Health Education

Angina Pectoris

  • Overview
  • Causes
  • Symptoms
  • Diagnosis
  • Complications
  • Treatment
  • Medications

Reduced blood flow to heart muscles causes chest pain called as angina pectoris. Angina is a symptom of coronary artery disease. A person may feel pain when insufficient oxygen-rich blood reaches the heart muscle. This reduced blood flow is caused by coronary artery disease. In coronary artery disease, there is an accumulation of plaque inside the coronary blood vessels. The pain associated with angina is typically described as squeezing, pressure, heaviness, tightness or pain in your chest. A common presentation as told by most patients is the feeling that 'someone is standing on their chest'. The usual site of pain in angina is chest, but may also be felt in the shoulders, arms, neck, throat, jaw, or back.

Anginapectoriscan be a recurring problem or a sudden, acute health issue. Although angina is common, it can be hard to distinguish from other types of chest pain. Most common confounding factor is pain or discomfort of indigestion. Seek medical attention immediately if you have unexplained chest pain.

health-img1

Angina can be of the following three types:

  • Stable angina.In this type of angina, the pain is predictable and presents only during exertion or extreme emotional distress. It generally disappears with rest.
  • Unstable angina.This type of angina could be an indication of a heart attack. Unstable angina is angina pain that is different from your regular angina pain or pain that occurs while at rest. The characteristic feature of this type of angina is that it may occur more frequently, more easily at rest, feel more severe, last longer, or come on with minimal activity. In most cases, this type of angina gets relieved with medication. But, it is unstable and may progress to a heart attack. Intensive medical or surgical treatment or a procedure is required for relief.
  • Prinzmetal's angina.Angina occuring at rest is called Prinzmetal's angina. This may occur at rest, when sleeping, or when exposed to cold temperatures. The cause is mostly decreased blood flow to the heart muscle from a spasm of the coronary artery. This type of angina in most people is associated with coronary artery disease. These spasms occur close to the blockage.

Causes

Reduced blood flow to your heart muscles causes angina. Blood is a carrier of oxygen, which your heart muscle needs to survive. In situations where heart muscle isn't getting enough oxygen, it causes a condition called ischemia. Coronary artery disease (CAD) is the most common cause of reduced blood flow to your heart muscles. The arteries of the heart (coronary arteries) can become narrowed by fatty deposits called plaques. This is called atherosclerosis.

Angina due to reduced blood flow is a supply problem, wherein the heart is not getting enough oxygen-rich blood. It might be interesting to note that a person may not always have angina if the heart arteries are narrowed due to fatty buildup. The reason is that during times of low oxygen demand — when you're resting, for example — your heart muscle may be able to get by on the reduced amount of blood flow without triggering angina symptoms. When the demand for oxygen suddenly increases, like when you exercise, this can cause angina.

A positive family history of CAD or stroke indicates increased risk to develop unstable angina than in people whose families do not have these conditions. Other risks for unstable angina are related to lifestyle, including:

  • Smoking
  • High cholesterol
  • Sedentary lifestyle
  • High blood pressure
  • Eating a high-fat, high-cholesterol diet
  • Having diabetes
  • Being more than 30 percent overweight
  • Using cocaine or other recreational drugs

Symptoms

Symptoms of angina include:

  • Chest pain or discomfort
  • Pain in your arms, neck, jaw, shoulder or back accompanying chest pain
  • Nausea
  • Fatigue
  • Shortness of breath
  • Anxiety
  • Sweating
  • Dizziness

The typical features of chest pain and discomfort common with angina are a felling of pressure, squeezing, fullness or pain in the center of your chest. The feeling experienced by some people is of as if someone is squeezing their chest, or feeling like a heavy weight has been placed on their chest.

There are variations in the severity, duration and type of angina. In case somebody has a new or changing chest pain, immediate medical attention should be sought. New or different symptoms may signal a more dangerous form of angina (unstable angina) or a heart attack.

Most common form of angina is stable angina. It typically occurs with exertion and goes away with rest. When somebody previously healthy experiences a new onset chest pain, it's important to see the doctor to find out what's causing the chest pain and to get proper treatment. If your stable angina gets worse or changes, seek medical attention immediately.

Characteristics of stable angina

  • Pain appears when your heart works harder, such as when you exercise or climb stairs
  • A predictable angina and the pain is usually similar to previous types of chest pain you've had
  • Duration is short, perhaps five minutes or less
  • Disappears sooner if you rest or use your angina medication
  • Could feel like indigestion
  • Might spread to your arms, back or other areas
  • Can be triggered by mental or emotional stress

Characteristics of unstable angina (a medical emergency)

  • May occurs even at rest
  • Is a deviation from usual pattern of angina
  • Comes unexpectedly
  • Severity is high and lasts longer than stable angina, maybe as long as 30 minutes
  • May not disappear with rest or use of angina medication
  • Might signal a heart attack

Characteristics of variant angina (Prinzmetal's angina)

  • Occurs during rest
  • Is often severe
  • Relieved by angina medication
  • It is rare — only about 2 percent of angina cases are Prinzmetal's angina. This type of angina is caused by a spasm in your heart's arteries that temporarily reduces blood flow.

Angina in women

Symptoms of angina in women can be different from the classic angina symptoms. For example, a woman may have chest pain that feels like a stabbing, pulsating or sharp form of chest pain rather than the more typical vise-like pressure. Associated symptoms like nausea, shortness of breath or abdominal pain are more common in women. These differences may lead to delays in seeking treatment.

Diagnosis

To diagnose angina, your doctor will start by doing a physical examination and asking about your symptoms. You'll also be asked about any risk factors, including whether you have a family history of heart disease.

There are several tests your doctor may order to help confirm whether you have angina:

  • Electrocardiogram (ECG). It is an electrical recording of the signals as they travel through your heart. Evidence of a previous heart attack can be revealed by an ECG. If the signs and symptoms of your atherosclerosis is more evident during exercise, your doctor may ask you to walk on a treadmill or ride a stationary bike during an ECG.
  • Stress test. Stress test is also an exercise stress test. IT is used to gather information about how well your heart works during physical activity. By doing exercise on bike or treadmill your heart pump harder and faster than it does during most daily activities. Testing of the heart during and after exercise can reveal problems within your heart that might not be noticeable otherwise. The procedure usually involves walking on a treadmill or riding a stationary bike while your heart rhythm and blood pressure and breathing are monitored. In some types of stress tests, pictures will be taken of your heart, such as during a stress echocardiogram (ultrasound) or nuclear stress test. In patients who are unable to exercise due to some or other reason, a medication that mimics the effect of exercise on heart is used to make it pump harder.
  • Chest X-ray. Images of your heart and lungs is displayed by this test. Also, other conditions can be looked into that might explain your symptoms and to see if you have an enlarged heart.
  • Echocardiogram. It is a type of ultrasound examination of your heart to produce images of the heart. These images are seen by the doctor to identify angina-related problems, including whether there are areas of your heart not getting enough blood or heart muscle that's been damaged by poor blood flow. Sometimes, an echocardiogram is performed during a stress test.
  • Nuclear stress test. This test is performed to assess blood flow to your heart muscle at rest and during stress. It is similar to a routine stress test but uses a radioactive substance.
  • Coronary angiography. Narrowing or blockade in coronary arteries can be revealed by this test. The test involves injecting a liquid dye into the arteries of your heart through a long, thin tube (catheter) that's fed through an artery, usually in your leg, to the arteries in your heart. The arteries become visible on X-ray, as the dye fills your arteries. Any area of blockage can then be revealed.
  • Blood tests. Blood is tested for elevation of certain heart enzymes that slowly leak out into your blood if your heart has been damaged by a heart attack.
  • Cardiac computerized tomography (CT) scans. During performance of this test, you lie on a table inside a doughnut-shaped machine. Inside the machine there is an X-ray tube which rotates around your body and collects images of your heart and chest. These images can show if any of your heart's arteries are narrowed or if your heart is enlarged.

