Health Education

Cardiomyopathy

  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Complications
  • Treatment

Any disease of the heart muscle that interferes with the heart's ability to pump blood with sufficient force is called cardiomyopathy. Cardiomyopathy develops slowly and may produce no symptoms until the later stages, except when caused by viral infections. It is an uncommon disorder, accounting for only 1 percent of heart disease fatalities. But, it is one of the more common causes of serious heart disease in younger people. Coronary artery disease causes cardiomyopathy in the elderly. Treatment may include medications, implantable devices or, in severe cases, a heart transplant depending upon the type of cardiomyopathy. There are three types of cardiomyopathies including:

  • Dilated cardiomyopathy -The pumping ability of your heart's main pumping chamber — the left ventricle — becomes less forceful in this entity. It is the most common type of cardiomyopathy. There is enlargement of (dilated) left ventricle which can't effectively pump blood out of the heart. This type is most common in middle-aged people and is more likely to affect men.
  • Hypertrophic cardiomyopathy -In this condition there is abnormal growth or thickening of your heart muscle, particularly affecting the muscle of your heart's main pumping chamber. This cause the heart tends to stiffen and the size of the pumping chamber may shrink, interfering with your heart's ability to deliver blood to your body. This condition becomes very severe if it becomes apparent during childhood. There is a strong family history of the disease, and some genetic alterations have been linked to this disease.
  • Restrictive cardiomyopathy -In this condition, the heart muscle becomes rigid and less elastic. This means the heart can't properly expand and fill with blood between heartbeats. It is a disease of old age mostly. It is a rarest of all three types of cardiomyopathies. It can occur for no known reason (idiopathic). It is also associated with diseases elsewhere in the body that affect the heart.
Cardiomyopathy-img1

Causes

Cause of the cardiomyopathy is unknown in most cases. However, doctors are able to identify some contributing factors in some people. Possible causes of cardiomyopathy include:

  • Long-term high blood pressure
  • Heart valve problems
  • Previous heart attack
  • Chronic rapid heart rate
  • Thyroid disease or diabetes
  • Nutritional deficiencies of essential vitamins or minerals, such as thiamin (vitamin B-1), selenium, calcium and magnesium
  • Pregnancy
  • Heavy use of alcohol over many years
  • Drug abuse including cocaine or antidepressant medications, such as tricyclic antidepressants
  • Viral infections, which may injure the heart and trigger cardiomyopathy
  • Overload of iron in your heart muscle (hemochromatosis)
  • Genetic conditions

Symptoms

There is a lot of variations in the symptoms of cardiomyopathy. Possible symptoms of dilated cardiomyopathy:

  • Shortness of breath, especially during exertion
  • Fatigue
  • Difficulty breathing while lying down/li>
  • Leg swelling
  • Palpitations
  • Chest pain

Possible symptoms of hypertrophic cardiomyopathy are generally same as the symptoms of dilated cardiomyopathy. Rarely the first symptom may be fainting or even sudden death. It can also cause heart attack, usually during exercise.

Possible symptoms of restrictive cardiomyopathy are fluid accumulates in the legs and abdomen. This condition also can cause shortness of breath, especially during exertion.

Irrespective of type of cardiomyopathy you have, signs and symptoms tend to get worse unless treated. This worsening happens quickly in certain people, while in others, cardiomyopathy may not worsen for a long time.

Diagnosis

On a doctor visit, a physical examination of the patient will be conducted. A personal and family medical history will be taken, and patient asked about symptom occurrence — for example, whether exercise brings on your symptoms. You may need to undergo several tests if your doctor thinks you have cardiomyopathy, to confirm the diagnosis. These tests may include

  • Chest X-ray. Images of your heart and lungs is displayed by this test. Also, other conditions can be looked into that might explain your symptoms and to see if you have an enlarged heart.
  • Electrocardiogram (ECG). It is an electrical recording of the signals as they travel through your heart. Evidence of a previous heart attack can be revealed by an ECG. If the signs and symptoms of your atherosclerosis is more evident during exercise, your doctor may ask you to walk on a treadmill or ride a stationary bike during an ECG.
  • Echocardiogram. It is a type of ultrasound examination of your heart to produce images of the heart. These images are seen by the doctor to identify heart attack-related problems, including whether there are areas of your heart not getting enough blood or heart muscle that's been damaged by poor blood flow. Sometimes, an echocardiogram is performed during a stress test.
  • Coronary angiography. Narrowing or blockade in coronary arteries can be revealed by this test. The test involves injecting a liquid dye into the arteries of your heart through a long, thin tube (catheter) that's fed through an artery, usually in your leg, to the arteries in your heart. The arteries become visible on X-ray, as the dye fills your arteries. Any area of blockage can then be revealed.
  • Cardiac computerized tomography (CT) scan. During performance of this test, you lie on a table inside a doughnut-shaped machine. Inside the machine there is an X-ray tube which rotates around your body and collects images of your heart and chest. These images can show if any of your heart's arteries are narrowed or if your heart is enlarged.
  • Cardiac MRI: In this test, the patient is made to lie on a table inside a long tube-like machine that produces a magnetic field. The magnetic field aligns atomic particles in some of your cells. Signals are produced when radio waves are broadcast toward these aligned particles. These signals vary according to the type of tissue they are. The signals create images of your heart.
  • Blood tests. A simple blood test can measure B-type natriuretic peptide (BNP), a protein produced in your heart. Its level increases when your heart is subjected to the stress of heart failure, a common complication of cardiomyopathy.

Many other blood tests, including those to check your kidney function and look for anemia and thyroid problems, might be done. Your doctor may order for checking your iron level. Increased iron in blood may indicate an iron overload disorder called hemochromatosis. Accumulating too much iron in your heart muscle can weaken it and cause cardiomyopathy.

Complications

Other conditions arising due to cardiomyopathy are:

  • Heart failure. In this condition your heart can't pump enough blood to meet your body's needs. The ability of the thickened, stiffened or weakened heart muscle due to cardiomyopathy is reduced for pumping. Heart failure can be life-threatening if left untreated.
  • Blood clots. You're more likely to have blood clots form in your heart if you have cardiomyopathy because your heart can't pump effectively. Blood clots coming out of your heart can enter your bloodstream, and block the blood flow to other organs, including your heart and brain. Blood clots developing on the right side of your heartmay travel to your lungs (pulmonary embolism). Your doctor may prescribe a blood thinner (anticoagulant medication), such as aspirin, clopidogrel or warfarin to reduce your risk.
  • Valve problems. Two of the heart's four valves — the mitral and tricuspid valves — may not close properly because people with dilated cardiomyopathy have an enlarged heart. This can lead to a backward flow of blood. This flow creates sounds called heart murmurs.
  • Cardiac arrest and sudden death. Abnormal heart rhythms can arise out of all forms of cardiomyopathy. Some of them are too slow to keep blood flowing through your heart effectively, and some are too fast to allow the heart to beat properly. These abnormal heart rhythms, in either case, can result in fainting or, in some cases, sudden death if your heart stops beating.

Treatment

The management of cardiomyopathy aims to reduce your signs and symptoms, prevent your condition from worsening, and decrease your risk of complications. Treatment varies by which of the major types of cardiomyopathy you have.

Dilated cardiomyopathy

In this condition, your doctor may recommend medications, surgically implanted devices or a combination of both. The medications you may be prescribed include:

  • Angiotensin-converting enzyme (ACE) inhibitors. These improve your heart's pumping capability.
  • Angiotensin receptor blockers (ARBs). These are for patients who can't take ACE inhibitors.
  • Beta blockers. These improve heart function.
  • Digoxin (Lanoxin). Also called as digitalis, this medication increases the strength of your heart muscle contractions. It also tends to slow the heartbeat.
  • Diuretics. These are the "water pills" that make you urinate more frequently and keep fluid from collecting in your body.

In some cases, a special pacemaker is implanted that coordinates the contractions between the left and right ventricles (biventricular pacing). Drug therapy or an implantable cardioverter-defibrillator (ICD) may be options in people who may be at risk of serious arrhythmias.

