रक्त पतला करने वाले औषधोपचार. आपके रक्त को कम "चिपचिपा" करने और उसकी अधिक खतरनाक थक्के बनाने की क्षमता को कम करने के लिए हेपरिन जैसे औषधोपचार दिए जा सकते हैं.
  • दर्द निवारक. हृदयाघात के दौरान सीने में गंभीर दर्द होता है और आपकी पीड़ा कम करने के लिए मॉर्फ़िन जैसा दर्द निवारक दिया जा सकता है.
  • नाइट्रोग्लिसरीन. यह औषधोपचार धमनीय रक्त वाहिकाओं को अस्थायी रूप से खोलकर रक्त प्रवाह को सुधार देता है.
  • बीटा ब्लॉकर्स. ये औषधोपचार आपके हृदय के कार्य को आसान बनाने के लिए आपके हृदय की माँसपेशी के शिथिल होने, आपके हृदय की धड़कन और रक्तचाप को कम करने में सहायता करते हैं.
  • कोलेस्ट्रॉल-कम करने वाले औषधोपचार. इन औषधोपचार से रक्त में कोलेस्टॉल का अनावश्यक स्तर कम हो जाता है.

सर्जिकल और अन्य कार्यविधियाँ

आपके हृदयाघात के उपचार के लिए औषधोपचार के अतिरिक्त निम्न में से कोई एक कार्यविधि अपनाई जा सकती है:

  • एंजियोप्लास्टी (रक्तवाहिका संधान) और स्टेंटिंग. अनस्टेबल एंजाइना होने पर, या आपके दीर्घकालिक स्टेबल एंजाइना का उपचार जीवनशैली संबंधी परिवर्तन और औषधोपचार से प्रभावी तरीके से नहीं हो पाने पर इनका उपयोग किया जाता है.
  • कोरोनरी आर्टरी बायपास सर्जरी. स्टेंटिंग से राहत नहीं मिलने पर यह की जाती है. यह हृदय की धमनियों की एक वृहद सर्जरी होती है और इसमें शरीर के किसी भाग से नस निकालकर या सिंथेटिक फ़ैब्रिक से बनी ट्यूब के उपयोग से ग्राफ़्ट बायपास बनाया जाता है. इस कार्यविधि से, रक्त प्रवाह अवरोधित या सँकरी धमनी के आसपास बनाए रखा जाता है.

इन औषधोपचार/कार्यविधि के बाद आपके हृदय में रक्त प्रवाह पुन: स्थापित हो जाता है और आपकी स्थिति स्थिर रहती है.

जीवनशैली संबंधी परिवर्तन, कोरोनरी आर्टरी रोग के कारण होने वाले हृदयाघात से आपको बचाने या उसके घटित होने को विलंबित करने में सहायक हो सकते हैं.

  • धूम्रपान बंद करें.
  • सप्ताह के अधिकांश दिनों में व्यायाम करें.
  • पौष्टिक आहार लें.
  • अतिरिक्त वज़न कम करें और संतुलित वज़न बनाए रखें.
  • तनाव नियंत्रित करें.
  • यदि आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज या अन्य दीर्घकालिक बीमारियाँ हैं, तो इस दशा को नियंत्रित करने और संपूर्ण स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अपने चिकित्सक से सलाह लें.

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here