Complications

Heart attack is the most dangerous complication to be concerned about with angina. Common symptoms of a heart attack include:

  • Pressure, fullness or a squeezing pain in the center of your chest that lasts for more than a few minutes
  • Pain extending beyond your chest to your shoulder, arm, back, or even to your teeth and jaw
  • Increasing episodes of chest pain
  • Prolonged pain in the upper abdomen
  • Shortness of breath
  • Sweating
  • Impending sense of doom
  • Fainting
  • Nausea and vomiting

Seek emergency medical consultation if you have any of these symptoms.

Treatment

Angina treatment options are many, including lifestyle changes, medications, angioplasty and stenting, or coronary bypass surgery. Treatment aims to reduce the frequency and severity of your symptoms and to lower your risk of heart attack and death.

Lifestyle changes

  • Stop smoking.
  • Exercise most days of the week.
  • Eat healthy foods.
  • Avoid large meals.
  • Lose extra pounds and maintain a healthy weight.
  • Manage stress.
  • If you have high cholesterol, high blood pressure, diabetes or another chronic disease, work with your doctor to manage the condition and promote overall health.
  • Pace yourself and take breaks as angina is often brought on by exertion.

Medications

Medications are required if lifestyle changes alone don't help your angina. Medications may include:

  • Aspirin. It reduces the ability of your blood to clot, making it easier for blood to flow through narrowed heart arteries.
  • Nitrates. This class of drugs relaxes and widens your blood vessels, which allows more blood to flow to your heart muscle. Angina related chest discomfort gets relieved with taking a nitrate tablet under the tongue.
  • Beta blockers. These drugs block the effects of the hormone epinephrine, and slow down the heart beats, thereby reducing blood pressure. Beta
  • Statins. These drugs are used to lower cholesterol.
  • Calcium channel blockers. These drugs relax and widen blood vessels by affecting the muscle cells in the arterial walls.
  • Angiotensin-converting enzyme (ACE) inhibitors. These drugs are also used to relax blood vessels.
  • Ranolazine. This drug used alone or with other angina medications, works specifically to treat angina.

Medical procedures and surgery

  • Angioplasty and stenting. These are used when unstable angina or lifestyle changes and medications don't effectively treat your chronic, stable angina.
  • Coronary artery bypass surgery. This is recommended in patients with several blockades or in instances where the blockade is in a position that cannot be treated by stenting. It is a major surgery on heart arteries and involves creating a graft bypass using a vessel from another part of your body or a tube made of synthetic fabric. With this procedure, blood flow is maintained around the blocked or narrowed artery.

Prevention

Lifestyle changes can help you prevent angina. These include:

  • Stop smoking.
  • Exercise most days of the week.
  • Eat healthy foods.
  • Lose extra pounds and maintain a healthy weight.
  • Manage stress.
  • If you have high cholesterol, high blood pressure, diabetes or another chronic disease, work with your doctor to manage the condition and promote overall health.

References/External links

छातीतील वेदना / हृदय शूळ

  • विहंगावलोकन
  • कारणे
  • लक्षणे
  • क्लिष्टता
  • निदान
  • उपचार
  • प्रतिबंध

हृदयाच्या स्नायूंना रक्त प्रवाह कमी झाल्याने छातीत झालेल्या वेदनांना हृदय शूळ म्हणतात. रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणारा रोग हृदय धमनीच्या आजाराचे लक्षण आहे. अपर्याप्त ऑक्सिजन-युक्त रक्त हृदय स्नायूंपर्यंत पोहचते तेव्हा व्यक्तीस त्रास होऊ शकतो. हा कमी रक्त प्रवाह हृदय रोहिणीच्या आजारामुळे उद्भवतो. हृदय रोहिणी आजारात, रोहिणी रक्तवाहिन्यांमध्ये किटणाचा संचय असतो. रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणार्या रोगाशी संबद्ध वेदनांचे पिळण, दाब, जडपणा, घट्टपणा किंवा छातीत वेदनांच्या रूपात वर्णन केले जाऊ शकते. अनेक रूग्णांद्वारे सांगितले जाणारे सामान्य सादरीकरण म्हणजे की 'कुणीतरी त्यांच्या छातीवर उभे आहे' असे वाटणे. रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणार्या रोगात सहसा वेदना होणारा भाग म्हणजे छाती, परंतु खांदे, बाहू, मान, घसा, जबडा किंवा पाठीमध्येही जाणवू शकते.

हृदय शूळ पुन्हा होणारी किंवा अचानक होणारी, अल्पकालिक आरोग्य समस्या असू शकते. तरीही रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणारा रोग सामान्य आहे, त्याचे छातीच्या इतर वेदनांपेक्षा वेगळे वर्णन करणे कठीण आहे. सर्वाधिक सामान्यपणे आढळणारा संमिश्र घटक म्हणजे वेदना किंवा अपचनाची अस्वस्थता. आपल्याला अवर्णनीय छातीतील वेदना असल्यास लवकरच वैद्यकीय सहाय्य शोधा.

health-img1

रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणारा रोग खालील तीन प्रकारांमध्ये असू शकते:

  • स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग.या प्रकारच्या रक्तवाहिनी आकुंचन रोगात, वेदना अंदाजयोग्य असतात आणि केवळ कष्टांदरम्यान किंवा अतिशय भावनिक क्लेशात त्या दिसतात. त्या सामान्यत: आरामाने नाहीशा होतात.
  • अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग. या प्रकारचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग म्हणजे हृदयविकाराच्या झटक्याची सूचना असू शकते. अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग हा आपल्या नियमित दाब दिलेल्या अनुभवाच्या वेदनेपेक्षा किंवा आराम करत असताना उद्भवणार्या वेदनांपेक्षा भिन्न वेदनांचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग आहे. या प्रकारच्या रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाचे गुणवैशिष्ट्य असे आहे की हा रोग अधिक वारंवार उद्भवू शकतो, आराम करत असताना सहज होऊ शकतो, अधिक गंभीर वाटू शकतो, खूप काळ टिकू शकतो किंवा लहानसहान गतिविधींमुळे होऊ शकतो. बर्याच प्रकरणांमध्ये, या प्रकारचा रक्तवाहिनी आकुंचन उपचारांसह बरा होतो. परंतु, तो अस्थिर आहे आणि त्याचे हृदयविकाराच्या झटक्यातही रूपांतर होऊ शकते. आरामासाठी सखोल वैद्यकिय किंवा शस्त्रक्रिया उपचार आवश्यक आहेत.
  • प्रिंझमेटलचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग.आराम करत असताना उद्भवणार्या रक्तवाहिनी आकुंचन रोगास प्रिंझमेटलचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग म्हणतात. हा आरामादरम्यान, झोपत असताना किंवा थंड तापमानात असताना उद्भवतो. हृदय रोहिणीच्या संकोचातून हृदय स्नायूंना कमी रक्त प्रवाह हे बर्याचदा कारण असते. बर्याच लोकांमध्ये या प्रकारचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग हृदय रोहिणी आजाराशी संबद्ध असतो. हे संकोच अडथळ्यांजवळ होतात.