Hypertrophic cardiomyopathy

In this condition, your doctor may recommend beta blockers to relax your heart, slow its pumping action and stabilize its rhythm. These medications also calcium channel blockers, such as verapamil. In hypertrophic cardiomyopathy medications are often the preferred treatment. You may need surgery or a medical device to treat your condition if medications don't work. Options include:

Septalmyectomy.It is a type of an open-heart operation in which the surgeon removes part of the thickened, overgrown heart muscle wall (septum) that separates the two bottom heart chambers (ventricles). This removal improves blood flow and reduces mitral regurgitation. Most patients improve with this surgery and have no further symptoms.

Septal ablation.In this treatment, a small portion of the thickened heart muscle is destroyed by injecting alcohol through a catheter into the artery supplying blood to it. There are possible complications with this procedure, including heart block — a disruption of the heart's electrical system — which requires implantation of a pacemaker. Although long-term success of this procedure isn't yet known, it's becoming more commonly used.

Pacemaker implantation.In this procedure, a small electronic device is inserted under your skin that sends electrical signals to your heart to monitor and regulate your heartbeat. This procedure is generally done under local anesthesia and typically takes less than three hours. But, this procedure is not as effective as surgical options, but it's sometimes used in older people who want to avoid more invasive procedures. Implantable cardioverter-defibrillator (ICD).In this procedure, a pager-sized device is implanted in your chest like a pacemaker. This device continuously monitors your heartbeat. In case a life-threatening arrhythmia is detected, the ICD delivers precisely calibrated electrical shocks to restore a normal heart rhythm. In patients at risk of a sudden cardiac death because of abnormal heart rhythms, this device is very useful.

Restrictive cardiomyopathy

The management of this condition aims at improving symptoms. The advice you will receive from doctor will recommend you to pay careful attention to your salt and water intake and monitor your weight daily. Diuretics might be recommended if sodium and water retention becomes a problem. Blood pressure lowering medications also ,may be prescribed to lower your blood pressure and control fast or irregular heart rhythms.

Heart transplant and ventricular assist devices (VADs)

A heart transplant may be an option if you have severe cardiomyopathy and medications can't control your symptoms. Even people who are critically ill may have a long wait before having a heart transplant because of the shortage of donor hearts. A mechanical heart assist device can help In some patients who are critically ill as they wait for an appropriately matched donor. These devices, known as ventricular assist devices (VADs), can help blood circulate through your heart for months or even years.VAD therapy could be a long-term treatment option in some people who aren't candidates for a heart transplant.

Lifestyle measures

Choose the following lifestyle measures to help you manage cardiomyopathy:

  • Quit smoking.
  • Lose excess weight.
  • Eat a low-salt diet.
  • Eliminate or minimize the amount of alcohol you drink.
  • Specific recommendations will depend on the type of cardiomyopathy you have.

Prevention

Generally, you can't prevent cardiomyopathy in many cases. If you have a family history of the condition, consult a doctor. If cardiomyopathy is diagnosed early, treatments may prevent the disease from worsening. Preventing the diseases that cause cardiomyopathy is the best to prevent it. Know your risk factors for coronary artery disease and modify those risks early in life. You can reduce your risk for coronary artery disease by:

  • Having a normal blood pressure. Eat a diet rich in vegetables and fruits. Take medication as needed.
  • Not taking more than two alcoholic beverages per day. Do not drink alcohol at all if you are at high risk of dilated cardiomyopathy. Contact your doctor for evaluation if you have any family members with inherited cardiomyopathy.

External Links/References

कार्डियोमायोपैथी

  • विहंगावलोकन
  • कारणे आणि जोखीम घटक
  • लक्षणे
  • क्लिष्टता
  • चाचण्या आणि निदान
  • उपचार
  • प्रतिबंध

आपल्या हृदयाच्या क्षमतांसह पुरेशा दाबासह रक्त स्पंदन करण्यात हस्तक्षेप करणार्या हृदय स्नायूंचा कोणत्याही आजारास कार्डिओमायोपॅथी असे संबोधतात. कार्डिओमायोपॅथी हळूवार विकसित होते आणि रोगाणूंचा संसर्गाद्वारे उद्भवल्याशिवाय नंतरच्या स्तरापर्यंत कोणतीही लक्षणे उत्पन्न करत नाही. हा एक असामान्य विकार आहे ज्याचे हृदय रोगामुळे होणार्या मृत्यू केवळ 1 टक्का इतके प्रमाण आहे. परंतु, हे तरूण लोकांमध्ये गंभीर हृदय विकाराचे एक अगदी सामान्य कारण आहे. हृदय रोहिणी आजारामुळे प्रौढत्वात कार्डिओमायोपॅथी उद्भवते. उपचारात औषधोपचार,प्रत्यारोपण न केले जाऊ शकणारे उपकरण किंवा गंभीर प्रकरणांमध्ये कार्डिओमायोपॅथी प्रकारानुसार हृदय प्रत्यारोपण समाविष्ट होते. यासह कार्डिओमायोपॅथीचे तीन प्रकार आहेत:

  • विस्फारीत कार्डिओमायोपॅथी-आपल्या हृदयाच्या मुख्य स्पंदन कप्प्याची स्पंदन क्षमता — डावे निलय — अशावेळी कमी दाबयुक्त होतात. कार्डिओमायोपॅथीचा हा अगदी सामान्य प्रकार आहे. डाव्या निलयाची (विस्फारीत) वाढ होते जी प्रभावीरित्या हृदयाबाहेर रक्त स्पंदन करू शकत नाही. हा मध्यमवर्गीय लोकांमध्ये अगदी सामान्य आहे आणि मोठ्या प्रमाणात पुरूषांवर परीणाम करते.
  • हायपरोट्रॉफिक कार्डिओमायोपॅथी -या स्थितीत आपल्या हृदय स्नायूंची असामान्य वाढ किंवा निबिडीकरण होते, विशेषत: आपल्या हृदयाच्या मुख्य स्पंदन कक्षाच्या स्नायूंवर परिणाम होते. यामुळे हृदय कडक होते आणि आपल्या शरीराला रक्त पुरवठा करण्याच्या आपल्या हृदयाच्या क्षमतेत व्यत्यय येऊन स्पंदन कक्षाचा आकार लहान होऊ शकतो. बालपणात हे दिसू लागल्यास ही स्थिती अतिशय गंभीर होते. आजाराचा एक मोठा कौटुंबिक इतिहास आहे आणि काही आनुवांशिक बदल याच्याशी संबद्ध केले आहेत.हायपरोट्रॉफिक कार्डिओमायोपॅथी -या स्थितीत आपल्या हृदय स्नायूंची असामान्य वाढ किंवा निबिडीकरण होते, विशेषत: आपल्या हृदयाच्या मुख्य स्पंदन कक्षाच्या स्नायूंवर परिणाम होते. यामुळे हृदय कडक होते आणि आपल्या शरीराला रक्त पुरवठा करण्याच्या आपल्या हृदयाच्या क्षमतेत व्यत्यय येऊन स्पंदन कक्षाचा आकार लहान होऊ शकतो. बालपणात हे दिसू लागल्यास ही स्थिती अतिशय गंभीर होते. आजाराचा एक मोठा कौटुंबिक इतिहास आहे आणि काही आनुवांशिक बदल याच्याशी संबद्ध केले आहेत.
  • प्रतिबंधात्मक कार्डिओमायोपॅथी -या स्थितीत, हृदय स्नायू ताठर आणि कमी लवचिक होतात. याचा अर्थ असा की हृदय योग्यपणे विस्तारीत होऊ शकत नाही आणि हृदयस्पंदनांदरम्यान रक्त भरू शकत नाही. हा बराचसा उतारवयातील आजार आहे. ही तीनही कार्डिओमायोपॅथींमधील सर्वात दुर्मिळ आहे. ही कोणत्याही ज्ञात नसलेल्या कारणामुळे उद्भवू शकते (अकारण). ही ज्यांचा हृदयावर परिणाम होतो त्या शरीराच्या इतर भागांशी संबद्ध आहे.
Cardiomyopathy-img1