कारणे

आपल्या हृदय स्नायूंना कमी झालेला रक्तप्रवाहाने रक्तवाहिनी आकुंचन रोग होतो. रक्त हे ऑक्सिजन वाहक आहे, जे जगण्यासाठी आपल्या हृदय स्नायूंना आवश्यक असते. हृदय स्नायूंना पुरेसा ऑक्सिजन मिळत नाही त्यावेळी एक स्थिती उद्भवते ज्यास इस्केमिया असे म्हणतात. हृदय रोहिणी आजार (CAD) आपल्या हृदय स्नायूंना कमी झालेल्या रक्त प्रवाहाचे अगदी सामान्य कारण आहे. हृदयाच्या धमन्या (हृदय रोहिणी) किटण नामक मेद पदार्थांनी संकुचित होऊ शकतात. यास धमन्या कठीण होणे असे म्हणतात.

कमी रक्त प्रवाहामुळे होणारा रक्तवाहिनी आकुंचन ही एक पुरवठा समस्या आहे, ज्यात हृदयास पुरेसे ऑक्सिजन-युक्त रक्त प्राप्त होत नाही. हे लक्षात घेणे स्वारस्यपूर्ण आहे की एखाद्या व्यक्तीच्या हृदय रोहिणी मेदयुक्त निर्मितीमुळे आकुंचित असल्यास नेहमीच रक्तवाहिनी आकुंचन रोग असू शकत नाही. कारण असे आहे की कमी ऑक्सिजन मागण्यांच्या वेळांदरम्यान — आपण आराम करत असतात तेव्हा, उदाहरणार्थ — आपले हृदय स्नायू रक्तवाहिनी आकुंचन रोग प्रवर्तित न करता कमी रक्त प्रवाहावर तरण्यास सक्षम असू शकतात. ऑक्सिजनची मागणी अचानक वाढते तेव्हा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग होऊ शकतो, जसे जेव्हा आपण व्यायाम करतात तेव्हा.

CAD किंवा झटक्याचा सक्रिय कुटुंब इतिहास ज्या लोकांच्या कुटुंबात अशा स्थिती नसतात त्यांच्या तुलनेत अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन विकसित होण्याचा वाढलेला धोका दर्शवितो. अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाचे इतर धोके जीवनशैलीशी संबंधित असतात, ज्यात हे समाविष्ट होते:

  • धूम्रपान
  • उच्च कोलेस्टेरॉल
  • बैठी जीवनशैली
  • उच्च रक्त दाब
  • जास्त-मेद, उच्च-कोलेस्टेरॉलयुक्त आहार घेणे
  • डायबेटीज असणे
  • 30 टक्क्यांपेक्षा जास्त वजन असणे
  • कोकेन किंवा इतर मनोरंजनात्मक ड्रग वापरणे

लक्षणे

रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाच्या लक्षणांमध्ये हे समाविष्ट होते:

  • धछातीत वेदना किंवा अस्वस्थता
  • आपल्या बाहू, मान, जबडा, खांदे किंवा पाठ व छातीत आनुषांगिक वेदना
  • मळमळ होणे
  • थकवा
  • श्वासोच्छ्वासात अडथळा
  • तीव्र चिंता
  • घाम येणे
  • भोवळ येणे

छातीतील वेदना आणि अस्वस्थतेचे पारंपारिक वैशिष्ट्य रक्तवाहिनी आकुंचन रोगासारखे रक्तदाब कमी होणे, पिळण, पूर्णता किंवा आपल्या छातीत मध्यभागात वेदना असे आहेत. काही लोकांनी घेतलेला अनुभव असा आहे की जसे कुणीतरी त्यांची छाती दाबत आहे किंवा त्यांच्या छातीवर कुणीतरी जास्त वजन ठेवलेले असल्यासारखे वाटत आहे.

गंभीरता, कालावधी आणि रक्त वाहिन्यांमध्ये रक्तवाहिनी आकुंचनाने होणार्या रोगात तफावती आहेत. समजा एखाद्यास एक नवीन आणि बदलते छातीचे दुखणे आहे तर तात्काळ वैद्यकीय दक्षता घेणे आवश्यक आहे. एक किंवा अधिक नवीन किंवा भिन्न लक्षणे रक्तवाहिनीच्या आकुंचनामुळे उत्पन्न होणारा रोग (अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग) किंवा हृदयविकाराच्या झटक्याचे अधिक धोकेदायक रूप असू शकते.

स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाचे अगदी सामान्य रूप आहे. हा सहसा कष्टांमुळे उद्भवतो आणि आरामासह बरा होत जातो. पूर्वी स्वास्थ्यपूर्ण असणारे कुणीही एक नव्यानेच छातीत वेदना अनुभवत असल्यास छातीत वेदना कशामुळे होत आहेत हे शोधण्यासाठी आणि योग्य उपचार करण्यासाठी चिकित्सक शोधणे आवश्यक आहे. आपला स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग अधिक वाईट होत असल्यास किंवा बदलत असल्यास, लवकरच वैद्यकिय लक्ष वेधून घ्या.

स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाची लक्षणे

  • आपले हृदय अधिक कठीणपणे कार्य करत असल्यास वेदना होतात, जसे आपण व्यायाम करता किंवा पायर्या चढता तेव्हा
  • अंदाजयोग्य रक्तवाहिनी आकुंचन रोग आणि वेदना आपल्याला झालेल्या वेदनांसारख्याच असल्यास
  • कालावधी लहान आहे, तरीही पाच मिनिटे किंवा कमी असल्यास
  • आपण आराम केल्यास किंवा आपले रक्तवाहिनी आकुंचन रोग उपचार वापरल्यास लवकरच नाहीसे होते
  • अपचनासारखे वाटू शकते
  • आपल्या बाहूंमध्ये, पाठीत किंवा इतर क्षेत्रात पसरू शकतो
  • मानसिक किंवा भावनिक तणावाद्वारे प्रवर्तित केले जाऊ शकते

अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाची वैशिष्ट्ये (एक वैद्यकीय तातडी)

  • आरामाच्या वेळीही उद्भवू शकते
  • रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाच्या नियमित पॅटर्नमधून एक अपगम आहे
  • अनपेक्षितपणे येते
  • गंभीरता उच्च आहे आणि स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगापेक्षा अधिक काळ टिकते, कदाचित 30 मिनिटांपर्यंत
  • कदाचित आरामाने किंवा रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाच्या औषधोपचाराच्या वापराने जात नाही
  • कदाचित हृदयविकाराच्या झटक्याचा इशारा देऊ शकते

विविध रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाची वैशिष्ट्ये (प्रिंझमेटलचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग)

  • आरामादरम्यान उद्भवतो
  • तो नेहमीच गंभीर असतो
  • रक्तवाहिनी आकुंचन रोग औषधोपचारांनी बरा होतो
  • हे दुर्मिळ आहे — रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाच्या केवळ 2 टक्के प्रकरणे प्रिंझमेटल रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाची आहेत. याप्रकारचा रक्तवाहिनी आकुंचन रोग आपल्या हृदय रोहिणीतील अडथळ्यांद्वारे होतो जो तात्पुरता रक्तप्रवाह कमी करतो.

महिलांमधील रक्तवाहिनी आकुंचन रोग

महिलांमधील रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाची लक्षणे पारंपारिक रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाच्या लक्षणांपेक्षा भिन्न असू शकतात. उदाहरणार्थ, एखाद्या महिलेस नियमित जाणवणार्या दाबापेक्षा भोसकल्याप्रमाणे, धडधडल्याप्रमाणे छातीत वेदना किंवा छातीच्या वेदनेचे तीव्र रूप असू शकते. महिलांमध्ये मळमळ, श्वासाची कमतरता किंवा उदरात वेदनांसारखी संबद्ध लक्षणे अतिशय सामान्य असतात. हे फरक उपचार घेण्यात विलंब केल्याने होऊ शकतात.

क्लिष्टता

हृदयविकाराचा झटका रक्तवाहिनी आकुंचनाशी संबंधित सर्वात धोकेदायक क्लिष्टता आहे. हृदयविकाराच्या झटक्याची ही सामान्य लक्षणे आहेत:

  • छातीत दाब, पूर्णता किंवा पिळणाची वेदना जी काही मिनिटांपेक्षा अधिक वेळ राहते
  • आपल्या छातीपासून खांदे, बाहू, पाठ किंवा अगदी आपल्या दात किंवा जबड्यापर्यंत वाढणारी वेदना
  • छातीतील वेदनांचे वाढते भाग
  • उदराच्या वरच्या भागात दीर्घकाळ वेदना
  • श्वासोच्छ्वासात अडथळा
  • घाम येणे
  • आगामी नाशाची जाणीव
  • बेशुद्ध पडणे
  • मळमळ आणि उलट्या

आपणास यापैकी कोणतीही लक्षणे जाणवत असल्यास लवकरच आपातकालीन वैद्यकीय सल्ला घ्या.

निदान

रक्तवाहिनी आकुंचन रोगाचे निदान करण्यासाठी, आपले चिकित्सक एक शारीरिक परिक्षण करून आणि आपल्याला लक्षणांबद्दल विचारून प्रारंभ करतील. आपल्याला आपल्याला कौटुंबिक हृदयविकार आजाराचा इतिहास आहे का यासह कोणत्याही जोखीम घटकांबद्दल विचारले जाईल.

आपल्याला रक्त वाहिनी आकुंचन रोग आहे की नाही याची पुष्टी करण्याच्या सहायत्तेसाठी आपले चिकित्सक आदेश देऊ शकता अशा असंख्य चाचण्या आहेत:

  • हृदस्पंदालेख (ECG). हे आपल्या हृदयातून जाणारे संकेतांचे एक विद्युत रेकॉर्डिंग आहे. मागील हृदयविकाराच्या झटक्याचे पुरावे ECG द्वारे प्रकट केले जातात. व्यायाम करताना आपल्या धमन्या कठीण होण्याची चिन्हे आणि लक्षणे अधिक पुरावाजन्य असल्यास, आपले चिकित्सक आपल्याला ट्रेडमिलवर चालण्याची किंवा ECG दरम्यान स्टेशनरी दुचाकी चालविण्यास सांगू शकतात.
  • तणाव चाचणी. तणाव चाचणी देखील एक व्यायाम तणाव चाचणी आहे. आपल्या शारीरिक गतिविधींदरम्यान आपले हृदय किती चांगल्याप्रकारे कार्य करते याबद्दल आयटी माहिती संकलित करत असते. ट्रेडमिलवर व्यायाम करून आपले हृदय जास्तीत जास्त दैनंदिन गतिविधींदरम्यान धडधडते त्यापेक्षा अधिक कठोरपणे आणि वेगाने धडधडते. व्यायामादरम्यान आणि नंतर हृदयाची चाचणी आपल्या हृदयातील समस्या प्रकट करू शकते ज्या इतरवेळी लक्षात येणे शक्य नसते. या प्रक्रियेत सहसा ट्रेडमिलवर चालणे किंवा स्टेशनरी दुचाकी चालविणे समाविष्ट होते ज्यात हृदयस्पंदन आणि रक्त प्रवाह व श्वासोश्वासाचे निरीक्षण केले जाते. काही प्रकारच्या तणाव चाचण्यांमद्ये, आपल्या हृदयाची चित्रे घेतली जातील, जसे तणाव इकोकार्डिओग्राम (अल्ट्रासाऊंड) किंवा अणुकेंद्रिय तणाव चाचणी. काही कारणाने किंवा अन्य कारणाने व्यायाम करण्यास अक्षम असणार्या रूग्णांमध्ये, व्यायाम करून हृदयाची स्पंदने कठीण करण्याचा परीणाम करतात ती औषधे वापरली जातात.
  • छातीचा क्ष-किरण. या चाचणीद्वारे आपल्या हृदय आणि फुफुत्साच्या प्रतिमा दर्शविल्या जातात. तसेच, आपल्या लक्षणांचे वर्णन करू शकतात त्या इतर स्थिती आणि आपले मोठे हृदय आहे की नाही हे देखील पाहिले जाऊ शकते.
  • इकोकार्डिओग्राम. हृदयाची प्रतिमा निर्माण करण्यासाठी हे आपल्या हृदयाच्या अल्ट्रासाऊंड चाचणीचा प्रकार आहे. आपल्या हृदयाच्या क्षेत्रांना पुरेसा रक्त पुरवठा होतो आहे की नाही किंवा कमकुवत रक्त प्रवाहामुळे हानी झालेले हृदय स्नायू यासह रक्तवाहिनी आकुंचन रोग-संबंधित समस्या ओळखण्यासाठी डॉक्टरांनी प्रतिमा पाहिल्या. काहीवेळा, एक इकोकार्डिओग्राम तणाव चाचणी दरम्यान कार्यप्रदर्शन करते.
  • अणुकेंद्रिय तणाव चाचणी. आराम आणि तणावादरम्यान आपल्या हृदय स्नायुंचा रक्त प्रवाह जाणण्यासाठी ही चाचणी घेतली जाते. ती नियमित तणाव चाचणी समान आहे परंतु एक रेडिओसक्रिय पदार्थ वापरते.
  • हृदयाची अँजिओग्राफी. चाचणीद्वारे हृदयरोहिणीमधील संकोच किंवा अडथळे प्रकट होतात. चाचणी लांब बारीक नळीद्वारे आपल्या हृदयाच्या धमन्यांमध्ये द्रव रंगद्रव्य टोचणे समाविष्ट करते जे धमनीद्वारे आपल्या पायात ते आपल्या हृदयाच्या धमन्यांमध्ये पसरते. आपल्या धमन्यांमध्ये रंगद्रव्य भरल्याने धमन्या क्ष-किरणात दृश्यमान होतात. अडथळ्याच्या कोणताही भाग त्यानंतर प्रकट होतो.
  • रक्त तपासण्या. आपल्या हृदयाचे हृदयविकारामुळे नुकसान झालेले असल्यास काही हृदय एन्झाइम जे आपल्या रक्तात हळूवारपणे येतात त्यांना काढण्यासाठी रक्त तपासणी केली जाते.
  • हृदयसंबंधी संगणकीय टोमोग्राफी (CT) स्कॅन. या चाचणीच्या कार्यप्रदर्शनादरम्यान, आपण डोनट आकार असलेल्या यंत्राच्या आत टेबलवर झोपतात. यंत्रात एक क्ष किरण नळी असतेजी आपल्या शरीराभोवती फिरते आणि आपल्या हृदय आणि छातीच्या प्रतिमा संकलित करते. आपल्या हृदयाच्या धमन्यांपैकी संकुचित असल्यास किंवा आपले हृदय मोठे झाले असल्यास या प्रतिमा दर्शविल्या जाऊ शकतात.