बर्याच प्रकरणात कार्डिओमायोपॅथीची कारणे अज्ञात असतात. तरीही, चिकित्सक काही लोकांमध्ये काही सहभागी घटक शोधण्यास सक्षम असतात. शक्यतोवर कार्डिओमायोपॅथीची ही कारणे असू शकतात:

  • दीर्घकालीन उच्च रक्तदाब
  • हृदय कप्प्याच्या समस्या
  • मागील हृदयविकाराचे झटके
  • जुना जलद हृदय दर
  • थायरॉइड आजार किंवा मधुमेह
  • व्हिटामिन किंवा खनिजांची पोषणात्मक कमतरता, जसे थायमिन (व्हिटामिन B-1), सेलेनियम, कॅल्शियम किंवा मॅग्नेशियम
  • अनेक वर्षांपासून अल्कोहोलचा खूप वापर
  • कोकेन किंवा प्रतिअवसादी औषधांसह मादक द्रव्यांचा गैरवापर, जसे त्रिवलयी प्रतिअवसादी
  • कर्करोगावर उपचार करण्यासाठी रसायनोपचाराची औषधी
  • रोगाणूंचा संसर्ग, जो हृदयास जखमी करू शकतो किंवा कार्डिओमायोपॅथी प्रवर्तित करू शकतो
  • आपल्या हृदय स्नायूंमध्ये लोहाचे अतिप्रमाण (हेमोक्रोमाटोसिस)
  • अनुवांशिक स्थिती

कार्डिओमायोपॅथीच्या लक्षणांमध्ये खूप तफावत आहे.

विस्फारीत कार्डिओमायोपॅथीची संभाव्य लक्षणे:

  • श्वासोच्छवास अडथळा येणे, विशेषता कष्टांदरम्यान
  • थकवा
  • झोपलेले असताना श्वास घेण्यास समस्या
  • थपायाला घाम येणे
  • श्वासोच्छ्वासात अडथळा
  • धडधडणे
  • छातीत दुखणे

हायपरट्रॉफिक कार्डिओमायोपॅथीची लक्षणे सामान्यत: विस्फारीत कार्डिओमायोपॅथीच्या लक्षणांसारखीच असतात. दुर्मिळपणे पहिले लक्षण हे बेशूद्ध पडणे असते किंवा अचानक मृत्यू देखील होतो. यामुळे सहसा व्यायाम करत असताना हृदयविकाराचा झटका येऊ शकतो.

प्रतिबंधित कार्डिओमायोपॅथीच्या संभाव्य लक्षणात पायात किंवा पोटात द्रवाचा संचय होतो. यामुळे कष्टांदरम्यान श्वास लहान होऊ शकतो.

आपल्याला असलेल्या कार्डिओमायोपॅथीच्या प्रकारानुसार, उपचार होत नाही तोपर्यंत चिन्ह आणि लक्षणे वाईटच होत जातात. काही लोकांमध्ये अशाप्रकारे लवकर विकोपास जातात तर इतरांमध्ये कार्डिओमायोपॅथी दीर्घकाळापर्यंत विकोपास नाही.

क्लिष्टता

कार्डिओमायोपॅथीमुळे उद्भवणार्या इतर स्थिती या आहेत:

  • हृदय बंद पडणे. Iया स्थितीत आपले हृदय आपल्या शरीराच्या गरजा पूर्ण करण्यासाठी पुरेसे रक्त स्पंदन करू शकत नाही. कार्डिओमायोपॅथीमुळे घट्ट, कडक किंवा कमकुवत हृदय स्नायूंची स्पंदनाची क्षमता कमी होते. उपचार न करता सोडल्यास हृदय बंद पडणे हे जीवघेणे असू शकते.
  • रक्ताच्या गुठळ्या. आपल्याला कार्डिओमायोपॅथी असल्यास आपल्या हृदयात बर्याचदा रक्ताच्या गुठळ्या तयार होऊ शकतात कारण आपले हृदय व्यवस्थित स्पंदन करत नाही. आपल्या हृदयातून येणार्या रक्ताच्या गुठळ्या आपल्या रक्तप्रवाहात प्रवेश करू शकतात आणि आपण हृदय व मेंदूंसह अवयवांचा रक्तप्रवाह अवरोधित करू शकतात. आपल्या हृदयाच्या उजव्या बाजूस निर्माण होणार्या रक्ताच्या गुठळ्या आपल्या फुप्फुसापर्यंत जाऊ शकतात (फुप्फुसांतर्किलन). आपली जोखीम करण्यासाठी आपले चिकित्सक रक्त विरलक नेमून देऊ शकतात (साकळणरोधी औषधोपचार), जसे एस्पिरीन, क्लॉपायडोग्रेल किंवा जोखीम करण्यासाठी वारफ्रेन.
  • कप्पा समस्या. हृदयाच्या चार कप्प्यांपैकी दोन — द्विदल आणि त्रिदल कप्पे — कदाचित योग्यपणे बंद होऊ शकत नाही कारण विस्फारीत कार्डिमायोपॅथी असलेल्या लोकांचे मोठे झालेले हृदय असते. यामुळे रक्ताचा प्रवाह मागे जाऊ शकतो. या ध्वनीस हृदयाचे मर्मर असे संबोधतात.
  • हृदयासंबंधी बिझाड आणि अचानक मृत्यू. कार्डिओमायोपॅथीच्या सर्व रूपांमुळे असामान्य हृदय आघात होऊ शकतात. त्यापैकी काही आपल्या हृदयात प्रभावीपणे रक्त प्रवाहित ठेवण्यासाठी अतिशय लहान असतात आणि काही हृदय स्पंदने योग्यरित्या होण्यासाठी अतिशय वेगवान असतात. या असामान्य हृदय आघातांचे ,एखाद्या प्रकरणात, बेशुद्ध पडण्यात किंवा काही प्रकरणांमध्ये स्पंदने थांबल्याने अचानक मृत्यूत रूपांतर होऊ शकते.

आपणास यापैकी कोणतीही लक्षणे जाणवत असल्यास लवकरच आपातकालीन वैद्यकीय सल्ला घ्या.

डॉक्टरांच्या एका भेटीत, रूग्णाची शारिरीक चाचणी घेतली जाऊ शकते. वैयक्तिक किंवा कौटुंबिक वैद्यकीय इतिहास घेतला जाईल आणि रूग्णास आढळणार्या लक्षणांबद्दल विचारले जाईल — उदाहरणार्थ, व्यायामामुळे आपली लक्षणे दिसून येतात की नाही. आपल्याला कार्डिओमायोपॅथी आहे असे डॉक्टरांना वाटत असल्यास, निदानाची पुष्ट करण्यासाठी आपल्याला अनेक चाचण्यांमधून जावे लागेल. या चाचण्यांमध्ये यांचा समावेश असू शकतो:

  • छातीची क्ष किरण तपासणी: या चाचणीद्वारे आपल्या हृदय आणि फुप्फुसाच्या प्रतिमा प्रदर्शित केल्या जातात. तसेच आपल्या लक्षणांचे वर्णन करणार्या इतर लक्षणांची पाहणी केली जाईल आणि आपले हृदय मोठे आहे का हे पाहिले जाईल.
  • इलेक्ट्रोकार्डिओग्राम (ECG): ही आपल्या हृदयातून जाणार्या तरंगांची विद्युत नोंदणी असते. मागील हृदय विकाराच्या झटक्याचा पुरावा इसीजी द्वारे उघडकीस आणला जाऊ शकतो. व्यायामादरम्यान आपल्या धमनींचे कठीण होण्याची लक्षणे आणि चिन्हे पुरावा असल्यास, आपले चिकित्सक इसीजी दरम्यान आपल्याला ट्रेडमिल वर चालण्यास किंवा एक स्थिर बाइक चालविण्यास सांगू शकतात.
  • इकोकार्डिओग्राम.: आपल्या हृदयाची प्रतिमा निर्माण करण्यासाठी ही एक प्रकारची अल्ट्रासाऊंड चाचणी असते. आपल्या हृदयाच्या भागांना पुरेसे रक्त मिळते आहे की नाही किंवा कमी रक्त प्रवाहामुळे क्षतिग्रस्त हृदयाचे स्नायू यांसह हृदयविकाराच्या झटक्यासंबंधी समस्या ओळखण्यासाठी डॉक्टरांद्वारे या प्रतिमा पाहिल्या जातात. काहीवेळा, एक इकोकार्डिओग्राम एका तणाव चाचणी दरम्यान प्रदर्शन करतो.
  • हृदयाची एन्जिओग्राफी: या चाचणीद्वारे हृदयरोहिणीमध्ये असलेला संकोच किंवा अडथळा दूर केला जाऊ शकतो. या चाचणीत आपल्या हृदयाच्या धमन्यांमध्ये एक द्रव रंगद्रव्य एका लांब, बारीक नळी (कॅथेटर) द्वारे सोडले जाते जे सहसा आपल्या पायामधील धमनीमधून, आपल्या हृदयाच्या धमनीमध्ये भरले जाते. आपल्या धमन्यांमध्ये जसे रंगद्रव्य भरले जाते तसे धमन्या क्ष-किरणांवर दृश्यमान होतात. अडथळ्याचा कोणताही भाग त्यानंतर प्रकट होतो.
  • हृदयसंबंधी संगणकीय टोमोग्राफी (CT) स्कॅन: या चाचणीच्या कार्यप्रदर्शनादरम्यान, आपण डोनट आकार असलेल्या यंत्राच्या आत टेबलवर झोपतात. यंत्रात एक क्ष किरण नळी असते जी आपल्या शरीराभोवती फिरते आणि आपल्या हृदय आणि छातीच्या प्रतिमा संकलित करते. आपल्या हृदयाच्या धमन्यांपैकी एखादी संकुचित असल्यास किंवा आपले हृदय मोठे झाले असल्यास या प्रतिमा दर्शवू शकतात.
  • हृदयासंबंधी MRI: या चाचणीत, एक चुंबकीय क्षेत्र तयार करण्यासाठी रूग्णास लांब नळीसारख्या एका टेबलावर झोपायला सांगितले जाईल. चुंबकीय क्षेत्र आपल्या काही पेशींमध्ये आण्विक कण संरेखित करते. या संरेखित कणांवर रेडिओ तरंग प्रसारित केले जातात तेव्हा सिग्नल निर्माण होतात. हे सिग्नल कोणत्या प्रकारच्या ऊती आहेत त्यानुसार भिन्न असतात. सिग्नल आपल्या हृदयाच्या प्रतिमा तयार करतात.े.
  • रक्त तपासण्या. एक सामान्य रक्त तपासणी B-प्रकार नॅट्रीयुरेटीक पेप्टाइड (BNP), आपल्या हृदयात निर्माण झालेल्या प्रथिनांची गणना करू शकते. आपले हृदय बंद पडण्याच्या तणावाच्या, कार्डिओमायोपॅथीच्या एका सामान्य क्लिष्टतेच्या अधीन असते तेव्हा त्याचा स्तर वाढतो..

आपल्या किडनीचे कार्य तपासण्यासह आणि पांडूरोग आणि थायरॉइड समस्या बघण्यासह इतर अनेक रक्त तपासण्या केल्या जाऊ शकतात. आपले चिकित्सक आपला लोह स्तर तपासण्याची आज्ञा देऊ शकतात. रक्तात वाढलेले लोह रक्तवर्णकता नामक अतिरीक्त लोह विकार सूचित करू शकते. आपल्या हृदय स्नायूत खूप लोह संचयित झाल्याने त्यास अशक्त करू शकते आणि कार्डिओमायोपॅथी उद्भवू शकते.

उपचार

कार्डिओमायोपॅथीचे व्यवस्थापनाचे आपले चिन्ह आणि लक्षणे कमी करण्याचे, विकोपास जाण्यापासून आपली स्थिती प्रतिबंधित करण्याचे, आणि क्लिष्टतेची आपली जोखीम कमी करण्याचे उद्दिष्ट असते. आपल्याला असलेल्या कार्डिओमायोपॅथीच्या मुख्य प्रकारांवरून उपचारात फरक पडतो.

विस्फारीत कार्डिओमायोपॅथी या स्थितीत, आपले चिकित्सक आपल्याला उपचार, शस्त्रक्रियेने प्रत्यारोपित केलेले आपले उपकरण किंवा दोघांच्या संयोगाची शिफारस करू शकतात. आपल्याला लिहून दिलेल्या उपचारात हे समाविष्ट होते:

  • अँजिओटेन्सिन- कनव्हर्टिंग एन्झायम (ACE) इन्हिबीटर. हे आपली हृदयस्पंदन क्षमता विकसित करतात.
  • अँजिओस्टेन्सिन प्राप्तकर्ता अवरोधक (ARBs). हे ACE इन्हिबीटर घेऊ शकत नाही त्या रूग्णांसाठी आहेत.
  • बेटा ब्लॉकर्स. हे हृदय कार्य विकसित करते.
  • डायग्नोक्सिन (लॅनोक्सिन). यास डिजिटॅलिस असे संबोधतात, हे औषधोपचार आपल्या हृदय स्नायू संकोचनाची शक्ती वाढवितात. यामुळे हृदयस्पंदन देखील मंद होते.
  • डायरेटिक्स. या “पाणेरी गोळ्या” आहेत ज्या आपणास वारंवार लघवी होण्यास मदत करतात आणि आपल्या शरीरात द्रव संकलित करणे सुरू ठेवतात.
  • काही प्रकरणांमध्ये, एक विशेष पेसमेकर प्रत्यारोपित केले जाते जे डाव्या आणि उजव्या निलयांदरम्यान आकुंचन समायोजित करते (द्विनिलय गती). औषध पद्धती किंवा एक प्रत्यारोपणयोग्य कार्डिओव्हर्टर-डिफीब्रायलेटर (ICD) हे गंभीर लयहिनतेचा धोका असणार्या लोकांसाठी पर्याय असू शकतो.

हायपरोट्रॉफिक कार्डिओमायोपॅथी

या स्थितीत, आपले चिकित्सक आपल्याला आपले हृदय शिथिल व्हावे, त्याची स्पंदन क्रिया मंद करावी आणि त्याचे आघात स्थिर करावे म्हणून बीटा ब्लॉकरची शिफारस करू शकतात. हे औषधोपचार कॅल्शियम चॅनेल ब्लॉकर्सदेखील असतात, जसे वेरापमील. हायपरोट्रॉफिक कार्डिओमायोपॅथी औषधोपचार बर्याचदा प्राधान्यित उपचार असतात. औषधोपचार कार्य करत नसतील तर आपली स्थिती हाताळण्यासाठी आपल्याला शस्त्रक्रियेची किंवा वैद्यकीय उपकरणाची आवश्यकता असू शकते. पर्यायांमध्ये हे समाविष्ट होते:

सेप्टालमायेक्टॉमी.हा खुल्या हृदय शस्त्रक्रियेचा प्रकार आहे ज्यात शल्यचिकित्सक जाड झालेल्या, अति वाढलेल्या स्नायू भिंती (सेप्टम) चे भाग काढून टाकतो ज्यात दोन तळ हृदय कप्पे विलग होतात (निलय). ही विलगता रक्त प्रवाह सुधारते आणि मायट्रल प्रत्यावर्तन कमी करते. बरेच रुग्ण या शस्त्रक्रियेतून सुधारतात आणि पुढे कोणतीही लक्षणे उरत नाहीत.