रक्ताच्या गुठळ्या होणे ही मोठ्या धमनीच्या विस्फारणाची दुसरी क्लिष्टता आहे. रक्ताच्या लहान गुठळ्या पोटाच्या मोठ्या धमनीच्या विस्फारणाच्या क्षेत्रात होऊ शकतात. धमनी विस्फारणेच्या भिंतीमधून तुटणारी सैल गुठळी रक्त वाहिनीस शरीरात कुठेही अवरोधित करू शकते ज्यामुळे पाय, टाचा, मूत्रपिंड किंवा पोटातील अवयवामध्ये वेदना होऊ शकतात किंवा त्यामधील रक्तप्रवाह अवरोधित होऊ शकतो.

उपचार

जीवनशैली बदल, औषधोपचार, अँजिओप्लास्टी आणि स्टेंटिंग किंवा धमन्यांची बायपास शस्त्रक्रिया यांसह रक्तवाहिनी आकुंचन रोग पर्याय भरपूर आहेत. उपचारांचे लक्ष्य आपल्या लक्षणांची वारंवारता आणि गंभीरता कमी करणे आणि आपली हृदयविकाराच्या झटक्याची आणि मृत्यूची जोखीम कमी करणे हे आहे.

जीवनशैलीत बदल

  • धुम्रपान बंद करा.
  • आठवड्याच्या जास्तीत जास्त दिवसांमध्ये व्यायाम करा.
  • आरोग्यदायी अन्न खा.
  • जास्त आहार टाळा.
  • अतिरीक्त पांऊंड वजन कमी करा आणि स्वास्थ्यपूर्ण वजन कायम ठेवा.
  • तणावाचे व्यवस्थापन करा.
  • आपल्याला उच्च कोलेस्टरोल, उच्च रक्त दाब, मधूमेह किंवा इतर जुना आजार असल्यास स्थिती व्यस्थापित करण्यासाठी आणि एकुणच संपूर्ण स्वास्थ्य जपण्यासाठी आपल्या डॉक्टरांसह कार्य करा.
  • आपली गति नियंत्रित करा आणि नेहमीच तणावाने रक्तवाहिनी आकुंचन रोग होतो त्यामुळे विश्रांती घेत रहा.

औषधोपचार

केवळ जीवनशैलीतील बदल आपल्या रक्तवाहिनी आकुंचन रोगास बदलू शखत नसल्याने औषधोपचार देखील आवश्यक आहेत. औषधोपचारामध्ये हे समाविष्ट होते:

  • एँस्पिरीन. ही आपले रक्त गाठविण्याची क्षमता कमी करते,आणि आपल्या आकुंचित हृदय रोहिण्यांद्वारे रक्त प्रवाहित होणे सोपे करते.
  • नायट्रेट्स. या प्रकारची औषधे आपल्या रक्तवाहिन्या शिथिल करते, जे आपल्या हृदय स्नायूंमध्ये अधिक रक्त प्रवाहित करण्यास अनुमती देते. रक्तवाहिनी आकुंचन संबंधित छातीची अस्वस्थता जीभेखाली नायट्रेट गोळी घेऊन दूर केली जाऊ शकते.
  • बेटा ब्लॉकर्स. ही औषधी एपिनफ्राइन हार्मोन चे परिणाम अवरोधित करते आणि रक्त दाब कमी करून हृदय स्पंदने मंद करते. बेटा
  • स्टॅटिन्स. ही औषधी कोलेस्टरोल कमी करण्यासाठी वापरले जाते.
  • कॅल्शियम चॅनेल ब्लॉकर. धमन्यांच्या भिंतीतील स्नायू पेशींवर परिणाम करून ही औषधी रक्त वाहिन्या शिथिल करते आणि विस्तारीत करते.
  • अँजिओटेन्सिन- कनव्हर्टिंग एन्झायम (ACE) इन्हिबीटर. ही औषधी रक्त वाहिन्या शिथिल करण्यासाठी देखील वापरल्या जातात.
  • रॉनोलाझिन. हे औषध इतर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग औषधोपचारासह किंवा एकटे वापरले जाते, विशिष्टपणे रक्तवाहिनी आकुंचन रोगावर वापरले जाते.

वैद्यकिय प्रक्रिया आणि शस्त्रक्रिया

  • अँजिओप्लास्टी आणि स्टेंटिंग. हे अस्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोग किंवा जीवनशैली बदल आणि औषधोपचार प्रभावीरित्या आपल्या जुन्या, स्थिर रक्तवाहिनी आकुंचन रोगावर उपचार करत नाही तेव्हा वापरले जातात.
  • हृदय रोहिणी बायपास शस्त्रक्रिया. याची असंख्य अडथळे किंवा उदाहरणे असलेल्या रूग्णांसाठी जिथे अडथळ्यांवर स्टेन्टींगद्वारे उपचार न करण्याची स्थिती असल्यास शिफारस केली जाते. ही हृदय धमन्यांवरील मोठी शस्त्रक्रिया असते आणि आपल्या शरीराच्या इतर भागाचा वापर करून किंवा सिंथेटीक फॅब्रिकद्वारे वापरलेली नळी वापरून एक कलम बायपास समाविष्ट करते. या प्रक्रियेसह, अवरोधित किंवा संकुचित धमन्यांमध्ये रक्त प्रवाह सुरू ठेवला जातो.

प्रतिबंध

जीवनशैली आपल्याला रक्त आकुंचन प्रतिबंधित करण्यास सहाय्यक करते. यात हे समाविष्ट होते:

  • धूम्रपान बंद करें.
  • आठवड्याच्या जास्तीत जास्त दिवसांमध्ये व्यायाम करा.
  • आरोग्यदायी अन्न खा.
  • अतिरीक्त पांऊंड वजन कमी करा आणि स्वास्थ्यपूर्ण वजन कायम ठेवा.
  • तणावाचे व्यवस्थापन करा.
  • आपल्याला उच्च कोलेस्टरोल, उच्च रक्त दाब, मधूमेह किंवा इतर जुना आजार असल्यास स्थिती व्यस्थापित करण्यासाठी आणि एकुणच संपूर्ण स्वास्थ्य जपण्यासाठी आपल्या डॉक्टरांसह कार्य करा.

बाह्य लिंक/संदर्भ -

एंजाइना पेक्टोरिस (हृत्शूल)

  • संक्षिप्त विवरण
  • कारण
  • लक्षण
  • जटिलताएँ
  • निदान
  • उपचार
  • रोकथाम

हृदय की माँसपेशियों में कम रक्त प्रवाह के कारण सीने में दर्द होता है, जिसे एंजाइना पेक्टोरिस (हृत्शूल) कहा जाता है. एंजाइना, कोरोनरी आर्टरी रोग का एक लक्षण है. हृदय की माँसपेशियों में ऑक्सीजन से भरपूर रक्त की अपर्याप्त मात्रा पहुँचने पर कोई व्यक्ति दर्द महसूस कर सकता है. रक्त का यह कम प्रवाह कोरोनरी आर्टरी रोग के कारण होता है. कोरोनरी आर्टरी रोग में, कोरोनरी रक्त वाहिकाओं के भीतर प्लाक जमा हो जाता है. एंजाइना से संबंधित दर्द को विशिष्ट रूप से आपके सीने में ऐंठन, प्रेशर, भारीपन, तनाव या दर्द के रूप में वर्णित किया जाता है. अधिकांश मरीजों के बताए अनुसार इसका सामान्य संकेत ऐसा महसूस होना है कि जैसे ‘कोई उनके सीने पर सवार है’. सामान्य स्थिति में एंजाइना में सीने में ही दर्द होता है, लेकिन यह दर्द कंधों, भुजाओं, गर्दन, गले, जबड़े, या पीठ में भी महूसस हो सकता है.

एंजाइना पेक्टोरिस बार-बार आने वाली समस्या या अचानक आने वाली घातक स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो सकती है. हालाँकि एंजाइना सामान्य समस्या है, फिर भी इसे अन्य प्रकार के सीने के दर्द से अलग करना कठिन हो सकता है. विस्मित करने वाला सबसे सामान्य कारक है दर्द या बदहज़मी की तकलीफ होना. यदि आपके सीने में रहस्यमय दर्द होता हो तो तत्काल चिकित्सकीय परामर्श लें.

health-img1

एंजाइना निम्न तीन प्रकार का हो सकता है:

  • स्टेबल एंजाइना.इस प्रकार के एंजाइना में दर्द का आभास पहले ही हो जाता है और यह केवल परिश्रम या अत्यधिक भावात्मक दुख के दौरान सामने आता है. सामान्यत: यह आराम करने से समाप्त हो जाता है.
  • अनस्टेबल एंजाइना.इस प्रकार का एंजाइना, हृदयाघात का संकेत हो सकता है. अनस्टेबल एंजाइना ऐसा एंजाइना दर्द होता है जो आपके नियमित एंजाइना दर्द या विश्राम के दौरान उत्पन्न होने वाले दर्द से भिन्न होता है. इस प्रकार के एंजाइना के विशिष्ट लक्षण हैं कि यह अक्सर हो सकता है, विश्राम के दौरान आसानी से हो सकता है, अधिक गंभीर लगता है, लंबे समय तक होता है या यह मामूली गतिविधि से ही हो सकता है. ज्यादातर मामलों में, इस प्रकार के एंजाइना में औषधोपचार से राहत मिल जाती है. लेकिन, यह अस्थिर होता है और यह आने वाले समय में हृदयाघात में बदल सकता है. इससे राहत पाने के लिए, गहन चिकित्सा या सर्जिकल उपचार या कार्यविधि की आवश्यकता होती है.
  • प्रिंजमेटल एंजाइना.विश्राम की स्थिति में होने वाले एंजाइना को प्रिंजमेटल एंजाइना कहा जाता है. यह विश्राम की स्थिति में, सोते समय, या ठंडे वातावरण में जाने पर हो सकता है. इसका कारण अधिकांशत: कोरोनरी आर्टरी के ऐंठन से हृदय की माँसपेशी तक रक्त का कम प्रवाह होता है. अधिकांश लोगों में इस प्रकार का एंजाइना, कोरोनरी आर्टरी रोग से संबंधित होता है. ये ऐंठन अवरोध के निकट होती हैं.

हृदय की माँसपेशियों तक रक्त के कम प्रवाह के कारण एंजाइना होता है. रक्त, ऑक्सीज़न का वाहक होता है, जिसकी आवश्यकता आपके हृदय की माँसपेशी को अपना अस्तित्व बनाए रखने के लिए होती है. हृदय की माँसपेशी को पर्याप्त ऑक्सीज़न नहीं मिलने की स्थिति में उत्पन्न होने वाली दशा को इस्केमिया (स्थानिक-अरक्तता) कहा जाता है. कोरोनरी आर्टरी रोग (CAD) आपके हृदय की माँसपेशियों तक कम रक्त प्रवाह का प्रमुख सामान्य कारण होता है. हृदय की धमनियाँ (कोरोनरी धमनियाँ), वसा के जमाव से सँकरी हो जाती हैं, जिसे प्लाक कहते हैं. यह एथीरोस्कलेरोसिस कहलाता है.

कम रक्त प्रवाह के कारण होने वाला एंजाइना, सप्लाई संबंधी समस्या है, जिसमें हृदय को ऑक्सीजन से भरपूर रक्त पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाता है. इस पर ध्यान देना दिलचस्प हो सकता है कि वसा के जमाव के कारण किसी व्यक्ति के हृ्दय की धमनियाँ सँकरी हो जाने पर, हमेशा यह जरूरी नहीं है कि उसे एंजाइना ही है. उसका कारण यह है कि ऑक्सीजन की कम माँग के समय — उदाहरण के लिए, जब आप विश्राम कर रहे होते हैं — तो आपके हृदय की माँसपेशी, एंजाइना के लक्षण सक्रिय नहीं होने पर भी रक्त प्रवाह की कम मात्रा ही प्राप्त कर पाती है. जब ऑक्सीजन की माँग अचानक बढ़ जाती है, जैसे कि आपके व्यायाम करते समय, तब एंजाइना हो सकता है.

किसी परिवार में CAD या स्ट्रोक का पॉज़िटिव इतिहास यह संकेत करता है कि जिन परिवारों में ये दशाएँ नहीं है, उनके लोगों के बजाय इनमें अनस्टेबल एंजाइना विकसित होने का जोखिम अधिक है. अनस्टेबल एंजाइना के अन्य जोखिम जीवनशैली से संबंधित हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • धूम्रपान
  • उच्च कोलेस्टेरॉल
  • निष्क्रिय जीवनशैली
  • उच्च रक्तचाप
  • अधिक-वसा, उच्च-कोलेस्ट्रॉल वाला भोजन करना
  • डायबिटीज़ होना
  • 30 प्रतिशत अधिक वजन होना
  • कोकीन या अन्य नशीली दवाओं का सेवन करना

एंजाइना के लक्षणों में शामिल हैं:

  • सीने में दर्द या घबराहट
  • सीने में दर्द के साथ-साथ भुजाओं, गर्दन, जबड़े, कंधे या पीठ में दर्द
  • मतली
  • थकान
  • साँस लेने में परेशानी
  • चिंता
  • पसीना आना
  • चक्कर आना

एंजाइना के साथ सामान्य तौर पर होने वाले सीने के दर्द और तकलीफ़ के विशिष्ट लक्षण प्रेशर गिरना, ऐंठन, भारीपन या सीने के बीच में दर्द होना हैं. कुछ लोगों के अनुभव के अनुसार इसमें ऐसा लगता है जैसे कोई उनके सीने को मरोड़ रहा हो, या जैसे उनके सीने में भारी वज़न रख दिया गया हो.

एंजाइना की गंभीरता, अवधि और प्रकार में अंतर होता है. किसी को नया या बदला हुआ सीने का दर्द होने पर, तत्काल चिकित्सकीय सहायता दी जानी चाहिए. नए या अलग लक्षण, एंजाइना के गंभीर रूप (अनस्टेबल एंजाइना) या हृदयाघात का संकेत हो सकते हैं.

एंजाइना का सबसे सामान्य रूप स्टेबल एंजाइना है. यह विशिष्टि रूप से अधिक श्रम से होता है और विश्राम करने पर समाप्त हो जाता है. जब पहले से स्वस्थ किसी व्यक्ति को सीने में नए तरह के तेज़ दर्द का एहसास होता है, तो चिकित्सक से मिलकर सीने के दर्द का कारण जानना और उचित उपाचार प्राप्त करना महत्वपूर्ण होता है. यदि आपका स्टेबल एंजाइना अधिक गंभीर हो जाता है या इसमें बदलाव आता है, तो तत्काल चिकित्सकीय सहायता लें.