सेप्टल एब्लेशन. या उपचारात, जाड झालेल्या हृदय स्नायू त्यास रक्त पुरवठा करणार्या धमनीमध्ये एक लहान भाग उत्सर्जन नलिकेद्वारे अल्कोहोल अंतक्षेपित करून नष्ट केला जातो. या प्रक्रियेत हृद्य अवरोधनासह काही संभाव्य क्लिष्टता आहेत— हृदयच्या विद्युत प्रणालीत एक उलथापालथ — ज्यात पेसमेकरच्या प्रत्यारोपणाची आवश्यकता असते. तरीही या प्रक्रियेचे दीर्घकालीन यश अजुनही ज्ञात नाही, ही पद्धत अतिशय सामान्यपणे वापरली जाणारी बनत आहे.

पेसमेकर प्रत्यारोपण.या प्रक्रियेत, आपल्या त्वचेखाली एक लहान इलेक्ट्रॉनिक उपकरण टाकला जातो जो आपल्या हृदयाला हृदयस्पंदने नियंत्रित आणि नियमित करण्यास विद्युत सिग्नल पाठवितो. ही प्रक्रिया स्थानिक बदिरीकरणाअंतर्गत केली जाते आणि सहसा तीन तासांहून कमी वेळ घेते. परंतु ही प्रक्रिया एक शस्त्रक्रिया पर्याय म्हणून प्रभावी नाही, पण ही काहीवेळा वयस्कर लोकांमध्ये वापरली जाते जे अधिक आक्रमक प्रक्रिया टाळू इच्छितात.

प्रत्यारोपणयोग्य कार्डिओव्हर्टर-डिफीब्रायलेटर (ICD).या प्रक्रियेत, एक पृष्ठाच्या-आकाराचा पेसमेकर सारखा एक उपकरण आपल्या छातीत प्रत्यारोपित केला जातो. हे उपकरण आपले हृदयस्पंदन सतत नियमित करत असतो. समजा जीवघेणा हृदयाचे स्पंदन अनियमित होणे आढळल्यास सामान्य हृदय लयी पुनर्संचयित करण्यासाठी ICD तंतोतंतपणे अंशित विद्युत झटके देते. असामान्य हृदय लयींमुळे हृदयात बिघाड होऊन अकस्मात मृत्यूची जोखीम असणार्या रूग्णांसाठी हे अतिशय महत्त्वपूर्ण आहे.

प्रतिबंधात्मक कार्डिओमायोपॅथी

या स्थितीचे व्यवस्थापन करण्याचे उद्दिष्ट लक्षणे सुधारित करणे असे आहे. आपल्याला डॉक्टरांकडून प्राप्त केलेल्या सल्ल्यात आपल्याला आपल्याला मीठ आणि पाणी ग्रहणाचे प्रमाण आणि आपले नियमित वजन यावर लक्ष्य केंद्रित करण्याची शिफारस करेल. आपले सोडियम आणि पाणी धारणा एक समस्या झाली असल्यास डायरेटिक्सची शिफारस केली जाऊ शकते. रक्त दाब कमी करणारी औषधे देखील आपला रक्तदाब कमी करण्यासाठी आणि वेगवान आणि अनियमित हृद लयी नियंत्रित करण्यासाठी लिहून दिली जाऊ शकतात.

हृदय प्रत्यारोपण आणि निलय सहाय्य उपकरण (VADs) आपल्याला गंभीर कार्डिओमायोपॅथी असल्यास आणि आपली लक्षणे नियंत्रित केली जाऊ शकत नसल्यास हृदय प्रत्यारोपण एक पर्याय असू शकतो. हृदय दात्यांची कमतरता असल्याने खूप आजारी असलेल्या लोकांनाही हृदय प्रत्यारोपणापूर्वी खूप काळ प्रतीक्षा करावी लागू शकते. एक यांत्रिक सहाय्य उपरकण जे लोक खूप आजारी असून जुळणार्या योग्य दात्याची प्रतीक्षा करत आहेत त्या रूग्णांना सहाय्य करू शकते. हे उपकरण, निलय सहाय्य उपकरण (VADs) म्हणून ओळखले जातात, महिन्यासाठी किंवा अगदी वर्षांसाठी हृदयाद्वारे रक्त प्रवाहित करण्यास मदत करू शकतात.VAD उपचारपद्धती जे एका हृदय प्रत्यारोपणाचे उमेदवार नाहीत त्या काही लोकांमध्ये दीर्घकालीन उपचार पर्याय असू शकतो.

जीवनशैली मापने

आपली कार्डिओमायोपॅथी व्यवस्थापित करण्यास मदत करण्यासाठी खालील जीवनशैली निवडा:

  • एधुम्रपान बंद करा.
  • अतिरिक्त वजन कमी करा.
  • कमी मीठ असलेला आहार घ्या.
  • शारीरिक गतिविधींचा अतिशय योग्य कार्यक्रमाबद्दल आपल्या डॉक्टरांशी चर्चा करून मर्यादापूर्ण व्यायाम करा..
  • अल्कोहल लेना बंद कर दें या उसकी मात्रा कम कर दें.
  • विशिष्ट शिफारसी आपल्या कार्डिओमायोपॅथीच्या प्रकारावर अवलंबून असतील.

प्रतिबंध

सामान्यत:, आपण अनेक प्रकरणांमध्ये कार्डिमायोपॅथी प्रतिबंधित करू शकतात. आपल्या स्थितीचा कौटूंबिक इतिहास असल्यास, डॉक्टरांशी सल्लामसलत करा. कार्डिमायोपॅथीचे लवकर निदान केल्यास, उपचार आजारास वाईट होण्यापासून प्रतिबंधित करू शकते. कार्डिमायोपॅथी होऊ शकते असा आजार प्रतिबंधित करणे उत्तम प्रतिबंधन आहे. हृदय रोहिणी आजारासाठीचे जोखीम घटक जाणून घ्या आणि आपल्या आयुष्यात त्या जोखीमी लवकर सुधारित करा. याद्वारे हृदय रोहिणी आजारासाठी आपण आपली जोखीम कमी करू शकता:

  • सामान्य रक्तदाब असणे. भाज्या आणि फळांमधील उत्कृष्ट आहार घ्या. आवश्यकतेनुसार औषधोपचार घ्या.
  • दररोज दोन अल्कोहोल पेयांपेक्षा अधिक घेऊ नये. आपल्याला विस्फारीत कार्डिमायोपॅथी असल्यास अजिबात अल्कोहोल पिऊ नये.

आपल्या कुटुंबातील एखाद्या सदस्यास अनुवांशिक कार्डिमायोपॅथी असल्यास मुल्यांकनासाठी आपल्या डॉक्टरांशी संपर्क साधा.

कार्डियोमायोपैथी

  • संक्षिप्त विवरण
  • कारण और जोखिम के कारक
  • लक्षण
  • जटिलताएँ
  • टेस्ट और निदान
  • उपचार
  • रोकथाम

हृदय की माँसपेशियों का ऐसा कोई भी रोग जो पर्याप्त शक्ति से रक्त को पंप करने की हृदय की क्षमता में बाधा पहुँचाता है, कार्डियोमायोपैथी कहलाता है. कार्डियोमायोपैथी धीरे-धीरे विकसित होता है और वायरल संक्रमण के कारण होने को छोड़कर, हो सकता है कि भावी अवस्थाओं तक इसमें कोई लक्षण उत्पन्न न हों. यह एक असामान्य विकार है, जो 1 प्रतिशत हृदय रोगों का कारण बनता है. लेकिन यह युवा लोगों में गंभीर हृदय रोग होने के सबसे सामान्य कारणों में से एक है. कोरोनरी आर्टरी रोग वृद्धावस्था में कार्डियोमायोपैथी का कारण बनता है. उपचार में औषधोपचार, प्रत्यारोपण डिवाइस या गंभीर मामलों में, कार्डियोमायोपैथी के प्रकार के आधार पर हृदय प्रत्यारोपण शामिल हो सकता है. निम्न को शामिल करके तीन प्रकार की कार्डियोमायोपैथी हैं:

  • डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी – आपके ह्र्दय के मुख्य पंपिंग चैंबर — बाएँ निलय — की पंप करने की क्षमता इस इकाई में कम प्रभावशाली हो जाती है. यह सबसे सामान्य प्रकार की कार्डियोमायोपैथी है. इसमें बायाँ निलय विस्तारित (डाइलेटेड) हो जाता है, जो रक्त को हृदय से बाहर प्रभावी रूप से पंप नहीं कर पाता है. यह प्रकार मध्य आयु वर्ग के लोगों में सबसे सामान्य है और पुरुषों को प्रभावित करने की इसकी संभावना सबसे अधिक होती है.
  • हाइपरट्रॉफ़िक कार्डियोमायोपैथी –इस दशा में आपके हृदय की माँसपेशी में असामान्य वृद्धि हो जाती है या यह मोटी हो जाती है, जो आपके हृदय के मुख्य पंपिंग चैंबर की माँसपेशी को विशेष रूप से प्रभावित करती है. इससे हृदय सख्त होने लगता है और पंपिंग चैंबर का आकार कम हो सकता है, जिससे आपके शरीर को रक्त प्रदाय करने की आपके हृदय की क्षमता में बाधा उत्पन्न होती है. यदि यह स्थिति बचपन के दौरान प्रकट होती है, तो यह बहुत गंभीर हो जाती है. इस रोग का पुख्ता पारिवारिक इतिहास होता है और इस रोग से कुछ आनुवांशिक बदलाव भी जुड़े होते हैं.
  • रिस्ट्रिक्टिव कार्डियोमायोपैथी – इस दशा में हृदय की माँसपेशियाँ कठोर और कम लचीली हो जाती हैं. इसका अर्थ यह है कि हृदय धड़कनों के बीच समुचित रूप से विस्तारित नहीं होता और भरता नहीं है. यह रोग अधिकांशत: वृद्धावस्था में होता है. यह तीनों प्रकार की कार्डियोमायोपैथी में से सबसे दुर्लभ प्रकार का है. यह किसी भी अज्ञात कारण से हो सकता है (इडियोपैथिक). यह शरीर के अन्य भागों में होने वाले ऐसे रोगों से भी संबद्ध है, जो हृदय को प्रभावित करते हैं.
Cardiomyopathy-img1

अधिकांश मामलों में कार्डियोमायोपैथी का कारण अज्ञात है. हालाँकि, चिकित्सक कुछ लोगों में इसमें योगदान करने वाले कुछ कारकों की पहचान करने में सक्षम हुए हैं. कार्डियोमायोपैथी के संभावित कारणों में निम्न शामिल हैं:

  • दीर्घावधि का उच्च रक्त चाप
  • हृदय के वाल्व संबंधी समस्याएँ
  • पहले हुआ हृदयाघात
  • दीर्घकालिक तीव्र हृदय गति
  • थायरॉइड रोग या डायबिटीज़
  • पोषण संबंधी आवश्यक विटामिन या खनिज तत्वों जैसे थायमिन (विटामिन B-1), सेलेनियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम की कमी
  • अनेक वर्षों तक अल्कोहल का अत्यधिक उपयोग
  • कोकेन या अवसादरोधी औषधोपचार जैसे ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट सहित औषधियों का दुरुपयोग
  • कैंसर के उपचार के लिए कीमोथेरेपी संबंधी औषधियाँ
  • वायरस संबंधी संक्रमण, जो हृदय को क्षति पहुँचा सकते हैं और कार्डियोमायोपैथी को बढ़ावा दे सकते हैं
  • आपके हृदय की माँसपेशियों में आयरन की अधिकता (हीमोक्रोमेटोसिस)
  • आनुवांशिक दशाएँ

कार्डियोमायोपैथी के विविध लक्षण होते हैं.

डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी के संभावित लक्षण:

  • साँस लेने में परेशानी, विशेष रूप से अत्यधिक परिश्रम करने के दौरान
  • थकान
  • लेटने के दौरान साँस लेने में कठिनाई
  • पैरों में सूजन
  • हृदय की धड़कन तेज़ होना
  • सीने में दर्द

हाइपरट्रॉफ़िक कार्डियोमायोपैथी के संभावित लक्षण सामान्यतः वही होते हैं, जो डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी के होते हैं. कभी-कभी शुरुआती लक्षण मूर्च्छित होने का या यहाँ तक कि अचानक मृत्यु होने का हो सकता है. सामान्यतः व्यायाम के दौरान इससे कभी-कभी हृदयाघात भी हो सकता है.

रेस्ट्रिक्टिव कार्डियोमायोपैथी के संभावित लक्षण पैरों में और पेट में द्रव जमा होना है. इस स्थिति के कारण भी साँस लेने में कठिनाई हो सकती है.

आपको हुए कार्डियोमायोपैथी के प्रकार पर ध्यान दिए बिना, इसके लक्षण उपचार न किए जाने पर बिगड़ सकते हैं. लक्षणों का बिगड़ना कुछ लोगों में तेज़ी से होता है, जबकि अन्य व्यक्तियों में हो सकता है, कि कार्डियोमायोपैथी लंबे समय तक न बिगड़े.

कार्डियोमायोपैथी के कारण उत्पन्न होने वाली अन्य दशाएँ इस प्रकार हैं:

  • हार्ट फ़ेल होना. इस दशा में आपका हृदय आपके शरीर की आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए पर्याप्त रक्त पंप नहीं कर सकता है. कार्डियोमायोपैथी के कारण मोटी, सख्त और कमज़ोर हुई हृदय की माँसपेशियों की पंप करने की क्षमता कम हो जाती है. अनुपचारित छोड़ दिए जाने पर हार्ट फ़ेल होना घातक हो सकता है.
  • रक्त के थक्के जमना. यदि आपको कार्डियोमायोपैथी है, तो आपके हृदय में रक्त के थक्के जमने की संभावना अधिक है क्योंकि आपका हृदय प्रभावी रूप से पंप नहीं कर सकता है. आपके हृदय से बाहर आने वाले रक्त के थक्के आपके रक्तप्रवाह में प्रविष्ट हो सकते हैं और ये हृदय और मस्तिष्क सहित अन्य अंगों के रक्तप्रवाह को अवरुद्ध कर सकते हैं. आपके हृदय के दाईं ओर विकसित रक्त के थक्के आपके फ़ेफ़ड़े की ओर (पल्मोनरी एंबॉलिज़्म यानी फ़ेफ़ड़े की मुख्य धमनी में अवरोध) बढ़ सकते हैं. आपका चिकित्सक आपका जोखिम कम करने के लिए आपको रक्त पतला करने वाली कोई औषधि (एंटी-कोएग्युलेंट मेडिकेशन) जैसे एस्प्रिन, क्लॉपिडोग्रिल, या वारफ़ेरिन दे सकता है.
  • वॉल्व की समस्याएँ. हो सकता है, कि हृदय के चार वाल्व में से दो — मिट्रल और ट्राइक्युस्पिड वॉल्व — बंद न हों, क्योंकि डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी में बढ़ा हुआ हृदय होता है. इसके परिणामस्वरूप रक्त का प्रवाह उल्टा हो सकता है. इस प्रवाह से आवाज़ उत्पन्न होती है, जिसे हृदय मर्मरध्वनि कहा जाता है.
  • कार्डिएक अरेस्ट और अचानक मृत्यु. सभी प्रकार की कार्डियोमायोपैथी से हार्ट रिद्म (हृदय के धड़कने की लय) असामान्य हो सकती हैं. इनमें कुछ आपके हृदय के माध्यम से रक्त प्रवाह को प्रभावी रूप से बनाए रखने के लिए बहुत धीमी होती हैं और कुछ हृदय को समुचित रूप से धड़कने देने के लिए बहुत तेज़ होती हैं. हृदय की ये असामान्य रिद्म, अन्य दशा में बेहोशी का कारण बन सकती हैं या कुछ दशाओं में यदि आपका हृदय धड़कना बंद कर दे तो अचानक मृत्यु का कारण बन सकती हैं.

चिकित्सक के आने पर मरीज का शारीरिक परीक्षण किया जाएगा. व्यक्तिगत और पारिवारिक इतिहास लिया जाएगा और मरीज से लक्षण उत्पन्न होने के बारे में पूछा जाएगा — उदाहरण के लिए, क्या लक्षण व्यायाम के कारण सामने आए हैं. यदि आपके चिकित्सक को लगता है कि आपको कार्डियोमायोपैथी है, तो इसके निदान की पुष्टि के लिए आपको विभिन्न टेस्ट करवाने पड़ सकते हैं. इन टेस्ट में यह शामिल हो सकते हैं:

  • सीने का X-रे. इस टेस्ट के द्वारा आपके हृदय और फ़ेफ़ड़ों की छवियाँ प्रदर्शित की जाती हैं. इसके अलावा, अन्य दशाएँ भी देखी जा सकती हैं, जो आपके लक्षणों को स्पष्ट कर सकती हैं और यह भी देखा जा सकता है कि कहीं आपके हृ्दय का आकार बढ़ा तो नहीं है.
  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG). यह आपके हृदय में सिग्नल संचारित होने की स्थिति की इलेक्ट्रिकल रिकॉर्डिंग है. ECG से पिछले हृदयाघात का प्रमाण मिल सकता है. यदि व्यायाम के दौरान आपके एथीरोस्कलेरोसिस के संकेत और लक्षण अधिक प्रकट होते हैं, तो आपका चिकित्सक ECG के दौरान आपसे ट्रेडमिल पर चलने या स्थिर बाइक चलाने के लिए कह सकता है.
  • इकोकार्डियोग्राम. यह हृदय की छवियाँ लेने के लिए आपके हृ्दय के अल्ट्रासाउंड परीक्षण का एक प्रकार है. आपके हृदय के ऐसे क्षेत्र जिन्हें पर्याप्त रक्त नहीं मिल रहा हो या हृदय की ऐसी माँसपेशी जो कम रक्त प्रवाह के कारण क्षतिग्रस्त हो गई हो, इसके साथ ही हृदयाघात-संबंधी समस्याओं की पहचान करने के लिए ये छवियाँ चिकित्सक द्वारा देखी जाती हैं. कभी-कभी इकोकार्डियोग्राम, स्ट्रेस टेस्ट के दौरान किया जाता है.
  • कोरोनरी एंजियोग्राफ़ी. इस टेस्ट से कोरोनरी धमनियों के सँकरी या अवरोधित होने का पता लगाया जा सकता है. इस परीक्षण के तहत लिक्विड डाइ को एक लंबी पतली ट्यूब (कैथेटर) के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों में इंजेक्ट किया जाता है, जो सामान्यतया आपकी टाँग की धमनी के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों तक पहुँचाई जाती है. धमनियाँ एक्स-रे पर दिखाई देने लगती हैं, क्योंकि डाइ आपकी धमनियों में भर जाती है. इसके बाद अवरोध वाले किसी भी क्षेत्र का पता लगाया जा सकता है
  • कार्डिएक कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़्री (CT) स्कैन. इस टेस्ट के दौरान, आपको डॉनट के आकार की मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मशीन के भीतर X-रे टूयब होती है जो आपके शरीर के चारों ओर घूमती है और आपके हृदय और सीने की छवियाँ लेती है. यदि आपके हृदय की कोई धमनी सँकरी हो गई है या आपके हृ्दय का आकार बढ़ गया है तो ये छवियाँ उसे प्रदर्शित कर सकती हैं.
  • कार्डिएक MRI: इस टेस्ट में मरीज़ को मैग्नेटिक फ़ील्ड उत्पन्न करने वाली लंबी ट्यूब जैसी मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता है. मैग्नेटिक फ़ील्ड आपकी कुछ कोशिकाओं में एटॉमिक कण अलाइन कर देता है. जब अलाइन किए गए इन कणों की ओर रेडियो तरंगें ब्रॉडकास्ट होती हैं तो सिग्नल उत्पन्न होते हैं. ये सिग्नल संबंधित ऊतक के प्रकार के अनुसार भिन्न होते हैं. यह सिग्नल आपके हृदय की छवियाँ बनाते हैं..
  • रक्त के टेस्ट. रक्त का सामान्य टेस्ट आपके हृदय में बनने वाले प्रोटीन B-टाइप नैट्रीयूरेटिक पेप्टाइड (BNP) को माप सकता है. आपके हृदय के हार्ट फ़ेल होने का दबाव झेलने के समय इसका स्तर बढ़ जाता है, जो कार्डियोमायोपैथी की एक सामान्य जटिलता है.

आपका किडनी फ़ंक्शन जाँचने और एनीमिया व थायरॉइड संबंधी समस्याएँ देखने के लिए किए जाने वाले टेस्ट के साथ रक्त संबंधी कई अन्य टेस्ट भी किए जा सकते हैं. आपका चिकित्सक आपके आयरन स्तर की जाँच के लिए कह सकता है. रक्त में आयरन का ज्यादा होना, आयरन के सीमा से अधिक होने संबंधी विकार का सूचक हो सकता है, जिसे हीमोक्रोमेटोसिस कहा जाता है. आपके हृदय की माँसपेशी में आयरन का बहुत अधिक जमाव होने से वह कमजोर हो सकती है और यह कार्डियोमायोपैथी का कारण बन सकता है.

कार्डियोमायोपैथी के प्रबंधन का उद्देश्य संकेतों और लक्षणों को कम करना, आपकी हालत को बदतर होने से रोकना और जटिलताओं के जोखिम को कम करना होता है. आपको हुई कार्डियोमायोपैथी के जटिल प्रकार के आधार पर उपचार भिन्न-भिन्न होता है.डायलेटेड कार्डियोमायोपैथी

इस स्थिति में, आपका चिकित्सक औषधोपचार, सर्जरी द्वारा स्थापित किए जाने वाले डिवाइस या इन दोनों के संयोजन की अनुशंसा कर सकता है. आपके नुस्खे में लिखे जाने वाले औषधोपचार में ये शामिल हो सकते हैं:

  • एंजियोटेंसिन-कन्वर्टिंग एंजाइम (ACE) इन्हिबिटर्स. ये आपके हृदय की पंप करने की क्षमता को सुधार देते हैं.
  • एंजियोटेंसिन रिसेप्टर ब्लॉकर्स (ARB): ये उन मरीज़ों के लिए हैं, जो ACE इन्हिबिटर्स नहीं ले सकते.
  • बीटा ब्लॉकर्स. ये हृदय के प्रकार्य को सुधार देते हैं.
  • डाइगॉक्सिन (लेनोक्सिन). इसे डिजिटेलिस भी कहा जाता है, यह औषधोपचार आपके हृदय की माँसपेशियों की संकुचन क्षमता में वृद्धि करता है. यह हृदय की धड़कन को धीमा करने में भी सहायक होता है.
  • डाइयूरेटिक्स. ये "वॉटर पिल्स" हैं, जिनसे आपको अधिक पेशाब आती है और इस प्रकार यह आपके शरीर में फ़्लूड जमा होने से बचाती हैं.
  • कुछ मामलों में, एक विशिष्ट पेसमेकर स्थापित किया जाता है, जो बाएँ और दाएँ निलय के बीच होने वाले संकुचन (बाइवेंट्रिकुलर पेसिंग) में समन्वय स्थापित करता है. ड्रग थेरेपी या इंप्लांटेबल कार्डियोवर्टर डीफ़िब्रिलेटर (ICD) उन लोगों के लिए विकल्प हो सकते हैं, जिनमें गंभीर एरिथमिया (अतालता) होने का जोखिम हो.