स्टेबल एंजाइना के अभिलक्षण

  • जब आपका हृदय कठिन श्रम करता है, जैसे जब आप व्यायाम करते हैं या सीढ़ियाँ चढ़ते हैं, तो यह दर्द होता है
  • पूर्वानुमेय एंजाइना और सीने में होने वाला पहले की तरह का दर्द सामान्यत: एक जैसे होते हैं
  • यह दर्द बहुत कम समय, लगभग पाँच मिनट या इससे कम समय तक होता है
  • यदि आप विश्राम कर लेते हैं या एंजाइना औषधोपचार लेते हैं, तो यह दर्द जल्द ही समाप्त हो जाता है
  • बदहजमी जैसा लग सकता है
  • यह दर्द आपकी भुजाओं, पीठ या अन्य भागों में भी फैल सकता है
  • यह दर्द मानसिक या भावात्मक तनाव के चलते सक्रिय हो सकता है

अनस्टेबल एंजाइना के अभिलक्षण (चिकित्सकीय आपातकाल)

  • यह विश्राम के समय भी हो सकता है
  • यह एंजाइना के सामान्य प्रकार से अलग होता है
  • यह दर्द अनपेक्षित रूप से उत्पन्न होता है
  • स्टेबल एंजाइना की अपेक्षा ज्यादा गंभीर होता है और लंबे समय तक चलता है, 30 मिनट तक लंबा हो सकता है
  • हो सकता है कि विश्राम करने या एंजाइना के औषधोपचार से दर्द समाप्त न हो
  • यह हृदयाघात का संकेत हो सकता है

वेरिएंट एंजाइना (प्रिंजमेटल एंजाइना) के अभिलक्षण

  • यह विश्राम के समय होता है
  • यह अक्सर गंभीर होता है
  • एंजाइना के औषधोपचार से दूर हो जाता है
  • यह असाधारण होता है — एंजाइना के मामलों में से लगभग 2 प्रतिशत ही प्रिंजमेटल एंजाइना के होते हैं. इस प्रकार का एंजाइना आपकी हृदय की धमनियों में ऐंठन के कारण होता है जो रक्त का प्रवाह अस्थायी तौर पर कम कर देती हैं.

महिलाओं में एंजाइना

महिलाओं में एंजाइना के लक्षण एंजाइना के पारंपरिक लक्षणों से भिन्न हो सकते हैं. उदाहरण के लिए, किसी महिला को जकड़न वाले अधिक विशिष्ट प्रेशर की बजाय चुभने वाला, धड़कन बढ़ाने वाला या तेज़ सीने का दर्द महसूस हो सकता है. महिलाओं में इससे संबंधित लक्षण जैसे मतली आना, साँस लेने में परेशानी या पेट में दर्द होना सामान्य हैं. इन भिन्नताओं के चलते उपचार लेने के बारे में सोचने में देर हो सकती है.

एंजाइना की सबसे चिंताजनक और खतरनाक जटिलता हृदयाघात है. हृदयाघात के सामान्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • प्रेशर, आपके सीने के बीच में भारीपन या ऐंठन वाला दर्द जो कुछ मिनट से अधिक देर तक होता है
  • दर्द आपके सीने से आपके कंधे, भुजा, पीठ, या यहाँ तक कि आपके दाँत और जबड़े की ओर बढ़ता जाता है
  • सीने के दर्द की आवृत्ति में बढ़ोतरी
  • पेट के ऊपरी भाग में लंबे समय तक दर्द
  • साँस लेने में परेशानी
  • पसीना आना
  • कुछ बुरा होने की चिंता होना
  • बेहोशी
  • मतली आना और उल्टी होना

यदि आपमें इनमें से कोई लक्षण हों तो आपातकालीन चिकित्सा परामर्श लें.

एंजाइना के निदान के लिए, आपका चिकित्सक शुरू में शारीरिक परीक्षण करेगा और आपके लक्षणों के बारे में पूछेगा. आपसे हृदय रोग के पारिवारिक इतिहास सहित अन्य जोखिम कारकों के बारे में भी पूछा जाएगा.

आपको एंजाइना है या नहीं, इसकी पुष्टि करने के लिए आपका चिकित्सक कई टेस्ट कराने को कह सकता है:

  • इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG). यह आपके हृदय में सिग्नल संचारित होने की स्थिति की इलेक्ट्रिकल रिकॉर्डिंग है. ECG से पिछले हृदयाघात का प्रमाण मिल सकता है. यदि आपके एथीरोस्कलेरोसिस के संकेत और लक्षण व्यायाम के दौरान अधिक प्रकट होते हैं, तो आपका चिकित्सक ECG के दौरान आपसे ट्रेडमिल पर चलने या स्थिर बाइक चलाने के लिए कह सकता है.
  • स्ट्रेस टेस्ट. स्ट्रेस टेस्ट एक तरह का व्यायाम स्ट्रेस टेस्ट भी होता है. शारीरिक गतिविधि के दौरान आपका हृदय किस तरह से कार्य करता है, इसकी जानकारी एकत्रित करने के लिए IT का उपयोग किया जाता है. अधिकांश दैनिक गतिविधियों की तुलना में बाइक या ट्रेडमिल पर व्यायाम करने पर आपका हृदय अपेक्षाकृत अधिक और तेज़ पंपिंग करता है. व्यायाम के समय और उसके बाद हृदय का परीक्षण करने से आपके हृ्दय के भीतर की ऐसी समस्या का पता लग सकता है, जिस पर हो सकता है कि ध्यान नहीं दिया गया हो. सामान्यत: इस कार्यविधि में ट्रेडमिल पर चलना या कोई स्थिर बाइक चलाना शामिल होते हैं, जिसके दौरान आपके हृ्दय की रिद्म व रक्तचाप और श्वसन को मॉनिटर किया जाता है. कुछ प्रकार के स्ट्रेस टेस्ट जैसे स्ट्रेस इकोकार्डियोग्राम (अल्ट्रासाउंड) या न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट के दौरान आपके हृ्दय का चित्र लिया जाएगा. ऐसे रोगियों में, जो किसी कारणवश व्यायाम नहीं कर पाते हैं, उनके हृदय की पंपिंग बढ़ाने के लिए हृदय पर व्यायाम का प्रभाव उत्पन्न करने वाले औषधोपचार का उपयोग किया जाता है.
  • सीने का X-रे. इस टेस्ट के द्वारा आपके हृदय और फ़ेफ़ड़ों की छवियाँ प्रदर्शित की जाती हैं. इसके अलावा, अन्य दशाएँ भी देखी जा सकती हैं, जो आपके लक्षणों को स्पष्ट कर सकती हैं और यह भी देखा जा सकता है कि कहीं आपके हृ्दय का आकार बढ़ा हुआ तो नहीं है.
  • इकोकार्डियोग्राम. यह हृदय की छवियाँ लेने के लिए आपके हृ्दय के अल्ट्रासाउंड परीक्षण का एक प्रकार है. आपके हृदय के ऐसे क्षेत्र जिन्हें पर्याप्त रक्त नहीं मिल रहा हो या हृदय की ऐसी माँसपेशी जो कम रक्त प्रवाह के कारण क्षतिग्रस्त हो गई हो, इसके साथ ही एंजाइना-संबंधी समस्याओं की पहचान करने के लिए ये छवियाँ चिकित्सक द्वारा देखी जाती हैं. कभी-कभी, स्ट्रेस टेस्ट के दौरान इकोकार्डियोग्राम किया जाता है.
  • न्यूक्लियर स्ट्रेस टेस्ट. यह टेस्ट विश्राम करने और तनाव के समय आपके हृदय की माँसपेशी तक होने वाले रक्त प्रवाह को जानने के लिए किया जाता है. यह नियमित स्ट्रेट टेस्ट के समान होता है, लेकिन इसमें रेडियोधर्मी पदार्थ का उपयोग होता है.
  • कोरोनरी एंजियोग्राफ़ी. इस टेस्ट से कोरोनरी धमनियों के सँकरी या अवरोधित होने का पता लगाया जा सकता है. इस परीक्षण के तहत लिक्विड डाइ को एक लंबी पतली ट्यूब (कैथेटर) के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों में इंजेक्ट किया जाता है, जो सामान्यत: आपके पैर की धमनी के माध्यम से आपके हृ्दय की धमनियों तक पहुँचाई जाती है. एक्स-रे पर धमनियाँ दिखाई देने लगती हैं, क्योंकि डाइ आपकी धमनियों में भर जाती है. इसके बाद अवरोध वाले किसी भी क्षेत्र का पता लगाया जा सकता है.
  • रक्त के टेस्ट. यदि आपका हृदय, हृदयाघात से क्षतिग्रस्त हो गया है, तो ऐसे में रक्त में धीरे-धीरे लीक होने वाले हृ्दय के विशिष्ट एंजाइम के स्तर में वृद्धि देखने के लिए रक्त का टेस्ट किया जाता है.
  • कार्डिएक कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफ़्री (CT) स्कैन. इस टेस्ट के दौरान, आपको डॉनट के आकार की मशीन के भीतर टेबल पर लिटा दिया जाता हैं. मशीन के भीतर X-रे टूयब होती है जो आपके शरीर के चारों ओर घूमती है और आपके हृदय और सीने की छवियाँ लेती है. यदि आपके हृदय की कोई धमनी सँकरी हो गई है या आपके हृ्दय का आकार बढ़ गया है तो ये छवियाँ उसे प्रदर्शित कर सकती हैं.

एंजाइना के उपचार के कई विकल्प हैं, जिनमें जीवनशैली संबंधी परिवर्तन, औषधोपचार, एंजियोप्लास्टी (रक्तवाहिका संधान) और स्टेंट लगाना या कोरोनरी बायपास सर्जरी शामिल हैं. उपचार का उद्देश्य आपके लक्षणों की आवृत्ति व गंभीरता को कम करना और आपमें हृदयाघात और मृत्यु के जोखिम को कम करना होता है.

जीवनशैली संबंधी परिवर्तन

  • धूम्रपान बंद करें.
  • सप्ताह के अधिकांश दिनों में व्यायाम करें.
  • पौष्टिक आहार लें.
  • अधिक आहार से बचें.
  • अतिरिक्त वज़न कम करें और संतुलित वज़न बनाए रखें.
  • तनाव नियंत्रित करें.
  • यदि आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज या अन्य दीर्घकालिक रोग हैं, तो इस दशा को नियंत्रित करने और संपूर्ण स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अपने चिकित्सक से सलाह लें.
  • स्वयं को संतुलित रखें और समय-समय पर विराम लें, क्योंकि एंजाइना अक्सर परिश्रम के कारण उत्पन्न होता है.

औषधोपचार

यदि केवल जीवनशैली संबंधी परिवर्तनों से आपके एंजाइना में सुधार न हो रहा हो तो औषधोपचार आवश्यक होते हैं. औषधोपचार में शामिल हो सकते हैं:

  • ऐस्पिरिन. यह आपके रक्त की थक्का जमाने की क्षमता को घटाकर हृदय की सँकरी धमनियों से रक्त के प्रवाह को आसान बनाती है.
  • नाइट्रेट्स. औषधि का यह वर्ग, आपकी रक्त नलिकाओं को शिथिल करके उन्हें चौड़ा करता है, जिससे आपके हृदय की माँसपेशियों तक अधिक रक्त प्रवाहित हो पाता है. एंजाइना से संबंधित सीने के दर्द की तकलीफ़ जीभ के नीचे नाइट्रेट की गोली लेने से दूर हो जाती है.
  • बीटा ब्लॉकर्स. ये औषधियाँ एपीनेफ़्रिन हार्मोन के प्रभावों को अवरोधित करती हैं और हृदय की धड़कन कम कर देती हैं, जिससे कारण रक्तचाप कम हो जाता है. बीटा
  • स्टेटिन्स. ये औषधियाँ कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए उपयोग की जाती हैं.
  • कैल्शियम चैनल ब्लॉकर्स. ये औषधियाँ धमनी की भित्ति में माँसपेशीय कोशिकाओं को प्रभावित करके रक्त नलिकाओं को शिथिल और चौड़ा करती हैं.
  • एंजियोटेंसिन-कन्वर्टिंग एंजाइम (ACE) इन्हिबिटर्स. इन औषधियों का उपयोग भी रक्त नलिकाओं को शिथिल करने के लिए किया जाता है.
  • रेनोलैज़िन. इस औषधि का उपयोग अकेले या अन्य एंजाइना औषधोपचार के साथ किया जाता है, यह विशेष रूप से एंजाइना का उपचार करती है.

चिकित्सकीय कार्यविधियाँ और सर्जरी

  • एंजियोप्लास्टी (रक्तवाहिका संधान) और स्टेंटिंग. अनस्टेबल एंजाइना होने पर, या आपके दीर्घकालिक स्टेबल एंजाइना का उपचार जीवनशैली संबंधी परिवर्तन और औषधोपचार से प्रभावी तरीके से नहीं हो पाने पर इनका उपयोग किया जाता है.
  • कोरोनरी आर्टरी बायपास सर्जरी. इसकी अनुशंसा ऐसे मरीजों में की जाती है जिनमें कई अवरोध होते हैं या ऐसी अवस्था में जिसमें अवरोध ऐसी स्थिति में होते हैं कि उनका उपचार स्टेंटिंग से नहीं किया जा सकता. यह हृदय की धमनियों की एक वृहद सर्जरी होती है और इसमें शरीर के किसी भाग से नस निकालकर या सिंथेटिक फ़ैब्रिक से बनी ट्यूब के उपयोग से ग्राफ़्ट बायपास बनाया जाता है. इस कार्यविधि से, रक्त प्रवाह अवरोधित या सँकरी धमनी के आसपास बनाए रखा जाता है.

जीवनशैली संबंधी बदलाव एंजाइना से बचाने में आपकी मदद कर सकते हैं. इनमें ये शामिल हैं:

  • धूम्रपान बंद करें.
  • सप्ताह के अधिकांश दिनों में व्यायाम करें..
  • पौष्टिक आहार लें.
  • अतिरिक्त वज़न कम करें और संतुलित वज़न बनाए रखें.
  • तनाव नियंत्रित करें.
  • यदि आपको उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज या अन्य दीर्घकालिक बीमारियाँ हैं, तो इस दशा को नियंत्रित करने और संपूर्ण स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अपने चिकित्सक से सलाह लें.

बाह्य लिंक/संदर्भ -

ask me

(Ask a specific question regarding your health issues, which may be answered by Dr.Suresh Suryawanshi)

  • error message will be here
  • error message will be here
  • error message will be here
error message will be here