हाइपरट्रॉफ़िक कार्डियोमायोपैथी

इस दशा में, आपका चिकित्सक आपके हृदय को शिथिल करने, उसकी पंपिंग क्रिया को धीमा करने और उसकी रिद्म को स्थायी करने के लिए बीटा ब्लॉकर्स की अनुशंसा कर सकता है. इन औषधोपचार में कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स जैसे वीरापेमिल भी शामिल होते हैं. हाइपरट्रॉफ़िक कार्डियोमायोपैथी में उपचार के रूप में अक्सर औषधोपचार को ही प्राथमिकता दी जाती है. यदि औषधोपचार से लाभ नहीं होता है, तो बीमारी के उपचार के लिए आपको सर्जरी या चिकित्सकीय डिवाइस की आवश्यकता पड़ सकती है. विकल्प में ये शामिल हैं:

सेप्टलमायक्टोमी.यह ओपन-हार्ट ऑपरेशन का एक प्रकार है, जिसमें सर्जन हृदय के निचले दो चैंबर (निलयों) को पृथक करने वाली मोटी, अतिवृद्धि वाली हृदय-माँसपेशी की वॉल (सेप्टम) के भाग को निकाल देता है. इसे निकालने से रक्त प्रवाह में सुधार हो जाता है और मिट्रल से उल्टा प्रवाह कम हो जाता है. अधिकांश मरीज़ों में इस सर्जरी से सुधार हो जाता है और उनमें आगे कोई लक्षण नहीं दिखते.

सेप्टल उच्छेदन.इस उपचार में, हृदय की मोटी हो गई माँसपेशी के छोटे से भाग को उसे रक्त सप्लाई करने वाली धमनी में कैथेटर के माध्यम से अल्कोहल इंजेक्ट करके नष्ट कर दिया जाता है. इस कार्यविधि में हृदय अवरोध सहित ये जटिलताएँ संभव हैं — हृदय के इलेक्ट्रिकल सिस्टम का भंग होना — जिसमें पेसमेकर स्थापित करने आवश्यकता होती है. हालाँकि इस कार्यविधि की दीर्घकालीन-सफलता के बारे में अभी तक मालूम नहीं है, फिर भी सामान्य रूप से इसका उपयोग अधिक किया जाने लगा है. पेसमेकर इंप्लांटेशन.इस कार्यविधि में, आपके हृदय की धड़कन को मॉनिटर और नियमित करने के लिए आपकी त्वचा के नीचे एक छोटा इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस इंसर्ट कर दिया जाता है, जो आपके हृदय को इलेक्ट्रिक सिग्नल भेजता है. सामान्य रूप में यह कार्यविधि लोकल एनेस्थीसिया देकर की जाती है और इसमें औसतन तीन घंटे से कम समय लगता है. लेकिन, यह कार्यविधि सर्जरी के विकल्पों जैसी प्रभावी नहीं है, लेकिन इसका उपयोग कभी-कभी उन बुजुर्गों में किया जाता है जो ज्यादा तकलीफदेह कार्यविधियों से बचना चाहते हैं.

इंप्लांटेबल कार्डियोवर्टर डीफ़िब्रिलेटर (ICD).इस कार्यविधि में, पेज़र के आकार का एक डिवाइस आपके सीने में पेसमेकर की तरह स्थापित कर दिया जाता है. यह डिवाइस आपके हृदय की धड़कन को लगातार मॉनिटर करता है. जीवन के लिए खतरनाक एरिथमिया (अतालता) का पता लगने पर, हृदय की सामान्य रिद्म को रीस्टोर करने के लिए ICD विशुद्ध रूप से अंशांकित इलेक्ट्रिक शॉक उत्पन्न करता है. हृदय की असामान्य रिद्म के कारण अचानक कार्डिएक डेथ हो जाने के जोखिम वाले मरीज़ों के लिए यह डिवाइस बहुत ही उपयोगी है.

रिस्ट्रिक्टिव कार्डियोमायोपैथी

इस दशा के प्रबंधन का उद्देश्य लक्षणों में सुधार करना है. चिकित्सक की ओर से मिलने वाली सलाह में आपको नमक व पानी लेने के प्रति सावधानी बरतने और प्रतिदिन अपना वज़न करने की अनुशंसा की जाएगी. यदि सोडियम और पानी का अवरोध समस्या बन जाता है, तो डाइयूरेटिक्स की अनुशंसा की जा सकती है. आपका रक्तचाप कम करने और हृदय की तेज़ या अनियमित रिद्म को नियंत्रित करने के लिए आपके नुस्खे में रक्तचाप कम करने वाला औषधोपचार भी दिया जा सकता है. हृदय प्रत्यारोपण और वेंट्रीकुलर असिस्ट डिवाइसेस (VAD)

यदि आपको गंभीर कार्डियोमायोपैथी है और औषधोपचार आपके लक्षणों को नियंत्रित नहीं कर पा रहे हैं, तो हृदय प्रत्यारोपण एक विकल्प हो सकता है. डोनर हार्ट की कमी के कारण गंभीर रूप से बीमार लोगों को भी हृदय प्रत्यारोपण के लिए लंबे समय तक प्रतीक्षा करनी पड़ सकती है. उपयुक्त मेल खाने वाला डोनर मिलने की प्रतीक्षा कर रहे गंभीर रूप से बीमार कुछ मरीज़ों के लिए मेकेनिकल हार्ट असिस्ट डिवाइस मददगार हो सकता है. वेंट्रीकुलर असिस्ट डिवाइसेस (VAD) के नाम से मशहूर ये डिवाइस, महीनों या वर्षों तक आपके हृदय के माध्यम से रक्त प्रवाह में सहायता कर सकते हैं.VAD थेरेपी कुछ ऐसे लोगों के लिए लंबी-अवधि के उपचार का विकल्प हो सकती है, जो हृदय प्रत्यारोपण के लिए नामित नहीं है.

जीवनशैली के मापदंड

कार्डियोमायोपैथी के प्रबंधन में सहायता के लिए आप जीवनशैली संबंधी निम्न मापदंड चुनें:

  • धूम्रपान छोड़ दें.
  • अतिरिक्त वज़न कम करें.
  • कम नमक वाला आहार लें.
  • अपने चिकित्सक से विमर्श के बाद शारीरिक गतिविधि के सबसे उपयुक्त योजना के रूप में सामान्य व्यायाम करें.
  • अल्कोहल लेना बंद कर दें या उसकी मात्रा कम कर दें.
  • विशिष्ट अनुशंसाएँ आपको हुई कार्डियोमायोपैथी के प्रकार पर निर्भर करेंगी.

सामान्यत: आप कार्डियोमायोपैथी को कई स्थितियों में नहीं रोक सकते हैं. यदि इस दशा का पारिवारिक इतिहास है, तो चिकित्सक से परामर्श लें. यदि कार्डियोमायोपैथी का निदान जल्दी हो जाता है, तो उपचार से इस रोग को बदतर होने से रोका जा सकता है. जिन रोगों के कारण कार्डियोमायोपैथी होती है, उन्हें रोकना ही इसकी रोकथाम का सबसे अच्छा तरीका है. कोरोनरी आर्टरी रोग के जोखिम कारकों के बारे में जानें और उन जोखिमों को जीवन के शुरुआती दौर में ही सुधार लें. आप कोरोनरी आर्टरी रोग के जोखिम को इनके द्वारा कम कर सकते हैं:

  • रक्तचाप सामान्य रख करके. सब्ज़ियों और फलों से भरपूर आहार ले करके. आवश्यकतानुसार औषधोपचार ले करके.
  • अल्कोहल वाले पेय प्रतिदिन दो से अधिक नहीं ले करके. यदि आपको डाइलेटेड कार्डियोमायोपैथी का अत्यधिक जोखिम है तो अल्कोहल का सेवन बिल्कुल भी न करें.

यदि आपके किसी भी पारिवारिक सदस्य को वंशागत कार्डियोमायोपैथी है तो इसके मूल्यांकन के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श लें.

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here